29 C
Mumbai
Thursday, April 18, 2024
होमन्यूज़ अपडेटभाजपा विधायक प्रसाद लाड की फिसली जुबान; संजय रा​ऊ​त का किया अपमान​...

भाजपा विधायक प्रसाद लाड की फिसली जुबान; संजय रा​ऊ​त का किया अपमान​ !

प्रसाद लाड ने यह भी कहा कि मैं कल सुबह तक अपने वकीलों से बात करूंगा और 200 से 500 करोड़ रुपये के नुकसान का दावा दायर करूंगा| इस बीच उन्होंने संजय राउत को भी सीधे तौर पर अपशब्द कहे।

Google News Follow

Related

ठाकरे समूह के सांसद संजय राउत ने भाजपा विधायक प्रसाद लाड और उनकी कंपनी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है| इस आरोप के बाद विधायक लाड आक्रामक हो गए हैं|अगर संजय राऊत मेरा या मेरी कंपनी का नाम लेते हैं तो सपने में संजय राऊत क्या हैं? मैं इसे मीडिया के सामने लाऊंगा|प्रसाद लाड ने यह भी कहा कि मैं कल सुबह तक अपने वकीलों से बात करूंगा और 200 से 500 करोड़ रुपये के नुकसान का दावा दायर करूंगा| इस बीच उन्होंने संजय राउत को भी सीधे तौर पर अपशब्द कहे।

नागपुर में मीडिया से बातचीत करते हुए प्रसाद लाड ने कहा कि उन्होंने शिवसेना सांसद संजय राउत की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुनी| कुछ पत्रकारों के माध्यम से मुझे पता चला कि संजय राउत लगातार मेरा और मेरी कंपनी का जिक्र कर रहे हैं| प्रसाद लाड और क्रिस्टल कंपनी 1000 करोड़ का भ्रष्टाचार आदि।अगर संजय राऊत की संसदीय भाषा में बोलना हो तो कुछ ऐसा जिसका कोई संबंध नहीं है, जिसकी जानकारी का कोई आधार नहीं है। प्रसाद लाड ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ऐसे व्यक्ति को इसी संसदीय भाषा का प्रयोग करना चाहिए|

प्रसाद लाड ने कहा, “मैं आपके माध्यम से संजय राउत को बताना चाहता हूं कि अगर वह अब से मेरा या मेरी कंपनी का नाम लेंगे, तो उनके सपनों में संजय राउत क्या हैं? मैं इसे मीडिया के सामने लाऊंगा| उनका वीडियो जनता के सामने लाएंगे। मैं अपने वकीलों से चर्चा करूंगा और कल सुबह तक संजय राउत के खिलाफ 200 से 500 करोड़ रुपये का मानहानि का दावा दायर करूंगा।

उड़ते हुए रेडकू को मारने के लिए भाले का उपयोग किया जाता है। ऐसे रेडकु को भाला मारने का समय आ गया है। इसलिए आक्रामक रुख अपना रहे हैं| विधायक लाड ने यह भी कहा कि मेहनत से बनाया गया साम्राज्य अगर किसी के झूठ से कलंकित हो जाता है तो छत्रपति की दी हुई शिक्षा यही है कि बात शरीर पर आए तो उसे सींग से पकड़ लेना चाहिए|
यह भी पढ़ें-

​ ​Article 370 Verdict:​”दस्तावेजों में धारा 370 एक अस्थायी व्यवस्था थी…”, सुप्रीम कोर्ट का फैसला​ !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,645फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें