26 C
Mumbai
Thursday, July 18, 2024
होमक्राईमनामाबीएसपी के पूर्व MLC पर ED की सख्त कार्रवाई,  4,440 करोड़ की...

बीएसपी के पूर्व MLC पर ED की सख्त कार्रवाई,  4,440 करोड़ की संपत्ति कुर्क!

Google News Follow

Related

मनी लॉन्ड्रिंग का मामले में सहारनपुर में बहुजन समाज पार्टी के पूर्व एमएलसी हाजी मोहम्मद इक़बाल के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की ओर से बड़ी कार्रवाई की गयी है| इस कार्रवाई में ईडी ने बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी की 4,440 करोड़ रूपये की संपत्ति को कुर्क किया है, जिसमें हाजी की ग्लोकल यूनिवर्सिटी की इमारत और उसकी भुमि शामिल है| ईडी की इस कार्रवाई से राजनीतिक गलियारे में हड़कंप मचा हुआ है| 

बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने कुर्की आदेश जारी किया था। इसमें 121 एकड़ जमीन और ग्लोकल यूनिवर्सिटी की बिल्डिंग को भी शामिल किया गया है। ईडी अधिकारी के अनुसार ये संपत्तियां अब्दुल वहीद एजुकेशनल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के नाम दर्ज हैं, इन पर हाजी मो. इकबाल और उसके परिवार के सदस्यों का नियंत्रण था।

प्रवर्तन निदेशालय की ओर से 10 वर्ष पूर्व बीएसपी के पूर्व एमएलसी के खिलाफ सीबीआई की खनन घोटाले की एफआईआर के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी। ये मुकदमा सहारनपुर में खनन के पट्टों में हुई धांधली से जुड़ा था। वहीं इकबाल के बेटों और भाई के खिलाफ भी कई मामले दर्ज हैं, जो इस वक्त जेल में बंद हैं। 

इकबाल, ट्रस्ट और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ की गई ये कार्रवाई अवैध खनन मामले से जुड़ी है। ईडी के अनुसार, पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल बीते कई महीनों से फरार है। माना ये जा रहा है कि वो दुबई में है। उसके खिलाफ देश भर की करीब एक दर्जन से ज्यादा एजेंसियां जांच कर रही हैं।

मनी लॉन्ड्रिंग का मामला सहारनपुर में रेत खनन, पट्टों के अवैध नवीनीकरण, कुछ अधिकारियों और अज्ञात लोगों के खिलाफ दिल्ली में दर्ज सीबीआई की एफआईआर से जुड़ा है। सभी खनन फर्मों का स्वामित्व और संचालन मोहम्मद इकबाल ग्रुप के पास था। ये फर्म सहारनपुर और आसपास के इलाकों में बड़े पैमाने पर अवैध खनन में शामिल थी। 

ईडी अनुसार आईटीआर में मामूली आय दिखाए जाने के बावजूद खनन फर्मों और मोहम्मद इकबाल ग्रुप की कंपनियों के बीच बिना किसी व्यापारिक संबंध के करोड़ों के लेनदेन मिले हैं।

यह भी पढ़ें-

G-7 Summit: चर्चा में पीएम मोदी और मेलोनी की सेल्फी, द्विपक्षीय वार्ता की भी समीक्षा की!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,504फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
165,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें