28 C
Mumbai
Wednesday, February 28, 2024
होमक्राईमनामा'​इजरायल​-हमास युद्ध​: अमेरिका ने ईरान को दी चेतावनी; "हमारे लड़ाकू विमान..."​!

‘​इजरायल​-हमास युद्ध​: अमेरिका ने ईरान को दी चेतावनी; “हमारे लड़ाकू विमान…”​!

इजराइल और फिलिस्तीन के बीच चल रहे युद्ध पर पूरी दुनिया का ध्यान है| फिलिस्तीन के आतंकी संगठन हमास ने शनिवार को इजरायल पर हजारों मिसाइलें दागकर युद्ध की शुरुआत कर दी| यह इजरायल के लिए बहुत बड़ा झटका था, जो असहाय था। इस हमले में अब तक सैकड़ों इजरायली नागरिक मारे जा चुके हैं|

Google News Follow

Related

इजराइल और फिलिस्तीन के बीच चल रहे युद्ध पर पूरी दुनिया का ध्यान है| फिलिस्तीन के आतंकी संगठन हमास ने शनिवार को इजरायल पर हजारों मिसाइलें दागकर युद्ध की शुरुआत कर दी| यह इजरायल के लिए बहुत बड़ा झटका था, जो असहाय था। इस हमले में अब तक सैकड़ों इजरायली नागरिक मारे जा चुके हैं| साथ ही हमास के आतंकियों ने इजरायल में घुसपैठ कर 150 से ज्यादा इजराइली महिलाओं का अपहरण कर लिया है|

हमास के हमले के बाद इजरायली सेना ने गाजा पट्टी पर हमला कर दिया और इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने युद्ध की घोषणा कर दी| पांच दिनों के युद्ध में अब तक 2,000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं|

इस बीच, दुनिया भर के कई देशों ने इजरायल या फिलिस्तीन के प्रति अपना समर्थन दिखाया है। इनमें से अमेरिका इजरायल के साथ खड़ा है। यह बात सामने आई है कि फिलिस्तीन और हमास को लेबनान और ईरान से मदद मिल रही है. इसलिए, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने ईरान की स्थिति पर अपना गुस्सा व्यक्त किया।

साथ ही बाइडेन ने ईरान को हमास-इजरायल संघर्ष में न पड़ने की चेतावनी भी दी है| वहीं दूसरी ओर इस युद्ध की स्थिति को संभालने के लिए इजरायल ने बड़ा फैसला लिया है| इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और विपक्षी नेता बेनी गैंट्ज़ ने हमास आतंकवादियों से लड़ने के लिए एक आपातकालीन युद्ध सरकार का गठन किया है।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंथनी ब्लिंकन इजरायल जाएंगे| अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बुधवार को यहूदी नेताओं की बैठक बुलाई| इस बैठक में बाइडन ने कहा, हमने अपने विमान और युद्धपोत जो इजराइल की ओर भेजे हैं, वह ईरान के लिए एक संदेश है। क्योंकि वे हमास और हिजबुल्लाह (लेबनान में आतंकवादी संगठन) का समर्थन करते हैं।
जो बाइडेन ने कहा, ”यह हमास द्वारा किया गया क्रूर हमला था।” वह दिन (हमले का दिन – 7 अक्टूबर) यहूदी समुदाय के लिए एक काला दिन था। हम इजरायली रक्षा बलों को अतिरिक्त सैन्य सहायता प्रदान कर रहे हैं। साथ ही सेना की इन टुकड़ियों को भी बढ़ाया जाएगा|अमेरिका इजराइल को गोला-बारूद की आपूर्ति कर रहा है| हम पूर्वी भूमध्य सागर में सेना और हथियार वाहक तैनात कर रहे हैं। हम वहां लड़ाकू विमान भी भेज रहे हैं| ये ईरान के लिए एक चेतावनी है|
यह भी पढ़ें-

भाजपा नेता की चीनी मिल की ईडी जांच क्यों नहीं हो रही है? राजू शेट्टी का सवाल !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें