28 C
Mumbai
Monday, July 22, 2024
होमदेश दुनियाकांग्रेस की बातों से आहत, मेहनत से मिली नौकरी को महिला ने...

कांग्रेस की बातों से आहत, मेहनत से मिली नौकरी को महिला ने छोड़ी!

निशा बांगरे ने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा में टिकट देने का वादा किया था, लेकिन मुझे उम्मीदवार नहीं दिया| अब भी लोकसभा की उम्मीदवारी खारिज कर दी गई| कांग्रेस ने मुझे कठिन समय दिया। मैं अब अपनी नौकरी वापस पाना चाहता हूं।

Google News Follow

Related

मध्य प्रदेश में एक महिला उप जिलाधिकारी ने कांग्रेस की बातों से आहत होकर इतनी मेहनत से मिली नौकरी छोड़ दी| अब महिला, जो एक पूर्व अधिकारी है, को अपने फैसले पर पछतावा है और उसने अपनी नौकरी वापस पाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। सरकारी नौकरी किसे पसंद नहीं है? सरकारी नौकरी पाने, प्रशासनिक अधिकारी बनने के लिए लाखों छात्र साल-दर-साल प्रतियोगी परीक्षाएं पढ़ते हैं। इनमें से चुनिंदा छात्र ही सफल होते हैं। निशा बांगरे ने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा में टिकट देने का वादा किया था, लेकिन मुझे उम्मीदवार नहीं दिया| अब भी लोकसभा की उम्मीदवारी खारिज कर दी गई| कांग्रेस ने मुझे कठिन समय दिया। मैं अब अपनी नौकरी वापस पाना चाहता हूं।

मैंने अपनी नौकरी छोड़ने का साहस किया, लेकिन कांग्रेस ने मेरे साथ राजनीति की| कांग्रेस ने मुझे नौकरी छोड़ने के लिए मजबूर किया| इसलिए भाजपा सरकार ने मेरा इस्तीफा स्वीकार करने में देरी की| अब मैं राज्य की राजनीति का शिकार हूं| मेरे भाग्य में जो है, मुझे उसे स्वीकार करना होगा।’ लेकिन मेरे साथ बहुत बड़ा धोखा और अन्याय हुआ, यह बात निशा बांगरे ने एक समाचार पत्र से बात करते हुए कही|

एक चार्टर्ड अधिकारी से राजनीति तक का सफर तय करने की चाह रखने वाले बांगरे ने कहा कि जो कोई भी राजनीति में आना चाहता है। उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि आर्थिक, भावनात्मक रूप से मजबूत होनी चाहिए। राजनीति में तभी प्रवेश करें जब आप मानसिक आघात सहने के लिए तैयार हों। राजनीति सबसे कठिन है| उन्होंने यह भी कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं में तो सफलता मिल सकती है, लेकिन राजनीति कठिन रास्ता है|

निशा बांगरे छतरपुर जिले में डिप्टी कलेक्टर के पद पर कार्यरत थीं| लवकुश नगर जिले के अनुविभागीय दंडाधिकारी के रूप में कार्य करते हुए उन्होंने कड़ी मेहनत की। क्योंकि उन्हें बैतूल में अंतर्राष्ट्रीय इंटरफेस शांति सम्मेलन और विश्व शांति पुरस्कार समारोह में भाग लेने के लिए छुट्टी नहीं दी गई थी। उस समय बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि उन्हें बैतूल जिले की आमला विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने का मौका मिलेगा| उन्होंने कहा, लेकिन आंवला निर्वाचन क्षेत्र में सरकारी पद संभालने के बाद यहां के लोगों ने मुझसे राजनीति में शामिल होने का आग्रह किया।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी ने मुझसे संपर्क किया| प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ ने मुझे राजनीति में आने का सुझाव दिया। “कांग्रेस ने मुझसे संपर्क किया। मेरी कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं थी, लेकिन मैंने सोचा, अगर मुझे मौका मिले तो मुझे इसे लेना चाहिए। आख़िर में मुझे टिकट नहीं मिला| कमल नाथ मुझे टिकट दे सकते थे।’ लेकिन स्थानीय राजनीति के कारण उन्होंने मुझे मौका नहीं दिया| बैतूल में कांग्रेस नेतृत्व एक पढ़ी-लिखी महिला के राजनीति में आने से डरता था| इसलिए मुझे अवसर से वंचित कर दिया गया।

27 मार्च को प्रदेश कांग्रेस ने निशा बांगरे को प्रवक्ता नियुक्त किया था| निशा बांगरे भी लोकसभा टिकट की इच्छुक थीं, लेकिन पार्टी ने उनके नाम पर विचार नहीं किया है|

यह भी पढ़ें-

युद्ध में इजराइल कर रहा ‘एआई’ का इस्तेमाल? इजरायली और फिलिस्तीनी पत्रकारों का खुलासा!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,496फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें