26 C
Mumbai
Sunday, September 24, 2023
होमन्यूज़ अपडेटस्कूल के लिए बच्चों को करनी पड़ती है खतरनाक ​यात्रा​, थर्मोकोल का...

स्कूल के लिए बच्चों को करनी पड़ती है खतरनाक ​यात्रा​, थर्मोकोल का नाम, सांपों से लड़ना​!

सुदूर इलाकों में स्कूल खोलने के दावे किये जा रहे हैं ताकि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे, लेकिन इसके साथ ही बच्चों को स्कूल जाने के लिए खतरनाक सफर करना पड़ता है इसकी तस्वीर पुणे-औरंगाबाद मार्ग पर एक गांव में देखने को मिलती है|

Google News Follow

Related

देश में बच्चों की शिक्षा को प्राथमिकता देते हुए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। शिक्षा का अधिकार अधिनियम पारित कर बच्चों को शिक्षा का अधिकार दिया गया है। बच्चों को स्कूल आने और उनको प्रोत्साहित करने के लिए मिड मिल योजना लागू है। सुदूर इलाकों में स्कूल खोलने के दावे किये जा रहे हैं ताकि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे, लेकिन इसके साथ ही बच्चों को स्कूल जाने के लिए खतरनाक सफर करना पड़ता है इसकी तस्वीर पुणे-औरंगाबाद मार्ग पर एक गांव में देखने को मिलती है|

क्या है गांव की स्थिति: औरंगाबाद जिले का धनोरा गांव पुणे-औरंगाबाद हाईवे से महज पांच किलोमीटर दूर है। जयकवाड़ी परियोजना के कारण गाँव दो भागों में विभाजित हो गया। गांव के दूसरे हिस्से में एक स्कूल है| इसके कारण बच्चों को उस स्थान तक पहुंचने के लिए नाव से यात्रा करनी पड़ती है| बच्चों के लिए कोई नाव नहीं है| तब थर्मोकोल का नाव उनके माता-पिता ने बनाया हुआ है। बच्चे इसका उपयोग कर स्कूल जाते हैं,लेकिन उनकी चुनौती यहीं ख़त्म नहीं होती| पानी में जहरीले सांप भी पाए जाते हैं|
47 साल से यही स्थिति : गांव में अब यह समस्या उत्पन्न नहीं हुई है| पिछले 47 साल से यही स्थिति है| धनोरा गांव में तीन तरफ पानी है| गांव से सटी शिवना नदी भी है। इस नदी पर कोई पुल नहीं है| अगर बच्चे पानी से सफर नहीं करें तो उन्हें रोजाना 25 किलोमीटर कीचड़ से होकर सफर करना पड़ता है। ग्रामीण इस स्थान पर पुल चाहते हैं| कई सालों से इसकी मांग की जा रही है|
तहसीलदार की रिपोर्ट: गंगापुर तहसीलदार सतीश सोनी ने गांव का दौरा कर निरीक्षण किया| उसकी रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। उन्होंने कहा कि जायकवाड़ी परियोजना के दौरान पूरे गांव का पुनर्वास किया गया था, लेकिन कुछ परिवार अपने खेतों में ही रहना चाहते हैं| इसके चलते उनके बच्चों को पानी से होकर सफर करना पड़ता है। यह सवाल विधायक सतीश चव्हाण ने सदन में उठाया|
 
यह भी पढ़ें-

“…यह खुद का दाह-संस्कार करने जैसा है”, राउत ने अजित पवार कीआलोचना की​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,991फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
101,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें