36 C
Mumbai
Thursday, February 29, 2024
होमधर्म संस्कृतिनए साल में क्या है राजनेताओं का संकल्प?

नए साल में क्या है राजनेताओं का संकल्प?

सिर्फ आम लोग ही नहीं बल्कि राजनेताओं ने भी नए साल के संकल्प लिए हैं| किसी ने हनुमान की मूर्ति स्थापित करने का निर्णय लिया है|किसी ने सत्ता में आने का संकल्प लिया है|साथ ही राजनेताओं ने भी यह संकल्प लेते हुए प्रदेशवासियों को नये साल की शुभकामनाएं दी हैं|

Google News Follow

Related

1जनवरी 2024 के साथ ही नव वर्ष शुरू हो चुका है| देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर के नागरिकों ने बड़े ही उत्साह के साथ नए साल का स्वागत किया है|नए साल के लिए नए संकल्प भी बनाए गए हैं|सिर्फ आम लोग ही नहीं बल्कि राजनेताओं ने भी नए साल के संकल्प लिए हैं| किसी ने हनुमान की मूर्ति स्थापित करने का निर्णय लिया है|किसी ने सत्ता में आने का संकल्प लिया है|साथ ही राजनेताओं ने भी यह संकल्प लेते हुए प्रदेशवासियों को नये साल की शुभकामनाएं दी हैं|

एकनाथ खडसे – आने वाला नया साल चुनाव का साल है| विधानसभा और लोकसभा चुनाव शुरू हो गए हैं| हमारा एक ही संकल्प है कि इस नये साल में एनसीपी को ज्यादा से ज्यादा सीटें मिलें|

सांसद रक्षा खडसे- मेरा कोई व्यक्तिगत प्रतिद्वंद्वी नहीं है| और अगर ऐसा है भी तो उनका नया साल भी मंगलमय और समृद्ध हो।

सांसद नवनीत राणा- 2024 में हम अमरावती में अपनी हनुमान गढ़ी में भी हनुमान मूर्ति स्थापित करेंगे| यह नये साल का संकल्प है|

विधायक सचिन अहीर- हमें अतीत को भूलकर नए संकल्प और जोश के साथ काम करना चाहिए। हम आने वाले वर्ष में उत्साह के साथ चुनाव लड़ने जा रहे हैं। मतदाता राजा का आह्वान करते हैं और विश्वास व्यक्त करते हैं कि 2024 हमारा वर्ष होगा।

जल आपूर्ति मंत्री गुलाबराव पाटिल-
नए साल में भी हम सत्ता में रहेंगे। हमारा संकल्प है कि महाराष्ट्र विधानसभा पर एक बार फिर भगवा लहराएगा।’

नितेश राणे- मेरा नया साल हिंदू नववर्ष जैसा है। कल तो बस एक तारीख है| गुड़ी पड़वा मेरे लिए नए साल की शुरुआत है। गुड़ी पड़वा पर जो संकल्प लूंगा, उस पर पूरे वर्ष अमल करूंगा।

सांसद अमोल कोल्हे – नए साल में, मैं इंद्रायणी चिकित्सा परियोजना को पटरी पर लाने और तेंदुए के हॉटस्पॉट में दिन के समय बिजली उपलब्ध कराने का प्रयास करूंगा।

सतेज पाटिल- आने वाले नए साल में चुनाव ही देश के लिए अहम होने वाला है| देश संविधान के आधार पर चलता है, लेकिन इस घटना को ही अब किनारे रखा जा रहा है| उम्मीद है लोग इस नये साल में बेरोजगारी, महंगाई जैसे मुद्दों पर सोचेंगे|

विहिप नेता गोविंद शेंडे- नए साल का जश्न शराब पीने की बजाय दूध पीकर मनाएं|

ग्रामीण विकास मंत्री गिरीश महाजन- नये साल का कोई और संकल्प नहीं है| संकल्प सिर्फ राम मंदिर और अगले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का है, और कुछ नहीं|

 
यह भी पढ़ें-

नए साल के पहले दिन इसरो का देश को अनोखा तोहफा, दूसरे अंतरिक्ष दूरबीन XPoSat का सफल प्रक्षेपण!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें