27 C
Mumbai
Thursday, July 25, 2024
होमदेश दुनियानरेंद्र मोदी शपथ ग्रहण 'ये' नई तारीख; कार्यक्रम में विदेशी मेहमान भी...

नरेंद्र मोदी शपथ ग्रहण ‘ये’ नई तारीख; कार्यक्रम में विदेशी मेहमान भी आमंत्रित!

Google News Follow

Related

पीएम मोदी एनडीए के सहयोग से तीसरी बार केंद्र में सत्ता स्थापित करने का दावा करने जा रहे हैं| उन्हें सर्वसम्मति से ‘एनडीए’ का प्रमुख नियुक्त किया गया| इस बैठक में मोदी से तत्काल केंद्र में सरकार बनाने का दावा पेश करने का अनुरोध किया गया| एनडीए के घटक दलों के नेताओं ने भी मोदी को लिखित समर्थन पत्र दिया है|अब मोदी नौ जून को शाम छह बजे तीसरी बार भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। इससे पहले यह कार्यक्रम आठ जून को होना था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को प्रधानमंत्री पद से अपना इस्तीफा सौंप दिया| द्रौपदी मुर्मू ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है और नरेंद्र मोदी से नई सरकार बनने तक कार्यवाहक प्रधानमंत्री बने रहने की अपील की है|

इस साल तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे नरेंद्र मोदी: सितारों से सजे उनके शपथ ग्रहण समारोह में कई विदेशी नेता खास मेहमान बनकर आएंगे| इनमें बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे, नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल और भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक शामिल हैं।

लोकसभा चुनाव में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने 543 में से 293 सीटें जीतकर बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है| तो, ‘इंडिया’ अघाड़ी ने भी एग्जिट पोल के अनुमानों को झुठलाते हुए 234 सीटें जीतीं। उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में जहां भाजपा का दबदबा सबसे ज्यादा है वहां भाजपा का प्रदर्शन खराब रहा है और यहां ‘इंडिया’ अघाड़ी की जीत हुई है|

जनता दल, तेलुगु देशम प्रमुख घटक: 7 लोक कल्याण मार्ग पर मोदी के आवास पर एक घंटे तक चली| एनडीए बैठक में, दोनों प्रमुख घटक दलों के नेताओं, नीतीश कुमार और चंद्रबाबू नायडू ने सरकार बनाने के लिए भाजपा को समर्थन का लिखित पत्र दिया। बैठक में नीतीश कुमार ने मोदी को तुरंत राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलने और सरकार बनाने का दावा पेश करने का सुझाव दिया| दिल्ली आने से पहले नायडू ने भरोसा दिया कि विजयवाड़ा में ‘एनडीए’ सही है| 

मोदी कार्यवाहक प्रधानमंत्री: मोदी ने बुधवार सुबह राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया|इससे पहले उन्होंने केंद्रीय कैबिनेट की आखिरी बैठक की| समझा जाता है कि मोदी ने पिछली सरकार के अपने साथी मंत्रियों को आश्वासन दिया है कि भले ही केंद्र सरकार एक गठबंधन सरकार है, लेकिन इसे ठीक से प्रबंधित किया जा सकता है क्योंकि उनके पास गठबंधन सरकार का नेतृत्व करने का अनुभव है।

यह भी पढ़ें-

मोदी को बधाइयां; लगातार तीसरी ऐतिहासिक जीत पर दुनिया भर के राष्ट्राध्यक्षों की ओर से शुभकामनाएं!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,489फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
167,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें