32 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमदेश दुनियामुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने फिर जताई सूर्य नमस्कार पर आपत्ति 

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने फिर जताई सूर्य नमस्कार पर आपत्ति 

Google News Follow

Related

एक बार फिर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने केंद्र सरकार के उस फैसले पर आपत्ति जताई है जिसमें कहा गया है कि 1 से 7 जनवरी तक स्कूलों में सूर्य नमस्कार का आयोजन किया जाएगा। बोर्ड ने कहा है कि इस्लाम में सूर्य नमस्कार की इजाजत नहीं है। बोर्ड ने सरकार से इस आदेश को वापस लेने की मांग की है। बता दें इससे पहले भी कई बार बोर्ड सूर्य नमस्कार पर आपत्ति जता चुका है।

बोर्ड ने कहा है कि शिक्षा मंत्रालय ने 1 से 7 जनवरी तक 30 राज्यों में सूर्य नमस्कार योजना चलाने का फैसला किया है। इसके तहत 30 हजार स्कूलों को शामिल किया जाना तय किया है। बोर्ड के महासचिव मौलाना खालिद सैफुल्लाह ने मुस्लिम छात्रों को ‘सूर्य नमस्कार’ से दूर रहने की अपील है। साथ ही उन्होंने कहा है कि ” भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है साथ ही बहु धार्मिक और बहु संस्कृति देश है। उन्होंने अपने बयान में आगे कहा है कि  इसी को ध्यान में रखकर भारतीय संविधान लिखा गया है। साथ स्कूल पाठ्यक्रम भी उसी आधार पर बनाये गए हैं,लेकिन वर्तमान सरकार इससे भटक रही है।
महासचिव ने कहा है कि इस्लाम में सूर्य नमस्कार को इजाजत नहीं है इसलिए मुस्लिम छात्र  या छात्राएं केंद्र सरकार द्वारा आयोजित किये जाने वाले सूर्य नमस्कार के कार्यक्रम में शामिल न हो।  उन्होंने आगे कहा कि सूर्य नमस्कार पूजा का ही दूसरा रूप है। इस्लाम में  सूर्य को देवता नहीं माना गया है और नहीं  इसके पूजा पाठ को सही  मानता है।
ये भी पढ़ें

खुली पोल: गलवान घाटी में नहीं फहराया गया चीनी झंडा  

कांग्रेस नेता आरोन ने मैराथन में मची भगदड़ की तुलना वैष्णो देवी के हादसे से की

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,600फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें