27 C
Mumbai
Thursday, July 25, 2024
होमदेश दुनियाकन्याकुमारी के अनुभव को याद करते हुए वोटिंग परिणाम से एक दिन...

कन्याकुमारी के अनुभव को याद करते हुए वोटिंग परिणाम से एक दिन पहले मोदी की पोस्ट!

Google News Follow

Related

लोकसभा चुनाव के सभी सात चरण एक जून को खत्म हो चुके हैं| लोकसभा चुनाव को देश के लोकतंत्र के उत्सव के रूप में देखा जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कन्याकुमारी में तीन दिनों तक ध्यान किया| 1 जून के मतदान चरण से पहले कन्याकुमारी जाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की गई थी। विरोधियों ने यह भी आरोप लगाया कि उन्होंने आचार संहिता का उल्लंघन किया है| ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी ने चिंतन के बाद नए संकल्पों का एक पोस्ट लिखा है| जिसकी चर्चा है|

क्या है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पोस्ट?: लोकतंत्र की जननी हमारे देश में लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव हो चुका है| आध्यात्मिक संगति में तीन दिन बिताने के बाद, मैं दिल्ली के लिए विमान पकड़ रहा हूँ। मैं एक विशेष ऊर्जा के साथ जा रहा हूं।’ 2024 के चुनाव में मैंने कई सुखद संयोग भी देखे हैं। हमारा देश अमर युग में है। मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि मैंने अपनी आखिरी प्रचार बैठक पंजाब में की। उसके बाद मैं कन्याकुमारी आया और शांति मिली। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं इस स्थान पर भारत माता के चरणों में बैठा हूं।

जब मैंने ध्यान करना शुरू किया तो बहुत शोर था: जब मैंने ध्यान करना शुरू किया तो सबसे पहले मेरे दिमाग में बहुत शोर था। मेरी चुनाव प्रचार सभाएं, रैलियां, लाखों माताओं-बहनों का आशीर्वाद, उनका असीम प्रेम, विश्वास और स्नेह, सब मेरे सामने आ रहा था। इससे मेरी आंखों में आंसू आ गए| धीरे-धीरे मैं शून्यता में जाने लगा, योगाभ्यास शुरू हुआ।

कुछ देर बाद मुझे राजनीतिक बहसें, आरोप-प्रत्यारोप, मुझे दी गई बदनामी याद आ गई| लेकिन मैं कहीं नहीं जा रहा था| मेरे मन में घृणा का भाव उत्पन्न हो गया| मेरे मन और बाहरी दुनिया के बीच का संबंध धीरे-धीरे ख़त्म हो गया। इतनी बड़ी जिम्मेदारी निभाते हुए इस तरह ध्यान करना कठिन है। लेकिन स्वामी विवेकानंद की प्रेरणा से मैं यह हासिल कर सका। कन्या कुमारी के उगते सूरज ने मेरे विचारों को एक नई ऊँचाई दी। तो समुद्र की विशालता ने मेरे विचारों को मजबूत कर दिया। मैं ब्रह्मांड में एक सुंदर शांति और एकाग्रता का अनुभव करते हुए ध्यान में चला गया।

संगमों की भूमि है कन्याकुमारी: कन्याकुमारी संगमों की भूमि है। हमारे देश की पवित्र नदियाँ विभिन्न समुद्रों में बहती हैं और यह समुद्रों का संगम है। इस स्थान पर विवेकानन्द स्मारक के साथ-साथ संत तिरुवल्लुर की विशाल प्रतिमा, गांधी मंडपम और कामराजार मंडपम भी हैं। भारत हजारों वर्षों से विचारों के आदान-प्रदान की भूमि रहा है। देश ने हमें आर्थिक और भौतिक मापदंडों से आगे बढ़कर विचार की शक्ति दी है। विश्व कल्याण के साथ भारत के कल्याण का विचार भी यहीं से आया है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण हमारा स्वतंत्रता संग्राम है।

21वीं सदी में दुनिया भारत की ओर देख रही है: 21वीं सदी में दुनिया आज भारत की ओर बड़ी आशा भरी नजरों से देख रही है। वैश्विक परिदृश्य को देखते हुए हमें भी आगे बढ़ने के लिए कुछ बदलाव करने होंगे। हमें सुधारों को लेकर पारंपरिक सोच को भी बदलना होगा। भारत में सुधारों को केवल आर्थिक बदलावों तक ही सीमित नहीं रखा जा सकता। हमें जीवन के हर क्षेत्र में सुधार की ओर बढ़ना होगा। हमारे सुधार विकसित भारत 2047 के दृष्टिकोण के अनुरूप होने चाहिए।

हमें यह भी समझना होगा कि किसी देश के लिए सुधार कभी भी एकतरफा प्रक्रिया नहीं हो सकती। इसलिए मैंने देश के लिए रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म का दृष्टिकोण रखा है। सुधार नेतृत्व की जिम्मेदारी है| जब नौकरशाही उस आधार पर कार्य करती है और लोगों को जन समर्थन में शामिल किया जाता है, तो परिवर्तन होना शुरू हो जाता है।

यह भी पढ़ें-

Exit Poll 2024: कई एग्जिट पोल में फिर मोदी सरकार, चाणक्य पोल ने बढ़ाई ‘इंडिया’ अलायंस की टेंशन!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,488फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
167,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें