26 C
Mumbai
Thursday, July 18, 2024
होमदेश दुनियामहाराष्ट्र: 500 बिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने वाला पहला राज्य; एक ट्रिलियन...

महाराष्ट्र: 500 बिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने वाला पहला राज्य; एक ट्रिलियन डॉलर बनने का रास्ता खुला !

...जल्द ही एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था भी बनेगा।

Google News Follow

Related

भारत की अर्थव्यवस्था जल्द ही विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगी ऐसा अनुमान विश्व भर के इंडेक्स, बैंको और अर्थशास्त्रियों का है। भारत सरकार ने भी इसी को लक्ष्य बनाते हुए 2026 तक भारत की अर्थव्यवस्था को पांच ट्रिलियन बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

ऐसे में भारत के राज्यों को भी अपनी अर्थव्यवस्था को बड़ी बनाने के लक्ष्य को निर्धारित करना जरुरी था, जिसमें महाराष्ट्र, तेलंगाना और गुजरात, आंधप्रदेश , कर्नाटक, तमिलनाडु इन राज्यों ने कमर कस ली है। महाराष्ट्र ने भी 2026 तक अपनी अर्धव्यवस्था को एक ट्रिलियन पहुंचाने का लक्ष्य सामने रखा है।

इसी के उपलक्ष्य में विधानसभा अधिवेशन सत्र में बात करते हुए महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा की महाराष्ट्र डॉलर की स्थिर कीमतों के प्रमाण में 500 बिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने वाला पहला राज्य बना है। और जल्द ही एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था भी बनेगा।

बता दें की महाराष्ट्र केंद्र सरकार की गुड गवर्नेंस रिपोर्ट में दूसरे स्थान पर आने वाला राज्य है, इसी के साथ नए बन रहे समृद्धि महामार्ग और डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर की मदद से महाराष्ट्र और भी विदेशी निवेश जुटाने में सक्षम होगा। इसी के साथ संभाजीनगर में 350 में फैला स्मार्ट सीटी जैसे प्रोजेक्ट महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था को बूस्ट देंगे। सरकार दिल्ली-मुंबई कॉरिडोर से सटे रायगढ़ जिले में 2,500 एकड़ में एक बल्क ड्रग पार्क बनाने की योजना बना रही है,जो फार्मा इंडस्ट्री में मिल का पत्थर साबित होगा।

महाराष्ट्र सरकार ने हवाई सेवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए कई विकल्प चुने हैं। हवाई यात्राओं की रिपोर्ट पर गौर करें तो दिसंबर 2021 के अंत तक 1 मिलियन से अधिक यात्रियों ने केवल शिरडी हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी। साथ ही सरकार मुंबई की सार्वजनिक परिवहन प्रणाली को बढ़ाने के लिए मेट्रो परियोजनाओं के विकास में तेजी ला रही है। हाल ही में मुंबई मेट्रो लाइन 2ए और 7 को चालू कर दिया गया है, जबकि 14 अन्य मेट्रो परियोजनाओं पर काम तेजी से चल रहा है।

महाराष्ट्र राज्य विद्युत उत्पादन कंपनी ने गैर-पारंपरिक बिजली उत्पादन को बढ़ाने के लिए 187 और 390 मेगावाट की सौर ऊर्जा परियोजनाएं स्थापित करने की योजना बनाई है और मुख्यमंत्री सौर कृषि पंप योजना के तहत एक लाख का.लघु सिंचाई पंप स्थापित करने का लक्ष्य था, जिसमें  99,852 सौर कृषि पंप स्थापित किए गए हैं।

राज्य के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का कहना है की, महाराष्ट्र में तेजी से अर्थव्यवस्था की बुनियाद रखने वाली सेवा- सुविधाओं की बेहतरी की ओर बढ़ रहा है, जो आने वालों सालों में एक ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बन देश के अन्य राज्यों का नेतृत्व करता दिखेगा।

यह भी पढ़े-

World Cup: 2011 में महेंद्र सिंह धोनी की टीम को कितनी पुरस्कार राशि मिली?

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,504फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
165,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें