25 C
Mumbai
Tuesday, July 23, 2024
होमवीडियो गैलरीविविधाद सनातन धर्म : ट्रू सोर्स ऑफ ऑल साइंस', विवान कारुलकर की...

द सनातन धर्म : ट्रू सोर्स ऑफ ऑल साइंस’, विवान कारुलकर की किताब पर ब्रिटिश शाही परिवार की मुहर

Google News Follow

Related

16 वर्षीय विवान कारुलकर द्वारा ​’द सनातन धर्म: ट्रू सोर्स ऑफ ऑल साइंस’ ​नामक सनातन धर्म और विज्ञान के बीच संबंध और सनातन धर्म में विज्ञान की वास्तविक उत्पत्ति पर लिखी गई पुस्तक है। जिसके लिए उनकी हर जगह सराहना हो रही है|अब इस पुस्तक​ पर लंदन के बकिंघम पैलेस के शाही परिवार की​ ओर से मुहर​ लगायी है।​और विवान को उनके सराहनीय कार्य के लिए एक बैज और एक सिक्के से सम्मानित किया गया है।
‘प्रसिद्ध उद्योगपति और कारुलकर प्रतिष्ठान के अध्यक्ष प्रशांत कारुलकर और फाउंडेशन के उपाध्यक्ष शीतल कारुलकर के बेटे विवान कारुलकर द्वारा लिखित पुस्तक सनातन धर्म’ सभी विज्ञानों का सच्चा स्रोत, को जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है और विवान को कई दिग्गजों से सराहना भी मिली है। इसी तरह, विवान की किताब को अब लंदन के बकिंघम पैलेस में शाही परिवार से सराहना मिली है। उन्हें एक बैज और एक सिक्का प्रदान किया जाता है। दिलचस्प बात यह है कि ये सिक्के बेहद दुर्लभ हैं। इन सिक्कों पर रानी का मुकुट अंकित है, जो टावर ऑफ लंदन पर भी देखा जाता है। ऐसे केवल तीन सिक्के ढाले गए और तीसरा सिक्का विवान को भेंट कर दिया गया।
ये सिक्के सरकार की सेवा का प्रतीक हैं। एलिजाबेथ द्वितीय रेजिना (EIIR) और यूनाइटेड किंगडम के शाही परिवार से भी जुड़ा हुआ है। रानी की मृत्यु और राजा के राज्याभिषेक के बाद, राजा ने उनकी स्मृति में तीन-तरफा सिक्कों की एक विशेष श्रृंखला शुरू की। इनमें से एक सिक्का लंदन के एक सिविल सेवक रंगदत्त जोशी ने उपहार में दिया है। यह सिक्का उन्हें बकिंघम पैलेस से मिला था। यह सिक्का रक्षा अधिकारियों द्वारा आधिकारिक तौर पर विवान को प्रस्तुत किया गया है और प्रमाणित किया गया है। विवान इस सिक्के को बैठकों, यात्राओं और आधिकारिक यात्राओं के दौरान ले जा सकता है। इस सिक्के को पाकर विवान कारुलकर, प्रशांत कारुलकर ने आभार व्यक्त किया है|
इस पुस्तक के मराठी और हिंदी संस्करण भी जल्द ही पाठकों के लिए उपलब्ध होंगे। विवान कारुलकर द्वारा लिखी गई इस पुस्तक की विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिष्ठित लोगों ने प्रशंसा की है और 16 वर्ष की उम्र में यह पुस्तक लिखकर सनातन धर्म का प्रचार-प्रसार करने के लिए उनकी सराहना की है।
भारतीय सेना ने विवान को धार्मिक साहित्य में उनके योगदान के लिए पदक से सम्मानित किया। विवान को ये सम्मान महज 17 साल की उम्र में मिला है| यह पदक लेफ्टिनेंट जनरल धीरज सेठ द्वारा प्रदान किया गया।
नासा के वैज्ञानिक मोहम्मद सईदुल अहसान और मोहम्मद सैफ आलम ने भी विवान की किताब की सराहना की| उन्हें इस पुस्तक से सम्मानित किया गया। विवान की किताब स्विट्जरलैंड भी पहुंची| स्विट्जरलैंड की संसदीय समिति के प्रमुख डॉ. निक गुग्गर ने विवान के लेखन की प्रशंसा की।
विवान ने अपनी किताब की एक प्रति देश के विदेश मंत्री एस.जयशंकर को भी प्रदान की|उनसे उन्हें तारीफें भी मिली हैं, जब विवान ने राजभवन में महाराष्ट्र के राज्यपाल रमेश बैस को पुस्तक की एक प्रति भेंट की, तो राज्यपाल ने विवान के प्रयासों की सराहना की और टिप्पणी की कि यह नया भारत है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी विवान की किताब की तारीफ की|
प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार समिति के सदस्य संजीव सान्याल ने भी इस किताब के लिए विवान की सराहना की|जैन आचार्य महाश्रमणजी ने भी किताब देखकर विवान को आशीर्वाद दिया| भारतीय जनता पार्टी के विधायक और मुंबई प्रभारी अतुल भातखलकर, सांसद गोपाल शेट्टी, सुशील कुल्हारी, राजस्थान आयकर विभाग के प्रधान निदेशक सुधांशु शेखर झा, स्वतंत्रता वीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के कार्यकारी अध्यक्ष रंजीत सावरकर, मुंबई नगर निगम के पूर्व अतिरिक्त आयुक्त प्रवीण परदेशी, धाराशिव के कलेक्टर डॉ. सचिन ओम्बासे, धाराशिव के पुलिस अधीक्षक अतुल कुलकर्णी, मा. गुरुदेव नयपद्म सागरजी, सीमा शुल्क विभाग के आयुक्त असलम हसन, केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे के निजी सचिव एस. के. जाधव ने भी विवान के प्रयास की सराहना की।
राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय ने भी इस पुस्तक की काफी सराहना की है| साथ ही इस पुस्तक को भगवान श्री राम के चरणों में रखकर भगवान का आशीर्वाद भी लिया गया है। चम्पतराय ने पहले पन्ने पर किताब के बारे में अपनी भावनाएं लिखीं और विवान के प्रयासों की सराहना की।
यह भी पढ़ें-

राष्ट्रपति भवन पहुंचे नरेंद्र मोदी, सौंपा राष्ट्रपति को इस्तीफा, लोकसभा भंग करने की करेंगे सिफारिश!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,495फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें