30 C
Mumbai
Monday, April 22, 2024
होमदेश दुनियाअसदुद्दीन ओवैसी अपने भाषण में गाने लगे शिव तांडव स्तोत्र?

असदुद्दीन ओवैसी अपने भाषण में गाने लगे शिव तांडव स्तोत्र?

जैसे हाल ही में हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का एक वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर खूब शेयर किया गया था| वीडियो में वह एक सार्वजनिक सभा में शिव तांडव स्तोत्र गाते नजर आ रहे हैं| 

Google News Follow

Related

लोकसभा चुनाव 2024 की तारीखों का ऐलान कल यानी 16 मार्च 2024 को दोपहर 3.00 बजे किया जाएगा| इससे पहले विभिन्न पार्टियों की ओर से जोरदार प्रचार शुरू हो चुका है| कैंपेन के दौरान सोशल मीडिया पर कई तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहे हैं लेकिन ये सच नहीं हैं? जैसे हाल ही में हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का एक वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर खूब शेयर किया गया था| वीडियो में वह एक सार्वजनिक सभा में शिव तांडव स्तोत्र गाते नजर आ रहे हैं| 

यूजर्स द्वारा कीवर्ड सर्च का इस्तेमाल करके यह जानने की कोशिश की कि क्या असदुद्दीन ओवैसी ने सच में शिव तांडव स्तोत्र गाया है, लेकिन उसको इसके बारे में कोई रिपोर्ट नहीं मिली। फिर यूजर्स ने वीडियो को InVid टूल पर अपलोड किया और उससे विभिन्न कीफ़्रेम प्राप्त किए। हमने एक-एक करके कीफ्रेम पर रिवर्स इमेज सर्च किया। रिवर्स इमेज सर्च से हमें AIMIM के यूट्यूब चैनल पर 27 अक्टूबर 2022 को अपलोड किया गया वीडियो मिला।इस मीटिंग में असदुद्दीन ओवैसी ने वैसे ही कपड़े पहने थे जैसे अब वीडियो शेयर किया जा रहा है| हमने यह भी पाया कि मूल वीडियो अच्छी गुणवत्ता का था और बैकग्राउंड में दिख रहे लोग भी वायरल वीडियो में दिख रहे लोगों से मिलते-जुलते थे। चैनल पर ऐसे कई वीडियो थे|

ये वीडियो कर्नाटक के बीजापुर में एक सार्वजनिक बैठक का है| सार्वजनिक बैठकों के कई वीडियो अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं,लेकिन किसी भी वीडियो में असदुद्दीन ओवैसी को शिव तांडव स्तोत्र गाते हुए नहीं दिखाया गया है।व्यापक रूप से साझा किए गए वीडियो की सावधानीपूर्वक जांच से पता चलता है कि एआईएमआईएम नेता के चेहरे के भाव अलग-अलग दिखाई दे रहे हैं और होठों की हरकतें भी नहीं दिखाई दे रही हैं। वीडियो में यह भी दिख रहा है कि उनकी आंखें काफी देर से बंद हैं| इससे पता चलता है कि वीडियो को एडिट किया गया है|

यह भी पढ़ें-

राबर्ट्सगंज लोकसभा का इतिहास; शिव, राम और नारायण के नाम को मिली विजयश्री!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,641फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
148,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें