26 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमदेश दुनियाराम मंदिर के दर्शन को उत्सुक दक्षिण कोरिया का अयोध्या से है...

राम मंदिर के दर्शन को उत्सुक दक्षिण कोरिया का अयोध्या से है खास कनेक्शन

कोरियाई पौराणिक कथाओं के अनुसार, लगभग 2,000 साल पहले, अयोध्या की राजकुमारी सुरीरत्ना ने गया साम्राज्य के संस्थापक राजा किम सुरो से शादी करने के लिए 4,500 किलोमीटर की यात्रा की थी। यह रिश्ता आज भी कोरिया और भारत के बीच मजबूत सांस्कृतिक और धार्मिक संबंधों का आधार है।

Google News Follow

Related

6 मिलियन से अधिक दक्षिण कोरियाई लोग अयोध्या को अपना घर कहते हैं। ये बात बहुत कम लोग जानते हैं| उनका मानना है कि ये लोग अयोध्या की राजकुमारी सुरीरत्ना के वंशज हैं, जिन्होंने 48 ईस्वी में कोरिया के राजा किम सुरो से शादी की थी। 22 जनवरी को अयोध्या में रामलला के विराजमान होने के समारोह को दक्षिण कोरिया में भी बड़े चाव से देखा गया|कोरियाई पौराणिक कथाओं के अनुसार, लगभग 2,000 साल पहले, अयोध्या की राजकुमारी सुरीरत्ना ने गया साम्राज्य के संस्थापक राजा किम सुरो से शादी करने के लिए 4,500 किलोमीटर की यात्रा की थी। यह रिश्ता आज भी कोरिया और भारत के बीच मजबूत सांस्कृतिक और धार्मिक संबंधों का आधार है।

दक्षिण कोरिया के “करक” समुदाय के लोग, जो खुद को सुरीरत्ना का वंशज मानते हैं, हर साल अयोध्या आते हैं और रानी हियो ह्वांग ओके के स्मारक पर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। यह स्मारक 2001 में उत्तर प्रदेश सरकार और दक्षिण कोरिया सरकार के सहयोग से सरयू नदी के तट पर स्थापित किया गया था। यू जिन ली, जो अपने देश के 22 अन्य लोगों के साथ अगले महीने अयोध्या जाने की योजना बना रहे हैं, ने कहा,“हम हर साल स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए अयोध्या जाते हैं और इस बार हम नए राम मंदिर का दौरा करने की भी योजना बना रहे हैं।

अयोध्या हमारे लिए बहुत खास है, क्योंकि हम इसे अपनी दादी के घर के रूप में देखते हैं। हम नवनिर्मित राम मंदिर को देखने के लिए बहुत उत्साहित हैं। उन्होंने भारत और दक्षिण कोरिया के बीच सांस्कृतिक और धार्मिक संबंधों को मजबूत करने के लिए काम करने की इच्छा व्यक्त की।किम चिल-सू ने कहा, ”हमारा मानना है कि अयोध्या और दक्षिण कोरिया के बीच का रिश्ता एक विशेष रिश्ता है| हम दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक और धार्मिक संबंधों को मजबूत करने के लिए काम करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, नवनिर्मित राम मंदिर के उद्घाटन के बाद यह कोरियाई पर्यटकों के लिए भी एक प्रमुख आकर्षण बन जाएगा।

यह भी पढ़ें-

केंद्रीय चुनाव आयोग का फैसला: पार्टी और चुनाव चिन्ह को लेकर कही ख़ुशी तो कही गम!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें