26 C
Mumbai
Thursday, July 18, 2024
होमदेश दुनियासत्ता में आए तो ओबीसी महिला आरक्षण बिल में संशोधन - खड़गे​...

सत्ता में आए तो ओबीसी महिला आरक्षण बिल में संशोधन – खड़गे​ !

आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस केंद्र की सत्ता में आती है तो वह महिला आरक्षण विधेयक में संशोधन करेगी​|​उन्होंने कहा कि हालांकि इस बिल को तत्काल लागू करने में कोई बड़ी कानूनी जटिलता नहीं है, लेकिन मोदी सरकार इस बिल के कार्यान्वयन के लिए अगले दस साल तक इंतजार कराने जा रही है​|​

Google News Follow

Related

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने शनिवार को आश्वासन दिया कि अगर आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस केंद्र की सत्ता में आती है तो वह महिला आरक्षण विधेयक में संशोधन करेगी|उन्होंने कहा कि हालांकि इस बिल को तत्काल लागू करने में कोई बड़ी कानूनी जटिलता नहीं है, लेकिन मोदी सरकार इस बिल के कार्यान्वयन के लिए अगले दस साल तक इंतजार कराने जा रही है|
खड़गे जयपुर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक सभा को संबोधित करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने संसद में इस बिल का समर्थन करते हुए इसे तुरंत लागू करने की मांग की थी|कांग्रेस की यह भी मांग है कि ओबीसी महिलाओं के लिए अलग से आरक्षण होना चाहिए|2024 में जब केंद्र में हमारी सरकार आएगी तो हम सबसे पहले इस बिल में अपने हिसाब से संशोधन करेंगे|
​मैं अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्ग से यह सवाल पूछता हूं कि क्या उन्हें कोई सम्मान दिया जाता है? लोकसभा सत्र राष्ट्रपति द्वारा बुलाया जाता है, प्रधानमंत्री द्वारा नहीं। लेकिन खुद राष्ट्रपति के लिए यहां कोई सम्मानजनक जगह नहीं है| मोदी का यह दावा किस आधार पर है कि हम महिलाओं का बहुत सम्मान करते हैं?
खड़गे ने यह भी आरोप लगाया कि नए संसद भवन की आधारशिला रखने के लिए तत्कालीन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को आमंत्रित नहीं किया गया क्योंकि वह दलित थे। नए संसद भवन के उद्घाटन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को नहीं बुलाया गया, कलाकारों समेत कई लोगों को बुलाया गया लेकिन राष्ट्रपति को नहीं बुलाया गया|यह उनका अपमान है|
महिला आरक्षण बिल लाने के पीछे नरेंद्र मोदी सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए खड़गे ने कहा कि भाजपादरअसल महिलाओं को आरक्षण देना ही नहीं चाहती|भाजपा ने चुनाव से पहले महिला आरक्षण बिल पेश किया|क्योंकि कई विपक्षी दलों ने ‘India’ गठबंधन बनाया है|जब राहुल गांधी, सोनिया गांधी और हमने विपक्षी गठबंधन ‘India’ बनाया तो भाजपा के दिमाग में महिला विधेयक आया|
‘महिलाओं को सच्चा न्याय सिर्फ कांग्रेस से!’: यह कहते हुए कि सरोजिनी नायडू कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष थीं, खड़गे ने पूछा कि क्या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या भाजपा की कोई महिला अध्यक्ष बनी है। क्या कोई महिला टीम के शीर्ष पर पहुंची है? कांग्रेस ही वह पार्टी है जो महिलाओं का सच्चा सम्मान करती है। खड़गे ने बताया कि पहली महिला राज्यपाल सरोजिनी नायडू थीं, विजयलक्ष्मी पंडित संयुक्त राष्ट्र में थी, मीरा कुमार लोकसभा अध्यक्ष थीं, पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थीं, पहली महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल थीं .
जाति-वार जनगणना से क्यों डरते हैं मोदी: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को जाति-वार जनगणना का समर्थन किया देश के प्रधानमंत्री जाति-वार जनगणना से क्यों डरते हैं? वो पूछा|उन्होंने कहा कि अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) की भागीदारी बढ़ाने का काम जातिवार जनगणना के बिना नहीं किया जा सकता है।
​यह भी पढ़ें-

अजित पवार के बयान पर बावनकुले की प्रतिक्रिया, ‘मुझे नहीं पता कि अर्थव्यवस्था कब तक चलेगी’​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,504फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें