25 C
Mumbai
Tuesday, July 23, 2024
होमदेश दुनियाRBI द्वारा ख़रीदा 100 टन सोना अब इंग्लैंड के खजाने में नहीं...

RBI द्वारा ख़रीदा 100 टन सोना अब इंग्लैंड के खजाने में नहीं रहेगा?

Google News Follow

Related

भारतीय रिजर्व बैंक सोना विदेश से खरीदने जा रहा है। भारतीय रिजर्व बैंक बड़े पैमाने पर सोना खरीद रहा है। फिलहाल आरबीआई के पास 822.1 टन सोना है। उसमें से आधा सोना विदेश में है| इसके अलावा विदेशों में जमा 100 टन सोना भी स्वदेश लाया जा रहा है। सेंट्रल बैंक ने ब्रिटेन में खरीदा गया 100 टन सोना भी भारत में ट्रांसफर कर दिया है।

भारत द्वारा खरीदा गया सोना अब इंग्लैंड के खजाने में नहीं रहेगा: भारतीय रिजर्व बैंक ने हाल ही में सोने की बड़ी खरीदारी की है। साथ ही, सेंट्रल बैंक ने ब्रिटेन में खरीदा गया 100 टन से अधिक सोना देश में अपने भंडार में स्थानांतरित कर दिया है। 33 साल बाद पहली बार सेंट्रल बैंक ने अपने रिजर्व में इतना सोना रखा है| यानी भारत द्वारा खरीदा गया सोना अब इंग्लैंड के खजाने में नहीं रहेगा. इसके बजाय, इसे अब भारतीय रिजर्व बैंक में रखा जाएगा।

देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए सोने की खरीदारी: इस बीच, प्राप्त जानकारी के अनुसार, आरबीआई के पास मार्च के अंत में 822.1 टन सोना था। इसमें से आरबीआई ने 413.8 टन सोना विदेश में रखा है। वहीं, पिछले वित्त वर्ष में आरबीआई ने अपने भंडार में 27.5 टन सोना जोड़ा था। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर आरबीआई विदेशों से इतना सोना क्यों खरीद रहा है।

आरबीआई धीरे-धीरे विदेशों में जमा सोने की मात्रा कम कर भारत ला रहा है। देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए भारत अपना सोना वापस ला रहा है। भारत को अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए अधिक सोने की जरूरत है। भारत देश में सोने का भंडार बढ़ाने की योजना बना रहा है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने-चांदी की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी: इस बीच, अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने और चांदी की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है| यह बढ़ोतरी पिछले कई दिनों से जारी है| इसलिए आम नागरिक सोना नहीं खरीद सकते। इसीलिए बड़े-बड़े बैंक, संस्थान बड़ी मात्रा में सोना खरीद रहे हैं। क्योंकि सोने में निवेश काफी फायदेमंद माना जाता है। इस निवेश पर भारी रिटर्न मिल रहा है| सोने की कीमत दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसके चलते कई बैंकों और संस्थानों का रुझान सोने में निवेश की ओर बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें-

स्वाति मालीवाल मामले में कोर्ट ने खारिज की जनहित याचिका, लगाई फटकार!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,495फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें