31 C
Mumbai
Friday, May 24, 2024
होमदेश दुनियासंयुक्त राष्ट्र की 55वीं मानवाधिकार परिषद: भारत का पाकिस्तान पर कड़ा रूख!

संयुक्त राष्ट्र की 55वीं मानवाधिकार परिषद: भारत का पाकिस्तान पर कड़ा रूख!

संयुक्त राष्ट्र की 55वीं मानवाधिकार परिषद में भारत ने कड़ा रुख रखते हुए कहा कि जिनके हाथ खून से रंगे हों, भारत उनकी बातों पर ध्यान नहीं देता। भारत पर पाकिस्तान की टिप्पणी के बाद भारत की प्रतिनिधि प्रथम सचिव अनुपमा सिंह ने पाकिस्तान के लिए कड़े शब्द कहे।

Google News Follow

Related

जम्मू-कश्मीर के साथ-साथ लद्दाख भी भारत का अभिन्न अंग है और वहां क्या उपाय लागू किये जाने चाहिए, यह हमारा आंतरिक मामला है। बुधवार को संयुक्त राष्ट्र की 55वीं मानवाधिकार परिषद में भारत ने कड़ा रुख रखते हुए कहा कि जिनके हाथ खून से रंगे हों, भारत उनकी बातों पर ध्यान नहीं देता।भारत पर पाकिस्तान की टिप्पणी के बाद भारत की प्रतिनिधि प्रथम सचिव अनुपमा सिंह ने पाकिस्तान के लिए कड़े शब्द कहे। इस घटना का वीडियो अब वायरल हो रहा है और अनुपमा सिंह की तारीफ हो रही है|

भारत को बोलने का मौका मिलने के बाद अनुपमा सिंह ने पाकिस्तान की टिप्पणी पर तंज कसा|उन्होंने पाकिस्तान की आलोचना करते हुए कहा,पाकिस्तान ने एक बार फिर इस सम्मेलन के मंच का दुरुपयोग किया है और भारत के खिलाफ सरासर झूठे आरोप लगाए ह|ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है|

भारत में जम्मू-कश्मीर की पूरी सीमा और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग है।भारत सरकार इस क्षेत्र में सामाजिक-आर्थिक विकास का ध्यान रख रही है और इस संबंध में उपाय लागू किए हैं। जम्मू-कश्मीर जैसे केंद्र शासित प्रदेश को कैसे शासित किया जाना चाहिए यह पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है। पाकिस्तान को भी भारत के आंतरिक मामलों पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है|

पाकिस्तान में मानवाधिकारों के बारे में बात करते हुए सिंह ने कहा कि देश ने अपनी धरती पर अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचारों को व्यवस्थित रूप से संस्थागत बना दिया है। इसे देखते हुए यह मानवाधिकार का उल्लंघन है|ऐसे देश के लिए भारत जैसे देश जो आर्थिक प्रगति और सामाजिक न्याय प्रदान करने में अग्रणी रहा है, उस पर टिप्पणी करना न केवल हास्यास्पद है, बल्कि विकृति का प्रतीक भी है।

सिंह ने अपने भाषण में पिछले साल पाकिस्तान में ईसाई नागरिकों पर हुए अत्याचारों का जिक्र किया|उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पाकिस्तान आतंकवाद का समर्थन कर रहा है|अगस्त 2023 में, पाकिस्तान के जरनवाला शहर में अल्पसंख्यक ईसाई समुदाय पर क्रूरता की गई। वहां 19 चर्च तोड़ दिए गए और 89 ईसाइयों के घर जला दिए गए| यह अल्पसंख्यकों पर अत्याचार का नवीनतम उदाहरण है, सिंह ने आलोचना की।

यह भी पढ़ें-

संदेशखाली​ हिंसा मामला: 54 दिन बाद ​टीएमसी​ नेता शाहजहां शेख गिरफ्तार​ ​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,599फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
155,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें