27 C
Mumbai
Thursday, July 25, 2024
होमदेश दुनियातमाम खटास के बाद भी मालदीव की मदद के लिए भारत का...

तमाम खटास के बाद भी मालदीव की मदद के लिए भारत का बढ़ा हाथ!

Google News Follow

Related

भारत देश में निर्मित उत्पादों को विभिन्न देशों में निर्यात करता है। इस माध्यम से भारत का अन्य देशों के साथ बड़ा व्यापार होता है। ऐसे में भारत ने मालदीव की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है|भारत अब मालदीव को चावल, गेहूं, चीनी और प्याज का निर्यात करेगा। मालदीव सरकार ने भारत से जरूरी सामान भेजने का अनुरोध किया था, जिसके मुताबिक भारत ने मालदीव की मदद करने का फैसला किया है|

भारत मालदीव को गेहूं, चावल, प्याज, चीनी निर्यात करेगा: भारत और मालदीव के बीच एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। इस समझौते के अनुसार, भारत मालदीव को आवश्यक वस्तुओं का निर्यात करेगा। इसमें गेहूं, चावल, प्याज, चीनी शामिल हैं। इस बीच भारत ने इन सभी वस्तुओं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। ऐसे में भारत ने इन सामानों को मालदीव को निर्यात करने का फैसला किया है। इससे भारत और मालदीव के बीच व्यापार बढ़ेगा. साथ ही इस व्यापार से बड़ा कारोबार भी होगा|

भारत चीनी, चावल और प्याज का सबसे बड़ा निर्यातक: इस बीच, मालदीव ने भारत से आवश्यक वस्तुओं का निर्यात करने का अनुरोध किया है। इसी के तहत भारत ने मालदीव को जरूरी सामान निर्यात करने का फैसला किया है। हालांकि, ऐसी जानकारी है कि भारत केवल सीमित सीमा तक ही निर्यात करेगा। इस बीच, भारत चीनी, चावल और प्याज का सबसे बड़ा निर्यातक है।

देश से हर साल बड़ी मात्रा में इन वस्तुओं का निर्यात किया जाता है। कई पड़ोसी देश भारत पर निर्भर हैं| इस बीच भारत ने फिलहाल कई जरूरी वस्तुओं के निर्यात पर रोक लगा दी है| कुछ वस्तुओं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। सरकार की कोशिश है कि घरेलू बाजार में किसी भी वस्तु की कीमत न बढ़े|

किस वस्तु का कितना निर्यात होगा?: मिली जानकारी के मुताबिक भारत वित्तीय वर्ष 2024-25 में मालदीव को बड़ी मात्रा में निर्यात करेगा। भारत मालदीव को 35749 टन प्याज, 64494 टन चीनी, 1 लाख 24 हजार 218 टन चावल और 1 लाख 9 हजार 162 टन गेहूं निर्यात करेगा। इस बीच, मालदीव भारत को रेत और पत्थर भी निर्यात करेगा। मालदीव भारत को 10 लाख टन रेत और पत्थर की आपूर्ति करेगा।

खराब संबंधों के बावजूद भारत की मदद: इस बीच, भारत और मालदीव के बीच संबंध इतने अच्छे नहीं हैं। कुछ हद तक रिश्ते तनावपूर्ण हैं| ऐसे समय में भारत मालदीव का सहयोग करेगा|  मालदीव में नई सरकार का गठन हो गया है| माना जा रहा है कि इस नई सरकार का झुकाव चीन की ओर है। मालदीव के नए राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़ू ने हाल ही में चीन का दौरा किया है। लेकिन हर बार मालदीव के नए राष्ट्रपति भारत दौरे पर आते हैं,लेकिन इस बार उन्होंने चीन का दौरा किया है|

यह भी पढ़ें-

संयुक्त राष्ट्र में भारत ने फिलिस्तीन का दिया साथ; इजरायल से भी निभाई अपनी दोस्ती!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,489फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
167,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें