24 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमन्यूज़ अपडेटमहाराष्ट्र में घोड़ा बाजार को लेकर पृथ्वीराज चव्हाण का शिंदे गुट के...

महाराष्ट्र में घोड़ा बाजार को लेकर पृथ्वीराज चव्हाण का शिंदे गुट के मंत्री ने दिया जवाब और कहा..!

अटल बिहारी वाजपेई की सरकार के दौरान 2003 में इस कानून में संशोधन कर बदलाव किया गया| अत: वह कानून निष्प्रभावी हो गया। यह कानून किसी दलबदल को नहीं रोकता. घोड़ा बाजार ख़त्म हो गया है और इसका असर शासन, राजनीति, समाज और अर्थव्यवस्था पर पड़े बिना नहीं रहेगा।

Google News Follow

Related

कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने महाराष्ट्र में घुड़दौड़ को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की है|पृथ्वीराज चव्हाण ने बयान दिया था कि अगर प्रधानमंत्री मोदी ने मंजूरी नहीं दी होती तो महाराष्ट्र में घोड़ा बाजार नहीं होता. इस पर मंत्री दीपक केसरकर ने जवाब दिया है|
पृथ्वीराज चव्हाण ने क्या कहा?: पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा, राजीव गांधी आयाराम-गयाराम संस्कृति को रोकने के लिए दल बदल कानून लेकर आए।लेकिन, अटल बिहारी वाजपेई की सरकार के दौरान 2003 में इस कानून में संशोधन कर बदलाव किया गया|अत: वह कानून निष्प्रभावी हो गया। यह कानून किसी दलबदल को नहीं रोकता. घोड़ा बाजार ख़त्म हो गया है और इसका असर शासन, राजनीति, समाज और अर्थव्यवस्था पर पड़े बिना नहीं रहेगा।
“घोड़ा बाजार, खुलेआम खरीद-फरोख्त को भाजपा ने दिया बढ़ावा”: महाराष्ट्र की जनता को इस तरह का व्यवहार करने वाले राजनीतिक नेताओं को जगह दिखानी चाहिए।दूसरी जिम्मेदारी प्रधानमंत्री मोदी की है|अगर मोदी ने मंजूरी नहीं दी होती तो महाराष्ट्र में घोड़ा बाजार नहीं होता|देश सत्ता हासिल करने के फॉर्मूले पर चल रहा है|पृथ्वीराज चव्हाण ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा द्वारा घोड़ा बाजार, खरीद-फरोख्त को बढ़ावा दिया जा रहा है|
‘महाराष्ट्र में कोई घोड़ा बाजार नहीं था, यह सिद्धांतों की लड़ाई है’: इस बीच, मंत्री दीपक केसरकर ने पृथ्वीराज चव्हाण के बयान पर आपत्ति जताई है| “पृथ्वीराज चव्हाण ने गलत बयान दिया है। कई लोगों के कांग्रेस में चले जाने के बाद घोड़ा बाजार नजर नहीं आया| मैं पृथ्वीराज चव्हाण का सम्मान करता हूं|पृथ्वीराज चव्हाण को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए| ये तो सभी जानते हैं कि कांग्रेस ने कई राज्यों की सरकारों को बर्खास्त कर दिया था| दीपक केसरकर ने कहा, महाराष्ट्र में कोई घोड़ा बाजार नहीं था, यह सिद्धांतों की लड़ाई है।
 
यह भी पढ़ें-

सुप्रिया सुले के बयान पर बोले अजित पवार, ”200 विधायकों के बावजूद राज्य सरकार अस्थिर”!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें