29 C
Mumbai
Thursday, April 18, 2024
होमन्यूज़ अपडेटदिलीप मोहिते की अजित पवार को चेतावनी, मुझे घर बैठना मंजूर?

दिलीप मोहिते की अजित पवार को चेतावनी, मुझे घर बैठना मंजूर?

शिवाजीराव पाटिल के एनसीपी में शामिल होने की चर्चा पर दिलीप मोहिते ने नाराजगी जताई है|

Google News Follow

Related

अजित पवार ग्रुप के विधायक दिलीप मोहिते पाटिल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा की यदि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (अजित पवार ग्रुप) शिवाजीराव अदल राव पाटिल का लेती है तो मैं अपना फैसला लूंगा|शिवाजीराव पाटिल के एनसीपी में शामिल होने की चर्चा पर दिलीप मोहिते ने नाराजगी जताई है|पिछले कुछ दिनों से चर्चा चल रही है कि शिवाजी राज अजित पवार के गुट में शामिल होंगे और उन्हें आगामी लोकसभा चुनाव में शिरूर से उम्मीदवारी मिलेगी|इस पर शिवाजी राव के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी दिलीप मोहित ने प्रतिक्रिया दी है|

मोहिते पाटिल ने कहा, मैंने लगभग 20 वर्षों तक उनके साथ संघर्ष किया है। अब मैं इस तरह की राजनीति करने के बजाय घर बैठूंगा।’शिरूर के पूर्व सांसद शिवाजीराव अदलराव पाटिल फिलहाल शिवसेना के शिंदे गुट में हैं। वह एक बार फिर शिरूर से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं| लेकिन, अजित पवार के गुट को महागठबंधन में शिरूर की जगह मिलेगी| चर्चा है कि शिवाजीराव अदलराव पाटिल शिरूर से उम्मीदवारी पाने के लिए अजित पवार के गुट में शामिल होने को तैयार हैं| इस पर शिवाजी राव के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी दिलीप मोहिते पाटिल ने प्रतिक्रिया दी है|

दिलीप मोहिते पाटिल ने कहा, उनका (शिवाजीराव अदल राव पाटिल) स्वागत करना है या नहीं यह पार्टी का मामला है। हमने जीवन भर उनका विरोध किया है। इसलिए मैं राजनीति करने के बजाय घर पर बैठना पसंद करूंगा।’ राजनीति सिद्धांतों के बारे में होनी चाहिए| अगर आयाराम गयाराम राजनीतिक हो यी है तो तो राजनीति का कोई मतलब नहीं रह जायेगा| मैं ऐसी राजनीति नहीं करना चाहता| इसलिए अगर पार्टी उनका स्वागत करेगी तो मैं इस बारे में कुछ नहीं कहूंगा|अंततः पार्टी और पार्टी प्रमुख अपना निर्णय लेंगे| लेकिन, मैं अपना निजी फैसला लेता हूं।’

एनसीपी विधायक दिलीप मोहिते पाटिल ने कहा, मैं तय करूंगा कि उनके साथ काम करना है या नहीं, जिन्होंने पद लिया, प्रयास किया, यहां तक कि बच्चे को जेल में डाला, उन्होंने मुझे जीवन से ऊपर उठाया। यह पूरी तरह से मेरा निर्णय होगा| मैं अपने लोगों से पूछूंगा और फैसला करूंगा।’ मैं पिछले 20 सालों से उनसे लड़ रहा हूं| उन्होंने मेरे साथ जिस निचले स्तर की राजनीति की है, उसे मैं भूल नहीं सकता| अगर ऐसा वक्त आया तो मैं घर बैठ जाऊंगा|’

यह भी पढ़ें-

Manipur Violence: 200 बंदूकधारियों ने किया पुलिस अधिकारी का अपहरण, सेना बुलाई

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,645फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें