33 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमन्यूज़ अपडेटकेंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ​17 से महाराष्ट्र के दौरे पर!

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ​17 से महाराष्ट्र के दौरे पर!

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम के अमृत जयंती वर्ष के अवसर पर महाराष्ट्र का दौरा करेंगे। बताया जा रहा है कि इस मौके पर राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस, अजित पवार भी मौजूद रहेंगे|

Google News Follow

Related

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 17 सितंबर को महाराष्ट्र का दौरा करेंगे| इस दौरान वह छत्रपति संभाजीनगर भी जाएंगे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम के अमृत जयंती वर्ष के अवसर पर महाराष्ट्र का दौरा करेंगे। बताया जा रहा है कि इस मौके पर राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस, अजित पवार भी मौजूद रहेंगे|

मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम का अमृत जयंती वर्ष: यह वर्ष मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम का अमृत जयंती वर्ष है। इस मौके पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है| इन कार्यक्रमों में अमित शाह भी शामिल होंगे| इस बीच, मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम के मौके पर पूरे साल राज्य सरकार की ओर से विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे|

पुणे दौरे के बाद मराठवाड़ा दौरे का आयोजन: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अगस्त की शुरुआत में पुणे दौरे पर थे| अमित शाह ने 5 और 6 अगस्त को पुणे का दौरा किया था | केंद्रीय सहकारी समिति द्वारा बनाए गए पोर्टल के उद्घाटन कार्यक्रम के लिए अमित शाह पुणे गए। महज दो महीने में अमित शाह एक बार फिर महाराष्ट्र के दौरे पर हैं| आगामी लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने कमर कस ली है| इस पृष्ठभूमि में अमित शाह के महाराष्ट्र दौरे को राजनीतिक महत्व भी मिल गया है|

प्रधानमंत्री का कार्यक्रम में शामिल होने का अनुरोध: मराठवाड़ा मुक्तिसंग्राम के मौके पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे| इस बीच, इस पृष्ठभूमि में राकांपा नेता धनंजय मुंडे ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से प्रधानमंत्री मोदी को आमंत्रित करने का अनुरोध किया। इसलिए मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम के कार्यक्रमों में अमित शाह तो शामिल होंगे ही, लेकिन सवाल ये भी उठ रहा है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल होंगे|
मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम: भारत की आजादी के बाद 565 में से 562 रियासतें भारत में शामिल हो गईं। लेकिन तीन संस्थानों की समस्या बरकरार रही| इसमें हैदराबाद, कश्मीर और जूनागढ़ शामिल थे। उस समय मराठवाड़ा हैदराबाद राज्य का हिस्सा था। अत: मराठवाड़ा के लोगों को हैदराबाद के निज़ाम से लड़ने के लिए लम्बे समय तक संघर्ष करना पड़ा। 1938 से 1948 तक दस साल की अवधि के दौरान, कई लोगों ने मराठवाड़ा के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया।अंततः निज़ाम पीछे हट गया और मराठवाड़ा 17 सितंबर 1948 को स्वतंत्र हो गया। महाराष्ट्र संघ के गठन के दौरान भाषा के आधार पर मराठवाड़ा को महाराष्ट्र में शामिल किया गया था।
 
यह भी पढ़ें-

‘इंडिया’ मोर्चे की कठिन राह को लेकर चर्चा जोरों पर!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,601फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें