25 C
Mumbai
Tuesday, July 23, 2024
होमदेश दुनियाकेंद्रीय कैबिनेट में कितने लोगों की ​लगेगी​ लॉटरी? समझौता करेगी जंबो कैबिनेट?​

केंद्रीय कैबिनेट में कितने लोगों की ​लगेगी​ लॉटरी? समझौता करेगी जंबो कैबिनेट?​

Google News Follow

Related

​​केंद्र में एक बार फिर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार सत्ता में आ रही है। मोदी को एनडीए का नेता चुन लिया गया है​|​ अब मोदी 9 जून की शाम को शपथ लेंगे​|​ कुछ को उनके साथ शपथ दिलाई जा सकती है​|​ हर पार्टी अपने सांसद के नाम पर चर्चा में जुट गई है​, लेकिन आधिकारिक तौर पर कुछ भी सामने नहीं आया है​|​ कल तस्वीर साफ हो जाएगी​|​ भाजपा​ में घटक दलों के साथ कितने लोग मंत्री बनते हैं, यह सामने आ जायेगा​|​

केंद्र में जंबो कैबिनेट?: राज्य के संविधान के अनुसार, केंद्रीय मंत्रिमंडल में सदस्यों की संख्या लोकसभा में कुल सदस्यों की संख्या से निर्धारित होती है। लोकसभा के कुल सदस्यों में से 15 प्रतिशत मंत्री हो सकते हैं। यानी अगर लोकसभा में 543 सदस्य हैं तो उसके 15 फीसदी मंत्री केंद्र में हो सकते हैं​|​ इस आधार पर पीएम मोदी की कैबिनेट में 81-82 मंत्री हो सकते हैं​|​

​राज्य संविधान के अनुसार मंत्रिमंडल का गठन: केंद्रीय मंत्रिमंडल का गठन भारत के संविधान के अनुच्छेद 74, 75 और 77 के अनुसार किया जाएगा। अनुच्छेद 74 के अनुसार राष्ट्रपति प्रधानमंत्री की सलाह पर मंत्रिमंडल का गठन करता है। प्रधानमंत्री मंत्रिमंडल का सर्वोच्च पद है। उनकी सहायता के लिए राष्ट्रपति मंत्रिमंडल के गठन को मंजूरी देते हैं। संविधान के अनुच्छेद 75(1) के अनुसार, प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। वह प्रधानमंत्री से मंत्रिमंडल के अन्य सदस्यों के बारे में चर्चा करते हैं। मंत्रिमंडल विस्तार का विशेषाधिकार उनके पास है​|​

​केंद्रीय मंत्रिमंडल लोकसभा के प्रति जवाबदेह: राज्य संविधान के अनुच्छेद 77 के अनुसार सरकारी मंत्रालयों, विभागों का गठन किया जाता है। प्रधानमंत्री की सलाह पर प्रत्येक मंत्री को हिसाब-किताब और जिम्मेदारी सौंपी जाती है। केंद्रीय मंत्रिमंडल सामूहिक रूप से लोकसभा के प्रति उत्तरदायी है। काम में आसानी के लिए मंत्रियों को एक सामान्य प्रशासन और एक सचिव द्वारा सहायता प्रदान की जाती है।

केंद्र में तीन प्रकार के मंत्री: भारत के केंद्रीय मंत्रिमंडल के पास एक मंत्रालय के मामलों की देखभाल के लिए एक निर्धारित प्रणाली है। उसके लिए तीन प्रकार के मंत्री होते हैं​|​ इनमें कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री और राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) शामिल हैं। कैबिनेट मंत्री सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करते हैं। कैबिनेट मंत्री एक से अधिक खाते रख सकते हैं​|​​ कैबिनेट मंत्रियों के अलावा, कम जिम्मेदारी वाले कुछ खाते राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) को सौंपे जाते हैं। वे कामकाज की रिपोर्ट भी प्रधानमंत्री को सौंपते हैं​, लेकिन वे कैबिनेट बैठक में हिस्सा नहीं ले सकते​|​

यह भी पढ़ें-

Ramoji Rao Passes Away: रामोजी फिल्म सिटी की सपनों की दुनिया बसाने वाले अब नहीं रहे!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,495फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें