31 C
Mumbai
Wednesday, April 24, 2024
होमन्यूज़ अपडेटफड़णवीस-ठाकरे का प्यार और नफरत का रिश्ता - शिवसेना नेता नीलम गोरे

फड़णवीस-ठाकरे का प्यार और नफरत का रिश्ता – शिवसेना नेता नीलम गोरे

मैंने देवेन्द्र फड़णवीस से ऐसी गाली नहीं सुनी।' लेकिन उद्धव ठाकरे के पास ठाकरे तीर है| उन्हें इसे कम करना चाहिए| शिव सेना नेता नीलम गोरे ने दोनों के रिश्ते पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि उनके बीच मतभेद होने चाहिए लेकिन मनभेद नहीं। उन्होंने कहा है कि दोनों के बीच प्यार और नफरत का रिश्ता है|

Google News Follow

Related

2019 में राज्य में राजनीतिक समीकरण बदल गये|इसके बाद से यह भी कहा जा रहा है कि उद्धव ठाकरे और देवेन्द्र फड़णवीस के बीच अनबन हो गई है। लेकिन शिवसेना की एक महिला नेता ने इस पर टिप्पणी की है| उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस और पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच प्यार और नफरत का रिश्ता है। दोनों की बातों में नफरत और प्यार है,लेकिन मैंने देवेन्द्र फड़णवीस से ऐसी गाली नहीं सुनी।’ लेकिन उद्धव ठाकरे के पास ठाकरे तीर है| उन्हें इसे कम करना चाहिए| शिव सेना नेता नीलम गोरे ने दोनों के रिश्ते पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि उनके बीच मतभेद होने चाहिए लेकिन मनभेद नहीं। उन्होंने कहा है कि दोनों के बीच प्यार और नफरत का रिश्ता है|

उद्धव ठाकरे के पक्ष में याचिका दी गई थी|निरंजन डावखर ने फैसला सुनाया है| विधान परिषद में उप पद का फैसला अभी नहीं हुआ है| ये नाम हैं शिंदे ग्रुप से बिप्लव बाजोरिया और ठाकरे ग्रुप से विलास पोटनिस। लेकिन उस मामले में अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है|अजीत दादा का एक पत्र आया है| समूह नेता के रूप में किसे नियुक्त किया जाना चाहिए? सिर्फ इसलिए कि यह विधान सभा में हुआ इसका मतलब यह नहीं है कि यह विधान परिषद में होगा। लेकिन पहले हमें यह देखना होगा कि विधानसभा क्या निर्णय देती है, नीलम गोरे ने कहा।

मराठा आरक्षण और कुनबी सर्टिफिकेट का मुद्दा सामने आया है| मुख्यमंत्री और दोनों उपमुख्यमंत्री प्रयास कर रहे थे| सरकार उनकी उम्मीदों का सम्मान करेगी| विपक्षी दलों की बैठक हुई| इसमें लिए गए प्रस्ताव पर उन्होंने प्रतिक्रिया दी है| उन्होंने यह भी कहा कि वे किसी के आरक्षण से छेड़छाड़ किए बिना मुद्दों का समाधान करेंगी।
नीलम गोरे ने संविदा भर्ती के मुद्दे पर भी टिप्पणी की. सायन, आर्थिक बोझ, तबादले कुछ अधिकारी एक जगह छोड़कर दूसरी जगह जाने को तैयार नहीं होते। लेकिन ऐसे मामलों में संविदा कर्मचारी काम आते हैं. त्राति सेवा कई वर्षों से चल रही है। संविदा कर्मियों का निगम बनाना जरूरी है| नीलम गोरे ने यह भी कहा है कि उनके लिए नियमन लागू किया जाना चाहिए|
यह भी पढ़ें-

Nusrat Jahan : ED दफ्तर में घुसी, फ्लैट बिक्री धोखाधड़ी मामले में होगी जांच!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,634फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
148,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें