36 C
Mumbai
Thursday, February 29, 2024
होमदेश दुनिया“प्राणप्रतिष्ठा समारोह शास्त्रों के अनुसार है, क्योंकि…”,- पद्म विभूषण स्वामी रामभद्राचार्य !

“प्राणप्रतिष्ठा समारोह शास्त्रों के अनुसार है, क्योंकि…”,- पद्म विभूषण स्वामी रामभद्राचार्य !

एक अधूरे मंदिर का उद्घाटन करना और वहां भगवान की मूर्ति स्थापित करना गलत है। हम शास्त्रों के विरुद्ध नहीं जा सकते। चारों शंकराचार्य प्राणप्रतिष्ठा समारोह में शामिल नहीं होंगे क्योंकि शंकराचार्य मंदिर निर्माण में शामिल हैं और कार्यक्रम का आयोजन हिंदू धर्म के स्थापित मानदंडों की अनदेखी है। 

Google News Follow

Related

सनातन धर्म के अनुसार, मंदिर का निर्माण पूरा होने के बाद मूर्ति को प्रतिष्ठित किया जाना चाहिए, चारों शंकराचार्यों ने अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है कि वे मूर्ति स्थापना समारोह में शामिल नहीं होंगे|इस पर संस्कृत विज्ञान पद्म विभूषण स्वामी रामभद्राचार्य महाराज ने प्रतिक्रिया दी है| एक अधूरे मंदिर का उद्घाटन करना और वहां भगवान की मूर्ति स्थापित करना गलत है। हम शास्त्रों के विरुद्ध नहीं जा सकते। चारों शंकराचार्य प्राणप्रतिष्ठा समारोह में शामिल नहीं होंगे क्योंकि शंकराचार्य मंदिर निर्माण में शामिल हैं और कार्यक्रम का आयोजन हिंदू धर्म के स्थापित मानदंडों की अनदेखी है।

इस पर स्वामी रामभद्राचार्य ने कहा, ”प्राणप्रतिष्ठा समारोह शास्त्र के अनुसार हो रहा है, क्योंकि इस मंदिर का निर्माण पूरा हो चुका है, जब भगवान राम 14 वर्ष बाद अयोध्या लौटे तो मेरी भी वही प्रतिक्रिया थी जो अयोध्यावासियों की थी। आज मेरी ख़ुशी की कोई सीमा नहीं है|साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस प्राणप्रतिष्ठा समारोह के लिए 11 दिन का व्रत रखा है| इस पर स्वामी रामभद्राचार्य ने कहा, ‘क्या आपने कभी किसी प्रधानमंत्री को 11 दिन का उपवास करते देखा है? इसका मतलब यह है कि चूंकि गर्भ गृह पूरा हो चुका है, इसलिए वे कहते हैं कि प्राणप्रतिष्ठा समारोह अधार्मिक नहीं है।
खास बात यह है कि स्वामी रामभद्राचार्य अयोध्या में एक विशेष यज्ञ करा रहे हैं| यह यज्ञ पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को भारत को दिलाने के लिए किया जाएगा। इस संबंध में उन्होंने कहा, ”कश्मीर को पाकिस्तान से भारत में दिलाने के लिए कल (16 जनवरी) से अयोध्या में एक विशेष यज्ञ का आयोजन किया गया है| यदि हनुमान सीता माता को वापस ला सकते हैं तो वह उनकी भूमि भी वापस ला सकते हैं।
प्राणप्रतिष्ठा समारोह पर विवाद: अयोध्या में बन रहे राम मंदिर में प्राणप्रतिष्ठा 22 जनवरी को होगी| इस आयोजन को भव्य रूप देने के लिए अयोध्या में तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है और देशभर में उत्साह का माहौल बना हुआ है,लेकिन हिंदू धर्म में सम्माननीय स्थान रखने वाले शंकराचार्य ने कहा कि वह इस समारोह में शामिल नहीं होंगे|
अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट का क्या कहना है?: अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में शामिल ट्रस्ट ने कहा कि तीन मंजिला मंदिर की पहली मंजिल तैयार है, लेकिन बाकी निर्माण अगले दो वर्षों में पूरा किया जाएगा। हालांकि, मंदिर 22 जनवरी को भक्तों के लिए खोला जाएगा। शंकराचार्य के कार्यक्रम में शामिल नहीं होने को लेकर मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा, ”यह मंदिर रामानंद संप्रदाय का है, शैव, शाक्य और संन्यासियों का नहीं|निर्मोही अनी, दिगंबर अनी और निर्वाणी अनी की स्थापना अठारहवीं शताब्दी के वैष्णव संत स्वामी रामानंद के शिष्यों द्वारा की गई थी। उन्होंने निम्बार्क, रामानंद और माधवगोडेश्वर नामक चार उप-संप्रदायों की स्थापना की। रामानंद संप्रदाय ने केवल विष्णु के अवतार राम की परंपरा का पालन किया और सभी जातियों को सनातन धर्म में शामिल किया।
यह भी पढ़ें-

किरीट सोमैया ने कहा “शरद पवार परिवार दुनिया को पैसा कमाना सिखा सकता है”?

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें