34 C
Mumbai
Tuesday, April 16, 2024
होमदेश दुनियाअयोध्या में रामनवमी में लाखों श्रद्धालुओं के आने की संभावना!

अयोध्या में रामनवमी में लाखों श्रद्धालुओं के आने की संभावना!

रामनवमी के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के अयोध्या आने की संभावना है|अनुमान है कि इस दौरान 50 लाख श्रद्धालु अयोध्या में मौजूद रहेंगे|

Google News Follow

Related

22 जनवरी को रामलला को अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा होने के बाद से भक्तों की अपार भीड़ देखी जा रही है। रामनवमी के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के अयोध्या आने की संभावना है|अनुमान है कि इस दौरान 50 लाख श्रद्धालु अयोध्या में मौजूद रहेंगे|एक महीने में अयोध्या राम मंदिर में 25 करोड़ रुपये का चंदा इकट्ठा हुआ है|बड़ी मात्रा में नकदी जमा होने के कारण भारतीय स्टेट बैंक ने इसके प्रबंधन के लिए चार स्वचालित हाई-टेक काउंटिंग मशीनें लगाई हैं। यह जानकारी राम ट्रस्ट के अधिकारी प्रकाश गुप्ता ने दी|

25 किलो सोना-चांदी का दान: प्रकाश गुप्ता ने इस दान के बारे में जानकारी दी| इसके अनुसार इसमें 25 किलो सोने-चांदी के आभूषण, चेक, ड्राफ्ट और नकदी शामिल है। ट्रस्ट के बैंक खाते में सीधे ऑनलाइन कितनी रकम जमा हुई, इसकी जानकारी सामने नहीं आई है| राम भक्त चांदी और सोने की वस्तुएं दान कर रहे हैं| इनमें से कुछ वस्तुओं का उपयोग राम मंदिर में नहीं किया जा सकता है। भक्तों के उत्साह और भक्ति को देखते हुए, मंदिर दान के रूप में सोने और चांदी की सामग्री, आभूषण, बर्तन स्वीकार कर रहे हैं। 23 जनवरी से अब तक 60 लाख से ज्यादा श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर चुके हैं|

तैयार किया जाएगा प्रतीक्षालय: राम मंदिर ट्रस्ट ने रामनवमी उत्सव की तैयारी अभी से शुरू कर दी है| अप्रैल माह में रामनवमी है| उस समय करीब 50 लाख श्रद्धालुओं के रामलला के दर्शन करने की संभावना है| भक्तों से दान रसीद प्राप्त करने के लिए एक दर्जन कम्प्यूटरीकृत काउंटर बनाए गए हैं। मंदिर परिसर में अतिरिक्त दान पेटियों की व्यवस्था की गई है। अब नकदी, दान में दी गई वस्तुओं की गिनती के लिए एक सुसज्जित मतगणना कक्ष बनाया जाएगा।

सोना-चांदी सरकार दरबारी: राम मंदिर के लिए दान के रूप में प्राप्त सोना, चांदी और अन्य मूल्यवान उपहारों को गलाने और संरक्षण के लिए भारत सरकार को सौंपने का निर्णय लिया गया है।यह जानकारी ट्रस्टी अनिल मिश्र ने दी| इस दान को लेकर अब एसबीआई के साथ एक समझौता किया गया है|इसके बाद एसबीआई दान, चेक, ड्राफ्ट और नकदी जमा करने और प्रबंधित करने के लिए जिम्मेदार है।फिलहाल इस चैरिटी की पूरी जानकारी दो बार रखी जा रही है|

यह भी पढ़ें-

मराठा आरक्षण: नितेश राणे की मनोज जरांगे को गंभीर चेतावनी!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,646फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें