36 C
Mumbai
Thursday, February 29, 2024
होमदेश दुनियाराम मंदिर समारोह में क्यों शामिल नहीं हो रहे चारों शंकराचार्य? स्वामी...

राम मंदिर समारोह में क्यों शामिल नहीं हो रहे चारों शंकराचार्य? स्वामी निश्चलानंद बोले…!

इस तरह से विपक्षी दल द्वारा राजनीति की जा रही है| साथ ही चारों शंकराचार्यों ने इस कार्यक्रम में नहीं जाने का ऐलान किया है| इस पर जगन्नाथ पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने अपनी प्रतिक्रिया दी है|

Google News Follow

Related

22 जनवरी को रामलला का जलाभिषेक किया जाएगा| इसी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राम मंदिर का उद्घाटन भी किया जाएगा| इस तरह से विपक्षी दल द्वारा राजनीति की जा रही है| साथ ही चारों शंकराचार्यों ने इस कार्यक्रम में नहीं जाने का ऐलान किया है| इस पर जगन्नाथ पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने अपनी प्रतिक्रिया दी है|
 
स्वामी निश्चलानंद ने क्या कहा?: शंकराचार्य अपनी प्रतिष्ठा रखते हैं। जो भी हो, अहंकार के कारण हमने रामलला के प्राणप्रतिष्ठा समारोह में जाने से परहेज नहीं किया। हमसे क्या अपेक्षा की जाती है? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रामलला की मूर्ति को गद्दी से उतारेंगे तो क्या हमें बाहर बैठकर तालियां बजानी चाहिए? ऐसा सवाल स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने पूछा है|
चूंकि चारों शंकराचार्यों में से कोई भी रामलला के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होगा, इसलिए यह मुद्दा विपक्षी दलों को सौंप दिया गया है। यहीं से आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए हैं| बताया जा रहा है कि चारों शंकराचार्य कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेंगे| कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया है कि राम मंदिर का काम आधा-अधूरा पड़ा है, लेकिन राजनीतिक मकसद से मंदिर का काम शुरू किया जा रहा है और जल्दबाजी में रामलला की स्थापना की जा रही है| वहीं, 22 जनवरी को होने वाले प्राणप्रतिष्ठा समारोह में चारों शंकराचार्यों ने हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया है|
देशभर में राम मंदिर प्राणप्रतिष्ठा समारोह को लेकर दिलचस्पी बढ़ गई है| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन करेंगे| इस समारोह में देशभर से हजारों लोगों को आमंत्रित किया गया है| कारसेवकों और उनके परिवारों, हजारों साधु-संतों, मशहूर हस्तियों, खिलाड़ियों और महत्वपूर्ण व्यक्तियों को आमंत्रित किया गया है। हालाँकि, भारत में चार मठों (पीठों) के चार शंकराचार्यों ने कहा है कि वे राम मंदिर प्राणप्रतिष्ठा समारोह में शामिल नहीं होंगे।अब स्वामी निश्चलानंद का बयान चर्चा में है क्योंकि उन्होंने इसकी वजह बताई है|
यह भी पढ़ें-

‘इंडिया’ गठबंधन​: अखिलेश यादव को ‘छिपकली’ कहते हुए मायावती ने बताया अगला प्लान​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें