29 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमदेश दुनियारामलला के जीवन अभिषेक का शुभ मुहूर्त मात्र 84 सेकंड, संजीवनी मुहूर्त...

रामलला के जीवन अभिषेक का शुभ मुहूर्त मात्र 84 सेकंड, संजीवनी मुहूर्त का समय क्या है?

इस मुहूर्त की खास बात यह है कि किसी भी मुहूर्त में दोष उत्पन्न करने वाले पांच बाण यानी रोग बाण, मृत्यु बाण, राजा बाण, चोर बाण और अग्नि बाण इनमें से कोई भी इसमें मौजूद नहीं रहेगा। संजीवनी मुहूर्त​| 

Google News Follow

Related

22 जनवरी 2024 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर बनने वाले भव्य राम मंदिर में भगवान रामलला को विराजमान किया जाएगा। रामलला की मूर्ति की स्थापना एक निश्चित समय पर की जाएगी|महाकवि कालिदास ने अपनी पुस्तक ‘पूर्व कालामृत’ में 22 जनवरी के मुहूर्त को संजीवनी मुहूर्त कहा है। इस मौके पर रामलला की मूर्ति स्थापित की जाएगी​| इस मुहूर्त की खास बात यह है कि किसी भी मुहूर्त में दोष उत्पन्न करने वाले पांच बाण यानी रोग बाण, मृत्यु बाण, राजा बाण, चोर बाण और अग्नि बाण इनमें से कोई भी इसमें मौजूद नहीं रहेगा। संजीवनी मुहूर्त​| 

त्रेतायुग में राम और रावण ने युद्ध में लक्ष्मण को खो दिया था। भक्त हनुमान ने संजीवनी लाकर आर्यावर्त की पीड़ा दूर की थी। अयोध्या में राम मंदिर के पुनर्निर्माण का काम शुरू हो चुका है​| देशभर में उत्साह का माहौल है​|इसलिए, पं. गणेशेश्वर शास्त्री द्रविड़ और पं. विश्वेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का शुभ मुहूर्त ‘संजीवनी’ तय किया है​| यह संजीवनी मुहूर्त 22 जनवरी को दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर शुरू हो रहा है।यह समय 12:30 मिनट और 32 सेकेंड का है​|मतलब है कि कुल 84 सेकंड (एक मिनट और 24 सेकंड) प्राणप्रतिष्ठा के लिए बहुत ही कम समय है।

छह ग्रह अपने घरों में रहेंगे: संजीवनी मुहूर्त की एक और विशेषता यह है कि इस अवधि के दौरान नौ में से छह ग्रह अनुकूल ग्रह के रूप में हमारे घरों में होंगे। मेष बृहस्पति इस शुभ अवधि की आत्मा है। लग्नस्थ गुरु की पूर्ण दृष्टि 5वें, 7वें और 9वें भाव पर पड़ रही है। इसे बहुत शुभ माना जाता है​| लग्नस्थ बुध सभी दोषों को दूर करने में सक्षम होता है। उच्च का चंद्रमा दूसरे घर में है, केतु छठे घर में है, बुध और शुक्र नौवें घर में हैं और शनि 11वें घर में है। शास्त्र के अनुसार नवम भाव में बुध अकेले ही सौ दोष और शुक्र दो सौ दोष दूर करने में सक्षम होता है।

काशी में सभी पवित्र स्थानों के जल से अभिषेक: जीवन अभिषेक अनुष्ठान में काशी का विशेष महत्व है। इसमें जलाधिवास, धन अधिवास, पुष्पाधिवास, फलाधिवास और सिया अधिवास की प्रक्रिया पूरी की जाती है। राम मंदिर अभिषेकम के लिए आयोजित जलाधिवास में सहस्र चूड़ा अभिषेकम एक हजार छेद वाले घड़े के माध्यम से किया जाएगा। यह मटका काशी में तैयार किया जा रहा है। इस घड़े में देश के सभी तीर्थ स्थलों, पवित्र नदियों और समुद्रों से जल भरकर रामलला का अभिषेक किया जाएगा​| 

नौ आकार के नौ मंडपों में होंगे अनुष्ठान: काशी के वैदिक लोगों के निर्देश पर प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के लिए नौ मंडपों का निर्माण किया गया है। इन मंडपों में नौ आकार के हवन कुंड बनाए जाएंगे। तालाब निर्माण अनुष्ठान के मुख्य आचार्य पं. लक्ष्मीकान्त दीक्षित के सुझाव पर उनके पुत्र पं. अरुण दीक्षित जल्द ही अयोध्या के लिए रवाना होंगे​| सभी नौ मंडपों में एक साथ धार्मिक अनुष्ठान होंगे। शास्त्र के अनुसार झीलों की नौ आकृतियाँ चतुर्भुजाकार, पद्माकर, अर्धचंद्राकार, त्रिभुजाकार, वृत्ताकार, योनिकार, षटकोणीय, अष्टकोणीय होती हैं।

​यह भी पढ़ें-

 

प्रशांत किशोर ने जगनमोहन रेड्डी के कट्टर विरोधी चंद्रबाबू नायडू से मुलाकात की ​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें