30 C
Mumbai
Sunday, December 3, 2023
होमदेश दुनियामीडिया से "इंडी" गठबंधन डरा! 14 TV एंकरों का करेगा बहिष्कार, BJP...

मीडिया से “इंडी” गठबंधन डरा! 14 TV एंकरों का करेगा बहिष्कार, BJP का वार   

विपक्ष ने एक सूची भी जारी की है जिसमें 14 टीवी एंकरों का नाम है। 

Google News Follow

Related

खुद को भारत की आवाज बताने वाला विपक्ष का गठबंधन “इंडिया” कुछ टीवी चैनलों के एंकरों का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इसके लिए विपक्ष ने एक सूची भी जारी की है जिसमें 14 टीवी चैनल और एंकरों का नाम है। ऐसे में इस विपक्ष की पोल खुलती नजर आ रही है।विपक्ष लोकतंत्र बचाने और संविधान को बचाने की बात करता है, लेकिन यही लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं। अभिव्यक्ति की आजादी की गला घोंट रहे है। बीजेपी नेताओं ने विपक्ष के इस फैसले का विरोध किया है।

शो में इंडिया गठबंधन का कोई प्रतिनिधि नहीं जाएगा: गौरतलब है कि विपक्ष की समन्वय समिति बैठक के दौरान कुछ निर्णय लिये गए। विपक्ष अपने प्रतिनिधियों को कुछ टीवी शो और एंकरों के कार्यक्रम में नहीं भेजने का निर्णय लिया है। इसके लिए विपक्ष द्वारा एक सूची जारी की गई है। कांग्रेस के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बुधवार को बैठक के बाद कहा था कि समन्वय समिति ने मीडिया पर उप समूह को उन एंकरों का नाम तय करने के लिए कहा है जिनके शो में इंडिया गठबंधन का कोई प्रतिनिधि नहीं जाएगा या भेजा जाएगा।

इन एंकरों का किया गया बहिष्कार:  इस सूची में रिपब्लिक भारत के अर्बन गोस्वामी, आज तक के सुधीर चौधरी, न्यूज 18 के अमिश देवगन, टाइम्सनाउ की नविका कुमार, इंडिया टुडे ग्रुप के गौरव सावंत सही कुल 14 एंकरों की लिस्ट बनाई गई है। इसके अलावा अमन चोपड़ा (न्यूज 18), अदिति त्यागी ( भारत एक्सप्रेस ) चित्रा त्रिपाठी (आज तक), रुबिका लियाकत ( भारत 24), प्राची पाराशर (इण्डिया टीवी ), आनंद नरसिम्हन (न्यूज 18), सुशांत सिन्हा ( टाइम्सनाउ नवभारत), शिव जरूर ( इंडिया टुडे ), अशोक चौधरी (डीडी न्यूज) शामिल है।

आप प्रश्नों से क्यों डरते हैं?: विपक्ष के इस फैसले पर केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने हमला बोला है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और घमंडिया गठबंधन वाले लोग यह प्रेस की स्वतंत्रता को नहीं मानते। अगर आपके पास सही उत्तर है तो आप आएं। आप प्रश्नों से क्यों डरते हैं ? ऐसे भी चैनल हैं जहां बीजेपी के खिलाफ बोला जाता है, लेकिन बीजेपी ने कभी बहिष्कार नहीं किया। क्योंकि हमारे पास उत्तर है। आपातकाल से अब तक वे प्रेस के खिलाफ हैं। इसका खंडन करता हूं।

ये भी पढ़ें    

बिहार शिक्षा मंत्री बोल, रामचरितमानस की पोटेशियम साइनाइड से की तुलना  

12 देश भारतीय रुपये में व्यापार के बारे में बात कर रहे हैं

ग्रेटर नोएडा में निर्माणाधीन इमारत की लिफ्ट गिरने से चार मजदूरों की मौत 

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,869फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें