26 C
Mumbai
Thursday, July 18, 2024
होमराजनीति भारत-कनाडा संकट: आगामी महीनों में व्यवसायों पर संभावित प्रभाव

 भारत-कनाडा संकट: आगामी महीनों में व्यवसायों पर संभावित प्रभाव

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

सितंबर 2023 में, कनाडा में सिख स्वतंत्रता के पैरोकार हरदीप सिंह निज्जर की हत्या से भारत-कनाडा संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं।  कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा है कि कनाडा विश्वसनीय आरोपों की जांच कर रहा है कि भारत सरकार के एजेंट हत्या से जुड़े थे, लेकिन भारत ने आरोपों को बेतुका बताते हुए खारिज कर दिया है।

इससे दोनों देशों के बीच कई राजनयिक आदान-प्रदान हुए हैं, जिसमें भारत से एक कनाडाई राजनयिक का निष्कासन भी शामिल है।  इस हत्या से कनाडा में सिख प्रवासियों और भारत सरकार के बीच तनाव भी बढ़ गया है।

तनाव के बावजूद, भारत और कनाडा के बीच अभी भी मजबूत व्यापार और निवेश संबंध हैं। कनाडा भारत में 17वां सबसे बड़ा विदेशी निवेशक है, और भारत कनाडा का नौवां सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। हाल के वर्षों में, प्रौद्योगिकी, शिक्षा और जलवायु परिवर्तन जैसे क्षेत्रों में सहयोग पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

यह देखना बाकी है कि निज्जर हत्याकांड पर तनाव का भारत और कनाडा के बीच समग्र संबंधों पर क्या प्रभाव पड़ेगा। हालाँकि, दोनों देशों की घनिष्ठ संबंध बनाए रखने में गहरी रुचि है और संभावना है कि दोनों पक्ष अपने मतभेदों को सुलझाने के लिए काम करेंगे।

व्यवसायों के लिए सबसे बड़ी चिंताओं में से एक बढ़ी हुई टैरिफ और अन्य व्यापार बाधाओं की संभावना है।  दोनों देशों ने संकट के समाधान के लिए कदम नहीं उठाने पर जवाबी कार्रवाई करने की धमकी दी है। यदि टैरिफ लगाया जाता है, तो इससे व्यवसायों के लिए दोनों देशों के बीच माल का आयात और निर्यात करना अधिक महंगा हो जाएगा।  इससे भारतीय और कनाडाई कंपनियों के साथ-साथ उपभोक्ताओं को भी नुकसान होगा।

एक और चिंता आपूर्ति शृंखला में देरी और व्यवधान की संभावना है। दोनों देशों में कई व्यवसाय इनपुट और आपूर्ति के लिए एक-दूसरे पर निर्भर हैं। यदि व्यापार संबंध बिगड़ते हैं, तो व्यवसायों के लिए अपनी ज़रूरत की वस्तुएँ और सेवाएँ प्राप्त करना अधिक कठिन और महंगा हो जाएगा। इससे उत्पादन में देरी हो सकती है और दोनों देशों में माल की कमी हो सकती है।

आर्थिक प्रभाव के अलावा, संकट का व्यावसायिक विश्वास पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है। व्यवसाय एक-दूसरे के साथ निवेश करने और व्यापार करने में अधिक झिझक रहे हैं। इससे दोनों देशों में धीमी आर्थिक वृद्धि हो सकती है।कनाडा को माल निर्यात करने वाले भारतीय व्यवसायों को उच्च टैरिफ और अन्य व्यापार बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। इससे उनके लिए कनाडाई बाजार में प्रतिस्पर्धा करना अधिक कठिन और महंगा हो जाएगा। भारतीय व्यवसाय जो कनाडाई आयात पर निर्भर हैं, उन्हें भी उच्च लागत और देरी का सामना करना पड़ सकता है। इससे उनके उत्पादन और लाभप्रदता पर असर पड़ सकता है। भारतीय व्यवसाय जो कनाडा में निवेश करने पर विचार कर रहे हैं, वे द्विपक्षीय संबंधों को लेकर अनिश्चितता के कारण ऐसा करने में अधिक झिझक सकते हैं।

भारत को माल निर्यात करने वाले कनाडाई व्यवसायों को उच्च टैरिफ और अन्य व्यापार बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। इससे उनके लिए भारतीय बाजार में प्रतिस्पर्धा करना अधिक कठिन और महंगा हो जाएगा। भारतीय आयात पर निर्भर कनाडाई व्यवसायों को भी उच्च लागत और देरी का सामना करना पड़ सकता है। इससे उनके उत्पादन और लाभप्रदता पर असर पड़ सकता है।  कनाडाई व्यवसाय जो भारत में निवेश करने पर विचार कर रहे हैं, वे द्विपक्षीय संबंधों को लेकर अनिश्चितता के कारण ऐसा करने में अधिक झिझक सकते हैं।

उपरोक्त के अलावा, संकट का निम्नलिखित क्षेत्रों पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है:

 – शिक्षा क्षेत्र: हर साल हजारों भारतीय छात्र कनाडा में पढ़ते हैं। इस संकट के कारण कनाडा जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में गिरावट आ सकती है। इससे कनाडाई विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के साथ-साथ भारतीय छात्रों को सेवाएं प्रदान करने वाले व्यवसायों को भी नुकसान हो सकता है।

 – प्रौद्योगिकी क्षेत्र: कनाडा प्रौद्योगिकी कंपनियों का एक प्रमुख केंद्र है। कई भारतीय आईटी कंपनियों के कार्यालय कनाडा में हैं। इस संकट के कारण भारतीय कंपनियां कनाडा में अपना निवेश कम कर सकती हैं या अपना परिचालन दूसरे देशों में स्थानांतरित कर सकती हैं।

– कृषि क्षेत्र:  भारत कनाडाई गेहूं और अन्य कृषि उत्पादों का एक प्रमुख आयातक है। इस संकट के कारण भारत को कनाडा से अपना आयात कम करना पड़ सकता है। इससे कनाडा के किसानों और भारत में कृषि उत्पादों का निर्यात करने वाले व्यवसायों को नुकसान हो सकता है।

कुल मिलाकर, चल रहे भारत-कनाडा संकट से दोनों देशों के व्यवसायों पर, विशेषकर आने वाले महीनों में, महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ने की संभावना है। व्यवसायों को संभावित जोखिमों के बारे में पता होना चाहिए और उन्हें कम करने के लिए कदम उठाने चाहिए। भारत-कनाडा संकट एक जटिल और उभरती हुई स्थिति है।  व्यवसायों के लिए संभावित जोखिमों के बारे में जागरूक होना और उन्हें कम करने के लिए कदम उठाना महत्वपूर्ण है। ऐसा करने से, व्यवसाय संकट के प्रभाव को कम कर सकते हैं और अपने दीर्घकालिक हितों की रक्षा कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें

 

कनाडा विवाद में पाकिस्तान कूदा, जानिए क्या कहा     

तुर्की ने फिर दिखाया पुराना रंग, कनाडा विवाद के बीच अलापा कश्मीर राग 

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,504फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें