25 C
Mumbai
Friday, February 23, 2024
होमन्यूज़ अपडेटमहाराष्ट्र में 24 हजार करोड़ के घाटे का बजट पेश

महाराष्ट्र में 24 हजार करोड़ के घाटे का बजट पेश

बढ़ा कर्ज का बोझ मुंबई,

Google News Follow

Related

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने माल एवं सेवा कर (जीएसटी) भुगतान करने वालों के लिए माफी योजना की घोषणा करते हुए शुक्रवार को राजस्व घाटे का बजट पेश किया। यह शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस सरकार का तीसरा बजट है। वित्त मंत्री ने विधानसभा में वित्त वर्ष 2022-23 का बजट पेश करते हुए कहा कि वार्षिक योजना के लिए 1,50,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

पवार ने कहा कि बजट अनुमान के अनुसार, राजस्व प्राप्तियां 4,03,427 करोड़ रुपये और राजस्व व्यय 4,27,780 करोड़ रुपये होगा। इस प्रकार राजस्व घाटा 24,353 करोड़ रुपये का होगा। 2021-22 के संशोधित अनुमान के अनुसार कर से प्राप्त होने वाला राजस्व 2,75,498 करोड़ रुपये होगा। उन्होंने कहा कि जीएसटी बकाया के लिए एक माफी योजना लाई जाएगी जिसे ‘महाराष्ट्र में कर, ब्याज, जुर्माना या विलंब शुल्क के बकाया की निपटान योजना, 2022’ कहा जाएगा और यह एक अप्रैल 2022 से 30 सितंबर 2022 तक चलेगी। अनुमान है कि लगभग 2.2 लाख मामलों में इस योजना से मध्यम स्तर के डीलरों को लाभ होगा। इस माफी योजना के तहत 20 प्रतिशत की एकमुश्त राशि के भुगतान पर शेष 80 प्रतिशत बकाया राशि पर छूट दी जाएगी।

महाराष्ट्र की आर्थिक स्थिति :

राजस्व प्राप्ति :- 4,03,427 करोड़ रुपये

राजस्व खर्च :- 4,27,780 करोड़ रुपये

राजस्व घाटा :- 24,353 करोड़ रुपये

कर्ज भी बढ़ा: महा आघाडी सरकार में महाराष्ट्र पर कर्ज बोझ बढ़कर 6,49,699 करोड़ रुपये हो गया है। यह राज्य की जीडीपी का 18.14 फीसदी है। इससे पहले 2019-20 में राज्य पर 4,51,117 करोड़ रुपये, 2020-21 में 5,19,086 करोड़ रुपये और 2021-22 में 5,72,379 करोड़ रुपये कर्ज था।

 ये भी पढ़ें 

महाराष्ट्र में अपने दम पर सत्ता लाने के लिए तैयार हो कार्यकर्ताः फडणवीस

12.1 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी महाराष्ट्र की अर्थ व्यवस्था

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,760फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें