28 C
Mumbai
Sunday, June 16, 2024
होमदेश दुनियाइसरो लॉन्च करेगा सबसे आधुनिक सैटेलाइट INSAT-3DS, होगा फायदा?

इसरो लॉन्च करेगा सबसे आधुनिक सैटेलाइट INSAT-3DS, होगा फायदा?

इसरो 17 फरवरी को भारत को प्राकृतिक आपदाओं की पूर्व चेतावनी देने के लिए एक उपग्रह लॉन्च करेगा। इस INSAT-3DS उपग्रह को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है। उपग्रह को शाम को जीएसएलवी रॉकेट पर आंध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया जाएगा।

Google News Follow

Related

इसरो 17 फरवरी को भारत को प्राकृतिक आपदाओं की पूर्व चेतावनी देने के लिए एक उपग्रह लॉन्च करेगा। इस INSAT-3DS उपग्रह को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है। उपग्रह को शाम को जीएसएलवी रॉकेट पर आंध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया जाएगा। इस उपग्रह को जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट (जीआरओ) में तैनात किया जाएगा। रॉकेट का निर्माण शुरू हो गया है| उपग्रह को रॉकेट के अंतिम चरण NOSE में रखा जाएगा।

इस उपग्रह का मुख्य उद्देश्य भूमि, समुद्र, मौसम और आपातकालीन सिग्नल प्रणाली के बारे में जानकारी प्रदान करना होगा। इसके अलावा यह सैटेलाइट बचाव कार्यों में भी मदद करेगा| उपग्रहों की INSAT-3 श्रृंखला में छह अलग-अलग प्रकार के भूस्थैतिक उपग्रह शामिल हैं। यह सातवां उपग्रह है| इन्सैट श्रृंखला के सभी पहले उपग्रह 2000 और 2004 के बीच लॉन्च किए गए थे। यह दूरसंचार, टीवी प्रसारण और मौसम संबंधी जानकारी प्रदान करता है। इन उपग्रहों में आधुनिक मौसम संबंधी उपकरणों से सुसज्जित 3ए, 3डी और 3डी प्राइम उपग्रह शामिल हैं।ये सभी कृत्रिम उपग्रह भारत और उसके आसपास जलवायु परिवर्तन के बारे में सटीक और अग्रिम जानकारी प्रदान करते हैं। इनमें से प्रत्येक उपग्रह ने भारत और इसके आसपास के क्षेत्रों में दूरसंचार प्रौद्योगिकी और मौसम विज्ञान प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने में मदद की है|

उपग्रह कहां तैनात किए जाते हैं: ये उपग्रह भूमध्य रेखा के ऊपर तैनात किए जाते हैं। जिससे भारतीय उपमहाद्वीप पर कड़ी नजर रखना संभव हो जाता है। इन उपग्रहों को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित किया जाता है। इन उपग्रहों का वजन 2275 किलोग्राम है। उपग्रह 6 चैनल इमेजर और 19 चैनल साउंडर मौसम विज्ञान पेलोड ले जाएगा। इन उपग्रहों का संचालन इसरो के साथ-साथ भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) द्वारा किया जाता है।इस प्रकार, प्राकृतिक आपदाओं के घटित होने से पहले जनता को सूचित करना संभव है। उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले जाना संभव है| इस साल यह इसरो का दूसरा उपग्रह प्रक्षेपण होगा। पहले इस सैटेलाइट को जनवरी में लॉन्च किया जाना था, लेकिन इसकी लॉन्चिंग टाल दी गई|

यह भी पढ़ें-

कट्टर शिवसैनिक को अंतिम विदाई, ठाकरे परिवार ने घोसालकर से की मुलाकात!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,562फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें