32 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमदेश दुनियाविज्ञान, प्रौद्योगिकी और अध्यात्म का विहंगम संगम, रामलला के माथे पर पड़ी...

विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अध्यात्म का विहंगम संगम, रामलला के माथे पर पड़ी सूर्य की किरणें!

Google News Follow

Related

रामनवमी पर अयोध्या में लाखों श्रद्धालुओं ने भगवान रामलला के दर्शन किये|करीब 500 साल बाद अयोध्या में रामनवमी धूमधाम से मनाई गई|श्रीराम नवमी के अवसर पर पहली बार रामलला के माथे पर सूर्य की किरणें रखी गईं|अध्यात्म, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के इस प्रयोग ‘यह शरीर यह आत्मा है’ को भक्तों ने अयोध्या के मंदिर में देखा| देशभर में टीवी के जरिए करोड़ों श्रद्धालुओं ने इस समारोह का लुत्फ उठाया|

अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद यह पहली रामनवमी थी।ट्रस्ट ने वैदिक रीति-रिवाज से विशेष पूजा-अर्चना की। फिर दोपहर 12 बजे सूर्य की किरणें भगवान के माथे पर रखी गईं।कैसे किया गया प्रयोग… सूर्य का अध्ययन करने वाली आदित्य एल1 टीम ने इसके लिए काम किया।

आईआईए साइंसेज की उपलब्धियां: बेंगलुरु में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स (आईआईए) ने यह कारनामा किया। इसी संस्थान के वैज्ञानिकों ने इसरो के सहयोग से सूर्य का अध्ययन करने के लिए आदित्य-एल1 भेजा है। मंदिर निर्माण के दौरान अयोध्या मंदिर ट्रस्ट ने इस संस्था से संपर्क किया था| रामनवमी पर श्री राम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में ऐसी व्यवस्था की गई कि सूर्य की किरणें सीधे भगवान श्री राम के माथे पर पड़े।

ऑप्टिकल मैकेनिकल सिस्टम: रामनवमी पर भगवान श्री राम के माथे पर सूर्य तिलक लगाने के लिए वैज्ञानिकों ने एक ऑप्टिकल मैकेनिकल सिस्टम विकसित किया है। आईआईए के वैज्ञानिकों की एक टीम ने सिस्टम को स्थापित करने के लिए काम किया। मंदिर अभी तक पूरा नहीं हुआ है। इसके चलते वैज्ञानिकों ने मंदिर की वर्तमान और उसके पूरा होने के बाद की स्थितियों का अध्ययन किया। दोपहर 12 बजे सूर्य की किरणों की स्थिति का अध्ययन किया गया।

श्री रामलला की मूर्ति के माथे पर सूर्य की किरणों को प्रक्षेपित करने के लिए चार लेंस और चार दर्पणों का उपयोग करके एक प्रणाली बनाई गई थी। फिलहाल यह व्यवस्था अस्थायी है|मंदिर का निर्माण पूरा होने के बाद इसे स्थाई रूप से स्थापित किया जाएगा। इसलिए हर साल रामनवमी पर भगवान राम के माथे पर सूर्य की किरणों का मुकुट रखा जाएगा।

कैसे काम करता है ऑप्टिकल मैकेनिकल सिस्टम?: वैज्ञानिक भाषा में इस सिस्टम को ‘प्रकाश का ध्रुवीकरण’ कहा जाता है। इसमें प्रकाश को एक स्थान पर केंद्रित करके छोड़ा जाता है। उसके लिए लेंस और दर्पण का उपयोग किया जाता है। आईआईए के वैज्ञानिकों ने भगवान श्री राम के माथे पर सूर्य की किरणें छोड़ने के लिए एक ऑप्टिकल मैकेनिकल प्रणाली का उपयोग किया। उसके लिए चार लेंस और चार दर्पण का उपयोग किया गया था। उसी समय सूर्य मुकुट का निर्माण हुआ।

यह भी पढ़ें-

लोकसभा चुनाव के पहले चरण में विदर्भ की पांच सीटों पर मतदान कल!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,600फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें