28 C
Mumbai
Sunday, June 16, 2024
होमदेश दुनियाभारत की बदलती विदेश नीति

भारत की बदलती विदेश नीति

भारत की विदेश नीति में 2019 के बाद से महत्वपूर्ण बदलाव देखने को मिले

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

भारत की विदेश नीति में 2019 के बाद से महत्वपूर्ण बदलाव देखने को मिले हैं, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार फिर से चुनी गई। ये परिवर्तन कई कारणों से प्रेरित हैं, जिनमें भारत की बढ़ती आर्थिक और सैन्य शक्ति, चीन का उदय और बदलती वैश्विक व्यवस्था शामिल है।

सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तनों में से एक भारत का अधिक सक्रिय और मुखर विदेश नीति की ओर बदलाव है।  अतीत में, भारत अपने गुटनिरपेक्ष रुख के लिए जाना जाता था, लेकिन मोदी के तहत, यह अन्य देशों के साथ जुड़ने और वैश्विक मामलों में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए अधिक इच्छुक हो गया है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ भारत की बढ़ती भागीदारी, चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता (क्वाड) में इसकी सदस्यता और भारत-प्रशांत क्षेत्र में इसकी बढ़ती भूमिका से स्पष्ट है।

एक और महत्वपूर्ण बदलाव भारत का आर्थिक कूटनीति पर ध्यान केंद्रित करना है।  भारत अब अपनी आर्थिक ताकत का इस्तेमाल दूसरे देशों के साथ मजबूत रिश्ते बनाने और अपने आर्थिक हितों को बढ़ावा देने के लिए कर रहा है।  यह व्यापार और निवेश सौदों, इसके विकास सहायता कार्यक्रमों और क्षेत्रीय एकीकरण को बढ़ावा देने के प्रयासों पर भारत के फोकस से स्पष्ट है।

भारत की कूटनीति भी अधिक जन-केंद्रित हो गई है।  सरकार अब प्रवासी भारतीयों से जुड़ने और विदेशों में भारतीय संस्कृति और मूल्यों को बढ़ावा देने पर अधिक जोर दे रही है।  यह सरकार के “भारत को जानो” कार्यक्रम, उसकी “डायस्पोरा कनेक्ट” पहल और दुनिया भर में भारतीय सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए उसके समर्थन से स्पष्ट है।

➡ संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ बढ़ा जुड़ाव: हाल के वर्षों में भारत-अमेरिका संबंधों में काफी वृद्धि हुई है।  दोनों देशों ने नियमित शिखर सम्मेलन आयोजित किए हैं और व्यापार, सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन सहित कई मुद्दों पर सहयोग किया है।  2021 में, भारत को क्वाड शिखर सम्मेलन, संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के नेताओं की बैठक में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया था।

➡क्वाड में सदस्यता: क्वाड संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक रणनीतिक वार्ता है।  समूह की स्थापना शुरुआत में 2007 में हुई थी, लेकिन चीन से बढ़ते खतरे के कारण यह हाल के वर्षों में अधिक सक्रिय हो गया है।  क्वाड का उद्देश्य समुद्री सुरक्षा, आतंकवाद विरोधी और आर्थिक विकास सहित कई मुद्दों पर सहयोग को बढ़ावा देना है।

➡हिंद-प्रशांत क्षेत्र में बढ़ती भूमिका: भारत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में तेजी से महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।  यह क्षेत्र दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से कुछ का घर है और रणनीतिक रूप से भी महत्वपूर्ण क्षेत्र है।  भारत इस क्षेत्र के अन्य देशों, जैसे जापान, ऑस्ट्रेलिया और वियतनाम के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए काम कर रहा है।

➡आर्थिक कूटनीति पर ध्यान: भारत अब अपने आर्थिक प्रभाव का उपयोग अन्य देशों के साथ मजबूत संबंध बनाने और अपने आर्थिक हितों को बढ़ावा देने के लिए कर रहा है।  यह व्यापार और निवेश सौदों, इसके विकास सहायता कार्यक्रमों और क्षेत्रीय एकीकरण को बढ़ावा देने के प्रयासों पर भारत के फोकस से स्पष्ट है।  2021 में, भारत ने संयुक्त अरब अमीरात के साथ एक व्यापक आर्थिक साझेदारी समझौते (CEPA) और ऑस्ट्रेलिया के साथ एक मुक्त व्यापार समझौते (FTA) पर हस्ताक्षर किए।

➡ जन-केंद्रित कूटनीति: भारत सरकार अब भारतीय प्रवासियों के साथ जुड़ने और विदेशों में भारतीय संस्कृति और मूल्यों को बढ़ावा देने पर अधिक जोर दे रही है। यह सरकार के “भारत को जानो” कार्यक्रम, उसकी “डायस्पोरा कनेक्ट” पहल और दुनिया भर में भारतीय सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए उसके समर्थन से स्पष्ट है।  2021 में, भारत सरकार ने “भारत को जानो” कार्यक्रम शुरू किया, जिसका उद्देश्य भारतीय प्रवासियों और वैश्विक समुदाय के बीच भारतीय संस्कृति और मूल्यों को बढ़ावा देना है।

भारत अब वैश्विक मामलों में अधिक सक्रिय और मुखर भूमिका निभा रहा है, और इसकी कूटनीति अधिक जन-केंद्रित और आर्थिक कूटनीति पर केंद्रित हो रही है। ये परिवर्तन भारत की बढ़ती आर्थिक और सैन्य शक्ति, चीन के उदय और बदलती वैश्विक व्यवस्था को दर्शाते हैं। भारत ने हाल के वर्षों में चीन के प्रति अधिक व्यावहारिक दृष्टिकोण अपनाया है।  भारत अभी भी चीन की बढ़ती सैन्य शक्ति और उसकी विस्तारवादी महत्वाकांक्षाओं को लेकर चिंतित है, लेकिन वह व्यापार और जलवायु परिवर्तन जैसे पारस्परिक हित के मुद्दों पर चीन के साथ सहयोग करने को भी इच्छुक है।

भारत ने हाल के वर्षों में पाकिस्तान के प्रति अधिक सशक्त दृष्टिकोण अपनाया है।  यह भारत द्वारा जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को निरस्त करने और नियंत्रण रेखा पर भारत की बढ़ती सैन्य उपस्थिति से स्पष्ट है।

भारत अब अफ्रीका के प्रति अधिक सक्रिय दृष्टिकोण अपना रहा है। भारत ने अफ्रीका के साथ अपना व्यापार और निवेश बढ़ाया है और महाद्वीप को अधिक विकास सहायता प्रदान की है। भारत अफ्रीकी देशों के साथ अपने सुरक्षा संबंधों को मजबूत करने के लिए भी काम कर रहा है। यह सबूत है की आने वाले समय में भारत विश्व को दिशा दिखाने का काम करने वाला है।

 

ये भी पढ़ें 

ओलंपिक की मेजबानी और भारत

टॉप-3 भारतीय कृषि शेयरों में निवेश  

प्रतिकूल परिस्थितियों में भी मजबूत रहेगी भारत की आर्थिक वृद्धि 

भारत में नवीकरणीय ऊर्जा व्यवसायों का भविष्य उज्ज्वल  

हरित व्यवसायों में निवेश: भविष्य की ओर एक स्मार्ट कदम  

भारत की अर्थव्यवस्था: निरंतर विकास के कारण  

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,562फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें