30 C
Mumbai
Sunday, June 16, 2024
होमदेश दुनियाकोर्ट का निर्देश: ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में हिंदू कर सकते हैं...

कोर्ट का निर्देश: ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में हिंदू कर सकते हैं पूजा !

अदालत के निर्देशों के अनुसार हिंदू भक्त 'व्यास के तहखाने'(व्यास का तेखाना) में पूजा कर सकते हैं। फिलहाल मस्जिद का ये हिस्सा बंद है| कोर्ट ने यह भी निर्देश दिया है कि जिला प्रशासन अगले सात दिनों में उस स्थान पर हिंदुओं के लिए पूजा करने की व्यवस्था करे|

Google News Follow

Related

वाराणसी की एक अदालत ने बुधवार को हिंदू भक्तों को ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में प्रार्थना करने का अधिकार दे दिया।अदालत के निर्देशों के अनुसार हिंदू भक्त ‘व्यास के तहखाने'(व्यास का तेखाना) में पूजा कर सकते हैं। फिलहाल मस्जिद का ये हिस्सा बंद है| कोर्ट ने यह भी निर्देश दिया है कि जिला प्रशासन अगले सात दिनों में उस स्थान पर हिंदुओं के लिए पूजा करने की व्यवस्था करे|

फैसले के बाद हिंदू पक्षकारों के वकील विष्णु शंकर जैन ने बताया कि कोर्ट ने हिंदुओं को व्यास के तहखाने में पूजा करने की इजाजत दे दी है| अब जिला प्रशासन को सात दिन के अंदर वहां व्यवस्था करनी चाहिए, ताकि सभी को वहां पूजा करने का मौका मिल सके| फैसले के बाद हिंदू पक्षकारों ने कोर्ट के बाहर खुशी जताई|

24 जनवरी को, वाराणसी जिला प्रशासन ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के दक्षिण की ओर वाले तहखाने को अपने कब्जे में ले लिया। इस संबंध में आचार्य वेद व्यास पीठ मंदिर के प्रधान पुजारी शैलेन्द्र कुमार पाठक ने मामला दर्ज कराया है| इसके बाद, वाराणसी जिला न्यायालय ने मस्जिद के दक्षिणी तहखाने का कब्ज़ा वाराणसी जिला मजिस्ट्रेट को सौंप दिया।

हिंदुओं का सपना साकार हुआ| जिला प्रशासन सात दिन में वहां व्यवस्थाएं दुरुस्त करेगा। फिर हिंदू वहां पूजा करना शुरू कर देंगे| पूजा काशी विश्वनाथ ट्रस्ट की ओर से कराई जाएगी। हमारी कानूनी लड़ाई थी, वह खत्म हो गई है।’ अब से काशी विश्वनाथ पीठ ट्रस्ट फैसला लेगा| न्यायाधीश के.एम.पांडे ने 1 फरवरी 1986 को राम मंदिर के द्वार खोलने का निर्णय लिया था। हम आज के फैसले की तुलना जज पांडे के फैसले से कर रहे हैं|

वाराणसी जिला न्यायालय का फैसला ऐतिहासिक है| इससे पहले, सरकार ने हिंदू समुदाय की पूजा को रोकने के लिए अपनी शक्ति का दुरुपयोग किया था, जिसे आज अदालत ने पलट दिया है। अब से, वजूखाना का सर्वेक्षण हमारा लक्ष्य होगा”, हिंदू पक्षों के वकील विष्णु शंकर जैन ने कहा।

जुलाई 2023 में, वाराणसी जिला न्यायालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को मस्जिद का वैज्ञानिक सर्वेक्षण करने का निर्देश दिया। क्या मस्जिद परिसर में पहले कोई हिंदू मंदिर मौजूद था? इसका प्रमाण खोजने के लिए सर्वेक्षण करने की अनुमति दी गई। वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर के बगल में ज्ञानवापी मस्जिद है। दावा किया जाता है कि पहले इसी ज्ञानवापी मस्जिद क्षेत्र में एक मंदिर था|इस दावे को मुस्लिम पक्षकारों ने खारिज कर दिया है|

ये विवाद अब कोर्ट तक पहुंच गया है| 2022 में, पांच हिंदू महिलाओं ने मां श्रीनगर गौरी की पूजा करने की अनुमति मांगी,जो ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की बाहरी दीवार पर स्थित है। इसके लिए इन महिलाओं ने कोर्ट में याचिका दायर की थी|इसके बाद यह मामला खूब चर्चा में रहा|

यह भी पढ़ें-

संसद का बजट सत्र: कैसा होगा बजट 2024? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अहम संकेत !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,562फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें