30 C
Mumbai
Wednesday, May 29, 2024
होमदेश दुनिया'भारत चांद पर पहुंच गया', कराची में बच्चे सीवर में जान दे...

‘भारत चांद पर पहुंच गया’, कराची में बच्चे सीवर में जान दे रहे हैं – कमाल

Google News Follow

Related

“भारत चांद पर पहुंच गया, पाकिस्तान की मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट पाकिस्तान (एमक्यूएम-पी) के सांसद सैयद मुस्तफा कमाल ने संसद में कराची में ढहते बुनियादी ढांचे के बारे में बोलते हुए भारत के चंद्रयान -3 मिशन का उल्लेख किया। सैयद मुस्तफा कमाल का भाषण अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है| उन्होंने कहा, भारत चांद पर पहुंच गया है, लेकिन दूसरी तरफ कराची में बच्चे खुले नालों में गिरकर अपनी जान गंवा रहे हैं| कराची में खुले सीवरों में बच्चे…”, एक पाकिस्तानी सांसद ने संसद में दुख जताया|

पाकिस्तान की संसद में बोलते हुए सांसद मुस्तफा कमाल ने कहा, दुनिया एक दिशा में आगे बढ़ रही है। भारत सीधे चन्द्रमा पर पहुंच गया है, लेकिन कराची में अभी भी बच्चे खुले नालों में अपनी जान गंवा रहे हैं| टीवी पर हम समाचार देखते हैं कि कैसे भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर कदम रखा। इस खबर के कुछ ही सेकंड बाद टीवी स्क्रीन पर एक और खबर फ्लैश हुई कि कराची में एक बच्चे की खुले नाले में गिरने से मौत हो गई| यह मनहूस खबर हर तीसरे दिन सुनने को मिलती है।

संसद में कराची के बारे में बोलते हुए सैयद मुस्तफा कमाल ने कहा, ”पाकिस्तान को कराची से भारी राजस्व मिलता है| पाकिस्तान के दो प्रमुख बंदरगाह कराची में स्थित हैं। कराची मध्य एशिया और अफगानिस्तान में यात्रा के लिए एक रणनीतिक स्थान है। पाकिस्तान को 68 फीसदी राजस्व कराची से मिलता है, लेकिन पिछले 15 सालों में कराची साफ पानी मुहैया नहीं करा पाया है| कराची शहर में पानी की आपूर्ति भी जल माफिया द्वारा चोरी की जाती है। वही चुराया हुआ पानी का स्टॉक फिर से कराची के लोगों को ऊंचे दामों पर बेच दिया जाता है।

कमाल ने कहा कि पाकिस्तान में 26.2 मिलियन बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं। यह संख्या दुनिया के 70 देशों की कुल आबादी से भी ज्यादा है| आशंका है कि बड़ी संख्या में अशिक्षित बच्चे पाकिस्तान की आर्थिक प्रगति को नष्ट कर देंगे। अकेले सिंध प्रांत में कागजों पर 48 हजार स्कूल हैं। लेकिन इनमें से 11,000 स्कूल तो कहीं मौजूद ही नहीं हैं| उन्होंने यह भी कहा कि सिंध प्रांत में 70 लाख लोग स्कूल से बाहर हैं| यूनिसेफ के अनुसार, स्कूल न जाने वाले बच्चों की संख्या के मामले में पाकिस्तान दुनिया में दूसरे स्थान पर है। पाकिस्तान में 5 से 16 वर्ष की आयु के 22.8 मिलियन बच्चे स्कूल से बाहर हैं। यह आयु वर्ग पाकिस्तान की आबादी का 44 फीसदी है|

कुछ दिन पहले पाकिस्तान के वरिष्ठ राजनेता मौलाना फजलुर रहमान ने भारत और पाकिस्तान के बीच आर्थिक असमानता की ओर ध्यान आकर्षित किया था| कुछ दिन बाद सैयद मुस्तफा कमाल की यह टिप्पणी सामने आ रही है|मौलाना फजलुर रहमान ने कहा, भारत महाशक्ति बनने का सपना देख रहा है और हम दिवालिया होने से बचने की भीख मांग रहे हैं।

यह भी पढ़ें-

झारखंड के ​कैबिनेट मंत्री आलमगीर गिरफ्तार, 36 करोड़ नकदी जब्त, 6 दिन की ईडी हिरासत !​

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,592फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
157,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें