29 C
Mumbai
Thursday, April 18, 2024
होमदेश दुनिया1994 में खरीदे 500 रुपए के एसबीआई शेयर की कीमत देख उड़े...

1994 में खरीदे 500 रुपए के एसबीआई शेयर की कीमत देख उड़े शख्स के होश!

Google News Follow

Related

चंडीगढ़ के इस डॉक्टर का अनुभव आपको बताएगा कि शेयर बाजार में निवेश करना कितना लाभदायक है। 1994 में यानि तीन दशक पहले 500 रुपये के एसबीआई शेयर खरीदे थे।अब उस शेयर की कीमत 1 लाख रुपये है। यह डॉक्टर महाशय अपने दादा द्वारा निवेश किए गए पुराने दस्तावेजों के बीच एक कागज पाकर सुखद आश्चर्यचकित थे।

डॉ. तन्मय मोतीवाला पेशे से एक डॉक्टर हैं। वह एक बाल रोग विशेषज्ञ हैं। वह सब खंगाल रहे थे उस समय उन्हें भारतीय स्टेट बैंक का एक शेयर प्रमाणपत्र मिला, जिसके बारे में उन्हें पता चला कि यह उनके दादा का निवेश था।1994 में उन्होंने एसबीआई का एक शेयर 500 रुपये में खरीदा था|उनके दादा ने शेयर खरीदे थे,लेकिन उन्होंने इसे नहीं बेचा. वर्षों तक इस निवेश को भुला दिया गया।

डॉ. उस वक्त मोतीवाला के दादा ने निवेश किया था| पांच सौ रुपये का ये मामूली निवेश अब लाखों में पहुंच गया है| डॉक्टर के मुताबिक, एसबीआई के शेयर की कीमत अब 3.75 लाख है| इसका मतलब है कि इन तीन दशकों में इस निवेश पर 750 प्रतिशत का रिटर्न।

सोशल मीडिया पर पोस्ट: डॉक्टर ने एक्स पर एक पोस्ट शेयर किया है। इसमें डाॅ. मोतीवाल ने यह सारी कथा विस्तार से कही है। तदनुसार, उनके दादा-दादी ने 1994 में 500 रुपये के एसबीआई शेयर खरीदे। लेकिन वे दोनों इस निवेश को भूल गये| उन्हें यह भी याद नहीं कि उन्होंने ऐसा कोई निवेश किया है, लेकिन पारिवारिक संपत्ति की योजना बनानी चाहिए| निवेश दस्तावेज़ तब प्राप्त हुए जब दस्तावेजों को संकलन करने का कार्य चल रहा था।

500 रुपये से 3.75 लाख रुपये: इस निवेश के अच्छे नतीजे मिले हैं| 500 रुपये का यह निवेश अब 3.75 लाख रुपये का है| आज की गणना के हिसाब से यह कोई बड़ी रकम नहीं है, लेकिन 500 रुपये के निवेश को देखते हुए ये आंकड़ा बहुत बड़ा है| इस निवेश से 30 साल में 750 गुना रिटर्न. उन्होंने स्टॉक सर्टिफिकेट को डीमैट में ट्रांसफर कर दिया। इसके लिए उन्होंने दोस्तों और विशेषज्ञों की मदद ली। लेकिन यह प्रक्रिया बहुत जटिल और थका देने वाली निकली| फिर भी डॉक्टर ने हार नहीं मानी| सभी त्रुटियों को दूर करने के बाद, शेयर उनके डीमैट खाते में आ गए।

नहीं बेचेंगे शेयर: डॉ. मोतीवाला ने इस शेयर को नहीं बेचने का फैसला किया है| वे इस शेयर को बरकरार रखेंगे| डॉक्टर को पैसे की जरूरत नहीं है| साथ ही इस दादाजी की याद के तौर पर वह इसे शेयर के साथ-साथ बंडल के तौर पर भी रखने वाले हैं|इसलिए यह निवेश भविष्य में बड़े फल देगा|

यह भी पढ़ें-

‘देश में लोकतंत्र की हत्या’, राहुल गांधी के बयान पर कंगना की तीखी प्रतिक्रिया!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,645फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें