30 C
Mumbai
Thursday, April 18, 2024
होमन्यूज़ अपडेटएकनाथ शिंदे का उद्धव​ पर तंज, 'मातोश्री' से सुनाई देती थी बाला...

एकनाथ शिंदे का उद्धव​ पर तंज, ‘मातोश्री’ से सुनाई देती थी बाला साहेब की चीखें​ !

हम बाला साहेब ठाकरे के विचार को जीवित रखना चाहते थे। आप हम पर रोज आरोप लगा रहे हैं, एकनाथ शिंदे ने आपकी परेशानी अपने सीने पर ले रखी है।' बाला साहेब के समय में मातोश्री एक पवित्र मंदिर था। आपने सत्ता और कुर्सी के मोह के लिए बाला साहेब के विचार और आचरण को छोड़ दिया।

Google News Follow

Related

कोल्हापुर में शिवसेना का एक सम्मेलन आयोजित किया गया| इस सत्र में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने जोरदार भाषण दिया| मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने ऐलान किया कि वह सभी को अयोध्या ले जाएंगे| शिवसेना का राष्ट्रीय अधिवेशन चल रहा है| मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी कहा है कि मैं उन सभी का स्वागत और अभिनंदन करता हूं जिन्होंने सम्मेलन को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत की है|

कोई आदमी आपका साथ छोड़ कर गद्दार हो जाता है?: एक आदमी तब अच्छा होता है जब वह आपके पास होता है। जब वह आपका (उद्धव ठाकरे) साथ छोड़ देता है तो आप उसे गद्दार, बदमाश कहते हैं। एक दिन ये महाराष्ट्र तुम्हें कूड़े में डाले बिना नहीं रहेगा|आप हम दो हमारे दो जैसी स्थिति लेकर आये हैं| बाला साहब ने आम आदमी को ऊपर उठाने का काम किया। मैं मुख्यमंत्री के रूप में भी आपके सामने हूं क्योंकि यह शिवसेना, बाला साहेब ठाकरे का आशीर्वाद है।

कर्मों से स्नेह और प्रेम आता है: आज मैं महाराष्ट्र में जहां भी जाता हूं, सड़क के दोनों ओर हजारों लोग रुक जाते हैं। मैं मुंबई, पुणे, ठाणे में गणपति के पास गया। वहां भी लोग इंतजार कर रहे थे| अगर हमने कोई गलत कदम उठाया होता तो लोग हमारे लिए क्यों रुकते? पैसों से किसी का प्यार और स्नेह नहीं खरीदा जा सकता। यह प्यार व्यवहार और काम से मिलता है। क्योंकि बाला साहेब ठाकरे के विचार हमारे साथ हैं|

मातोश्री से अब सिर्फ पसरा सन्नाटा: 50 विधायक मेरे साथ खड़े थे|लोग बिना कुछ जाने मेरे साथ मजबूती से खड़े रहे। एकनाथ शिंदे ने यह भी कहा है कि हमने सत्ता से हटने का फैसला इसलिए किया क्योंकि हम बाला साहेब ठाकरे के विचार को जीवित रखना चाहते थे। आप हम पर रोज आरोप लगा रहे हैं, एकनाथ शिंदे ने आपकी परेशानी अपने सीने पर ले रखी है।’ बाला साहेब के समय में मातोश्री एक पवित्र मंदिर था। आपने सत्ता और कुर्सी के मोह के लिए बाला साहेब के विचार और आचरण को छोड़ दिया।

यह भी पढ़ें-

बारामती सीट को लेकर अजित के बयान पर भड़के शरद पवार-सुप्रिया सुले​ ​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,645फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें