29 C
Mumbai
Sunday, June 23, 2024
होमदेश दुनियाऑपरेशन ब्लू स्टार; खालिस्तानी आंदोलन का खूनी इतिहास!

ऑपरेशन ब्लू स्टार; खालिस्तानी आंदोलन का खूनी इतिहास!

शुरुआती जांच में पता चला है कि दो अज्ञात हमलावरों ने हत्या की है| कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने भारत पर नरसंहार में शामिल होने का आरोप लगाया। इसके बाद से भारत और कनाडा के बीच रिश्ते तनावपूर्ण हो गए हैं|

Google News Follow

Related

खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर 18 जून को कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया के सरे में एक गुरुद्वारे के बाहर मारा गया था। निज्जर भारत सरकार द्वारा प्रतिबंधित संगठन खालिस्तान टाइगर फोर्स का नेता था। वह सरे में गुरु नानक सिख गुरुद्वारे के प्रमुख भी थे। शुरुआती जांच में पता चला है कि दो अज्ञात हमलावरों ने हत्या की है| कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने भारत पर नरसंहार में शामिल होने का आरोप लगाया। इसके बाद से भारत और कनाडा के बीच रिश्ते तनावपूर्ण हो गए हैं|
निज्जर की हत्या के बाद 80 के दशक में जल रहा खालिस्तानी आंदोलन फिर से उभरता नजर आ रहा है| हाल ही में, कनाडा में सिख समुदाय ने ऑपरेशन ब्लूस्टार की 39वीं वर्षगांठ के अवसर पर ब्रैम्पटन में एक रैली का आयोजन किया। इस रैली में भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या का जश्न मनाया गया| भारत ने इस पर कड़ी नाराजगी जताई और विरोध जताया, लेकिन वास्तव में यह खालिस्तानी आंदोलन क्या था? इसकी शुरुआत कहाँ से हुई? और परिणाम क्या थे? हम इस थोड़ा नज़र डालते हैं| 1980 के दशक में खालिस्तान की मांग को लेकर पंजाब और आसपास के इलाकों में भड़की हिंसा, इंदिरा गांधी सरकार द्वारा लागू ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’, इंदिरा गांधी की हत्या और दिल्ली में सिख विरोधी दंगों की सामान्य समय-सीमा हर कोई जानता है। लेकिन इसकी असली उत्पत्ति स्वतंत्रता-पूर्व के इतिहास में दफ़न है।

सिखों के लिए अलग राज्य की पहली मांग: स्वतंत्रता-पूर्व काल में पंजाब भारत का सबसे बड़ा प्रांत था। वर्तमान पाकिस्तान में पंजाब, भारत में पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश को पंजाब के नाम से जाना जाता था। 1929 में मोतीलाल नेहरू ने कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव रखा। इस समय तीन समूहों ने इस प्रस्ताव का विरोध किया| पहला समूह मुहम्मद अली जिन्ना के नेतृत्व में मुस्लिम लीग था। दूसरे समूह का नेतृत्व डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ने किया। तीसरा समूह मास्टर तारा सिंह के नेतृत्व वाला शिरोमणि अकाली दल था।

तारा सिंह सिखों के लिए अलग राज्य की मांग करने वाले पहले व्यक्ति थे। 1947 में यह मांग एक आन्दोलन में बदल गयी। इसे ‘पंजाबी सूबा आंदोलन’ का नाम दिया गया। आजादी के समय पंजाब दो भागों में बंटा हुआ था। शिरोमणि अकाली दल भारत में ही भाषाई आधार पर एक स्वतंत्र सिख राज्य की मांग कर रहा था। भारत में गठित राज्य पुनर्गठन आयोग ने इस मांग को मानने से इनकार कर दिया।अलग सिख प्रांत के लिए पूरे पंजाब में 19 वर्षों तक आंदोलन और प्रदर्शन होते रहे। इस दौरान हिंसा की घटनाएं बढ़ने लगीं|
एक घाव और तीन टुकड़े: आखिरकार 1966 में इंदिरा गांधी सरकार ने पंजाब को तीन हिस्सों में बांटने का फ़ैसला किया| सिख बहुल पंजाब, हिंदी भाषी हरियाणा और एक तिहाई हिस्सा चंडीगढ़। चंडीगढ़ को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया| चंडीगढ़ को दोनों नये प्रदेशों की राजधानी बनाया गया। इसके अलावा पंजाब के कुछ पहाड़ी इलाकों को हिमाचल प्रदेश में मिला दिया गया। पंजाब को एक स्वतंत्र राज्य का दर्जा मिल गया, लेकिन कई लोग इस विभाजन से परेशान थे। कुछ लोग पंजाब को दिए गए क्षेत्रों से नाखुश थे, जबकि अन्य साझा राजधानी के विचार से नाराज थे।
सिखों के लिए अलग ‘खालिस्तान’: 1969 में पंजाब में विधानसभा चुनाव हुए। यह चुनाव टांडा विधानसभा क्षेत्र से रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के प्रत्याशी जगजीत चौहान ने लड़ा था, लेकिन हार गए। चुनाव हारने के बाद जगजीत सिंह चौहान ब्रिटेन चले गये और वहां खालिस्तान आंदोलन शुरू कर दिया|  खालिस्तान का मतलब है खालसाओं की धरती|1971 में जगजीत सिंह ने खालिस्तान आंदोलन के लिए फंड मांगने के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स में एक विज्ञापन भी दिया था। जगजीत सिंह 1977 में भारत लौट आए और 1979 में ब्रिटेन लौट आए। उन्होंने यहां जाकर ‘खालिस्तान नेशनल काउंसिल’ की स्थापना की|
आनंदपुर साहिब संकल्प: पंजाबी आंदोलन से अकाली दल को बहुत राजनीतिक लाभ हुआ। इसके बाद प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व में पार्टी ने 1967 और 1969 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को कड़ी टक्कर दी| हालाँकि, 1972 का चुनाव अकाली की बढ़ती राजनीतिक प्रोफ़ाइल के लिए बुरा साबित हुआ। इस बार कांग्रेस सत्ता में आई। इसने शिरोमणि अकाली दल को सोचने पर मजबूर कर दिया| 1973 में अकाली दल ने अपने राज्य के लिए और अधिक अधिकारों की मांग की| आनंदपुर साहिब प्रस्ताव के माध्यम से इस स्वायत्तता की मांग की गई थी। आनंदपुर साहिब प्रस्ताव में, सिखों ने अधिक स्वायत्त पंजाब के लिए एक अलग संविधान की मांग की। 1980 के दशक तक, आनंदपुर साहिब प्रस्ताव के लिए सिखों का समर्थन बढ़ गया था।
कौन थे जरनैल सिंह भिंडरावाले?: 13 अप्रैल 1978 को अकाली कार्यकर्ताओं और निरंकारियों के बीच हिंसक झड़प हुई। इस संघर्ष में 13 अकाली कार्यकर्ताओं की मौत हो गई| इसके बाद रोश दिवस मनाया गया, जिसमें जरनैल सिंह भिंडरावाले ने भाग लिया। भिंडरावाले ने पंजाब और सिखों की मांगों पर सख्त रुख अपनाया। वह हर जगह भड़काऊ भाषण देने लगे| जरनैल सिंह भिंडरावाले आनंद साहिब प्रस्ताव के कट्टर समर्थक थे। एक रागी के रूप में अपना सफर शुरू करने वाला भिंडरावाले बाद में आतंकवादी बन गया। मशहूर सिख पत्रकार खुशवंत सिंह ने भिंडरावाले के बारे में कहा था कि भिंडरावाले हर सिख को 32 हिंदुओं को मारने के लिए उकसाता था| उन्होंने कहा कि इससे सिखों की समस्या हमेशा के लिए हल हो जायेगी|
1982 में भिंडरावाले ने शिरोमणि अकाली दल से हाथ मिलाया और असहयोग आंदोलन शुरू किया| यह असहयोग आंदोलन आगे चलकर सशस्त्र विद्रोह में बदल गया। इस बीच भिंडरावाले का विरोध करने वाले उसकी हिट लिस्ट में आ गए| इसलिए खालिस्तानी आतंकियों ने पंजाब केसरी के संस्थापक और संपादक लाला जगत नारायण की हत्या कर दी| आतंकियों ने अखबार हॉकर को भी नहीं बख्शा| इसके बाद सुरक्षा बलों से बचने के लिए भिंडरावाले स्वर्ण मंदिर में घुस गया| कुछ महीनों बाद भिंडरावाले ने सिख धर्म की सर्वोच्च संस्था ‘अकाल तख्त’ से अपने विचार रखना शुरू कर दिया। दो साल तक सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया|
भारतीय सेना को क्यों बुलाना पड़ा?: प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने भिंडरावाले को पकड़ने के लिए एक गुप्त ‘छीनो और पकड़ो’ ऑपरेशन को लगभग मंजूरी दे दी थी। इस ऑपरेशन के लिए 200 कमांडो को ट्रेनिंग भी दी गई थी,जब इंदिरा गांधी से पूछा गया कि इस दौरान आम लोगों को कितना नुकसान हो सकता है तो उन्हें कोई जवाब नहीं मिला| इस बीच, 5 जून को सभी कांग्रेस सांसदों और विधायकों को जान से मारने की धमकी और गांवों में हिंदुओं की सामूहिक हत्याएं शुरू करने की योजना का खुलासा होने के बाद सरकार ने भारतीय सेना को बुलाने का फैसला किया।
क्या था ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’?: स्वर्ण मंदिर से भिंडरावाले और हथियारबंद समर्थकों को हटाने के लिए इंदिरा गांधी की सरकार द्वारा शुरू किए गए सैन्य अभियान को ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ नाम दिया गया था। 1 से 3 जून 1984 के बीच पंजाब में रेल, सड़क और हवाई सेवाएं निलंबित कर दी गईं। स्वर्ण मंदिर में पानी और बिजली की आपूर्ति काट दी गई। अमृतसर में पूर्ण कर्फ्यू लगा दिया गया।सीआरपीएफ सड़क पर गश्त कर रही थी| स्वर्ण मंदिर के अंदर और बाहर जाने के सभी रास्ते भी पूरी तरह से बंद कर दिए गए। इस ऑपरेशन का पहला चरण 5 जून 1984 को रात 10:30 बजे लॉन्च किया गया था। स्वर्ण मंदिर परिसर के अंदर की इमारतों पर सामने से हमला किया गया। इसी बीच खालिस्तानी आतंकियों ने भी सेना पर फायरिंग कर दी |
इस बार सेना आगे नहीं बढ़ सकी| दूसरी ओर, पंजाब के बाकी हिस्सों में भी सेना ने गांवों और गुरुद्वारों से संदिग्धों को पकड़ने के लिए एक साथ अभियान चलाया। एक दिन बाद जनरल केएस बरार ने स्थिति से निपटने के लिए टैंक बुलाये| छह जून को परिक्रमा मार्ग की सीढ़ियों से टैंक उतारे गए थे। इस गोलीबारी में अकाल तख्त की इमारत को बड़ा नुकसान हुआ है| कुछ घंटों बाद भिंडरावाले और उसके कमांडरों के शव मिले। 7 जून तक भारतीय सेना ने इलाके पर कब्ज़ा कर लिया. ऑपरेशन ब्लू स्टार 10 जून 1984 की दोपहर को ख़त्म हुआ। इस पूरे ऑपरेशन में सेना के 83 जवान शहीद हो गए और 249 घायल हो गए. सरकार के मुताबिक हमले में 493 आतंकवादी और नागरिक मारे गए. कई सिख संगठनों का दावा है कि ऑपरेशन के दौरान कम से कम 3,000 लोग मारे गए।
 
‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ के परिणाम:ऑपरेशन ब्लूस्टार में निर्दोष लोगों की जान जाने के विरोध में कैप्टन अमरिन्दर सिंह समेत कई सिख नेताओं ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया। खुशवंत सिंह समेत जाने-माने लेखकों ने अपने सरकारी पुरस्कार लौटा दिये. चार महीने बाद, 31 अक्टूबर 1984 को प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके दो सिख अंगरक्षकों ने गोली मारकर हत्या कर दी। बाद में 1984 के सिख विरोधी दंगों में 8,000 से अधिक सिख मारे गए। सबसे ज्यादा दंगे दिल्ली में हुए| एक साल बाद, 23 जून 1985 को कनाडा में रहने वाले खालिस्तान समर्थकों ने एयर इंडिया की एक फ्लाइट पर बमबारी की। इस बीच 329 लोगों की मौत हो गई| बब्बर खालसा के आतंकियों ने इसे भिंडरावाले की मौत का बदला बताया है|
10 अगस्त 1986 को ऑपरेशन ब्लू स्टार का नेतृत्व करने वाले पूर्व सेना प्रमुख जनरल एएस वैद्य की पुणे में दो बाइक सवार आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी। खालिस्तान कमांडो फोर्स ने हत्या की जिम्मेदारी ली है। 31 अगस्त 1995 को पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की कार के पास एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया। इसमें बेअंत सिंह की मौत हो गई| सिंह को पंजाब में आतंकवाद ख़त्म करने का श्रेय दिया गया।
यह भी पढ़ें-

 

पीएम मोदी ने ‘उस’ बयान के लिए नीतीश की आलोचना की, साथ ही इंडिया अलायंस पर भी हमला बोला!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,542फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
162,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें