27 C
Mumbai
Thursday, July 25, 2024
होमदेश दुनिया18वीं लोकसभा: लोकसभा अध्यक्ष पद इस बार ​बना अहम फैक्टर​!

18वीं लोकसभा: लोकसभा अध्यक्ष पद इस बार ​बना अहम फैक्टर​!

जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा है कि जनता दल यूनाइटेड ​भाजपा​​ द्वारा नामित उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है​|​

Google News Follow

Related

देश की 18वीं लोकसभा के लिए 26 जून को नए लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा। तो कौन होगा लोकसभा का नया अध्यक्ष? चर्चा चल रही है| ‘इंडिया’ के विपक्षी नेताओं ने कहा है कि भाजपा को अपने सहयोगी को मौका देना चाहिए| एनडीए की सरकार है इसलिए लोकसभा अध्यक्ष का पद इस बार अहम फैक्टर होगा|

​​लोकसभा चुनाव में ​भाजपा​ ने 240 सीटें जीतीं, जो बहुमत के आंकड़े से 32 सीट कम है​|​ आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देशम पार्टी और बिहार में नीतीश कुमार की जनता दल यूनाइटेड भाजपा की सहयोगी हैं।​ जहां टीडीपी नेताओं का कहना है कि लोकसभा उम्मीदवार का फैसला एनडीए सहयोगियों को मिलकर करना चाहिए, वहीं जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा है कि जनता दल यूनाइटेड ​भाजपा​​ द्वारा नामित उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है​|​

​​लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव कैसे होता है?: संविधान का अनुच्छेद 93 अध्यक्ष के चुनाव के लिए नियम बताता है। नई लोकसभा की पहली बैठक से पहले स्पीकर का पद खाली था​|​ प्रक्रिया के मुताबिक, संसद का सत्र शुरू होने से पहले राष्ट्रपति नवनिर्वाचित सांसदों को शपथ दिलाने के लिए ​प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति करते हैं​|​ लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव साधारण बहुमत से होता है। इसका मतलब है कि सदन में मौजूद आधे से अधिक सदस्यों को लोकसभा अध्यक्ष बनने के लिए किसी विशेष उम्मीदवार को वोट देना होगा।

​​लोकसभा अध्यक्ष की शक्तियों की बात करें तो यह पद बहुत महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि वह सदन को चलाने के लिए जिम्मेदार होता है। लोकसभा अध्यक्ष संसदीय बैठकों का एजेंडा भी तय करते हैं और स्थगन और अविश्वास प्रस्ताव जैसे प्रस्तावों की अनुमति देते हैं। सदन में कोई विवाद उत्पन्न होने पर, जिसे चुनौती नहीं दी जा सकती, अध्यक्ष इन नियमों की व्याख्या करता है और उन्हें लागू करता है। अध्यक्ष की अध्यक्षता निर्विवाद होनी चाहिए क्योंकि सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्य होते हैं​|​

संविधान की 10वीं अनुसूची के अनुसार, लोकसभा अध्यक्ष के पास दल-बदल के आधार पर सदस्यों के अनियंत्रित व्यवहार को दंडित करने और अयोग्य घोषित करने की पूरी शक्ति है। लोकप्रिय नामों में आंध्र प्रदेश ​भाजपा​ अध्यक्ष एनटी रामाराव की बेटी दग्गुबाती पुरंदेश्वरी भी शामिल हैं​|​

यह भी पढ़ें-

Amazon से Xbox कंट्रोलर ऑर्डर: Amazon का पार्सल खोलते ही निकला सांप !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,489फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
167,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें