31 C
Mumbai
Sunday, May 19, 2024
होमदेश दुनियानिपाह से मृत्यु दर कोरोना से भी ज्यादा, आईसीएमआर ने जताई चिंता...

निपाह से मृत्यु दर कोरोना से भी ज्यादा, आईसीएमआर ने जताई चिंता !

केरल के कोझिकोड जिले के आसपास के इलाकों में घातक निपाह वायरस का प्रकोप देखा जा रहा है। केरल में निपाह से दो लोगों की मौत हो गई है| इसके साथ ही छह संदिग्ध केस मिले हैं। इसलिए स्वास्थ्य विभाग के सामने निपाह वायरस का नया संकट मंडरा रहा है| 

Google News Follow

Related

निपाह वायरस का खतरा दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। केरल के कोझिकोड जिले के आसपास के इलाकों में घातक निपाह वायरस का प्रकोप देखा जा रहा है। केरल में निपाह से दो लोगों की मौत हो गई है| इसके साथ ही छह संदिग्ध केस मिले हैं। इसलिए स्वास्थ्य विभाग के सामने निपाह वायरस का नया संकट मंडरा रहा है|
इसी पृष्ठभूमि में केंद्र और केरल राज्य सरकारों की स्वास्थ्य प्रणालियों ने सावधानी बरतते हुए निवारक उपायों के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास शुरू कर दिए हैं। डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी संदिग्ध मरीजों के सैंपल इकट्ठा कर रहे हैं| इन नमूनों को परीक्षण के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) भेजा जा रहा है।

इस बीच विशेषज्ञों की राय है कि निपाह वायरस से संक्रमित लोगों की मृत्यु दर कोरोना वायरस से होने वाली मौतों से अधिक है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के प्रमुख डॉ. राजीव बहल ने कहा, निपाह वायरस की मृत्यु दर कोरोना वायरस की तुलना में बहुत अधिक है। निपाह वायरस से मृत्यु दर 40 से 70 फीसदी है. कोरोना वायरस से मृत्यु दर 2 से 3 फीसदी है|

इस बीच, भारत निपाह के मरीजों के इलाज के लिए ऑस्ट्रेलिया से मोनोक्लोनल एंटीबॉडी की खुराक मंगवाएगा। डॉ. ने यह भी कहा कि इस बीमारी को फैलने से रोकने और वर्तमान में जो लोग निपाह से संक्रमित हैं, उनके इलाज के लिए एक प्रभावी टीका विकसित करने का काम जल्द ही शुरू किया जाएगा|

केरल में 2018 के बाद से चौथी बार निपाह वायरस का मामला सामने आया है। पिछली निपाह महामारी के अनुभव और दो साल बाद कोरोना संकट की चुनौतियों के कारण केरल सरकार अब तत्काल कदम उठा रही है। इसके चलते फिलहाल निपाह के मरीजों की संख्या सीमित नजर आ रही है। केरल में निपाह से दो लोगों की मौत हो गई है. अब तक कुल छह लोग संक्रमित हो चुके हैं। निपाह का यह रूप बांग्लादेश से है।
यह भी पढ़ें-

अनंतनाग में सर्च अभियान जारी; आतंकवादियों का पता लगाने के लिए ड्रोन का उपयोग !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,602फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
153,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें