27 C
Mumbai
Thursday, July 25, 2024
होमदेश दुनियाLS 2024: काशी-मथुरा में विवादित जगह पर मंदिर को लेकर जेपी नड्डा...

LS 2024: काशी-मथुरा में विवादित जगह पर मंदिर को लेकर जेपी नड्डा की टिपण्णी !

Google News Follow

Related

अयोध्या में मंदिर निर्माण शुरू होने के बाद काशी और मथुरा में भी मंदिर निर्माण की चर्चा शुरू हो गई है ,जबकि इन दोनों जगहों की मस्जिदों का मामला लंबित है, इस संबंध में अलग-अलग दावे और नारे चर्चा में रहे हैं। राजनीतिक गलियारे में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है| भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा से जब पूछा गया तो उन्होंने टिप्पणी की कि भाजपा की काशी या मथुरा में मंदिर बनाने की कोई योजना नहीं है| साथ ही उन्होंने कहा है कि इस संबंध में कई लोगों द्वारा भावनात्मक दावे भी किए जा रहे हैं|

जे.पी.नड्डा ने कई राजनीतिक मुद्दों पर टिप्पणी की| उन्होंने काशी-मथुरा को लेकर पूछे गए सवालों पर विस्तार से अपना पक्ष रखा| साथ ही जब उनसे इस मुद्दे पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा के दावों के बारे में पूछा गया तो जे. पी. नड्डा ने व्यक्त की अपनी स्पष्ट राय|

जे.पी.नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पूरा फोकस विकास के मुद्दों पर है। “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी का ध्यान गरीबों, पीड़ितों, दलितों, महिलाओं, युवाओं, किसानों और पिछड़े वर्गों पर केंद्रित करने का फैसला किया है। इन सभी कारकों को मुख्यधारा में लाने और अतिरिक्त ताकत देने की जरूरत है। हमें उन्हें सशक्त बनाना चाहिए।

काशी-मथुरा में विवादित स्थल के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ”भारतीय जनता पार्टी के पास विवादित स्थल पर मंदिर बनाने का कोई विचार, योजना या इच्छा नहीं है। पार्टी में इस पर कोई चर्चा नहीं हो रही है| हमारी पार्टी प्रणाली पार्टी की विचारधारा के अनुसार तय की गई है। इसके मुताबिक पहले पार्टी की संसदीय समिति में चर्चा होती है| इसके बाद प्रस्ताव राष्ट्रीय परिषद के पास जाता है, जहां इसे मंजूरी मिल जाती है।’

योगी आदित्यनाथ-हिमंत बिस्वा सरमा के बयानों के बारे में क्या?: नड्डा से काशी और मथुरा में मंदिरों के निर्माण के संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा द्वारा अपनी रैलियों में किए गए दावों के बारे में पूछा गया था। उन्होंने इन दावों का खंडन किया|“ इस बारे में कोई भ्रम नहीं है। भाजपा ने जून 1989 के पालमपुर प्रस्ताव में राम मंदिर का मुद्दा शामिल किया था|

यह भी पढ़ें-

विभव कुमार आखिरकार गिरफ्तार; स्वाति मालीवाल पिटाई मामले में दिल्ली पुलिस की कार्रवाई!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,489फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
167,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें