36 C
Mumbai
Thursday, February 29, 2024
होमदेश दुनियाLAC पर लद्दाखी चरवाहों और चीन सैनिकों के बीच भिड़े भारतीय नागरिक...

LAC पर लद्दाखी चरवाहों और चीन सैनिकों के बीच भिड़े भारतीय नागरिक !

इस वीडियो में चीनी सैनिक वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास अपनी भेड़ें चरा रहे लद्दाख के चरवाहों को वहां से हटाने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं, जब चीनी सैनिक चरवाहों को भगाने की कोशिश कर रहे थे तो चरवाहे निडर होकर उनका सामना कर रहे थे।

Google News Follow

Related

पिछले कुछ दिनों से लद्दाख के पास भारत-चीन सीमा पर तनाव बढ़ रहा है। इस बीच लद्दाख में स्थानीय चरवाहों और चीनी सैनिकों के बीच विवाद का एक वीडियो सामने आया है| इस वीडियो में चीनी सैनिक वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास अपनी भेड़ें चरा रहे लद्दाख के चरवाहों को वहां से हटाने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं, जब चीनी सैनिक चरवाहों को भगाने की कोशिश कर रहे थे तो चरवाहे निडर होकर उनका सामना कर रहे थे।

2020 में गलवान घाटी में संघर्ष के बाद, स्थानीय चरवाहों और चरवाहों ने क्षेत्र में जानवरों को चराने के लिए ले जाना बंद कर दिया। हालाँकि, आज (31 जनवरी) लद्दाख के कुछ चरवाहे अपनी भेड़ों को भारत की सीमा में चराने के लिए ले गए। उस वक्त देखा गया कि चरवाहों और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हो गई|

चीनी सैनिकों ने उन चरवाहों को बेदखल करने की कोशिश की जो अपनी भेड़ों को वास्तविक सीमा के पास चरागाहों में चराने के लिए ले जा रहे थे। उसी समय, लद्दाखी चरवाहों ने चीनी सैनिकों से स्पष्ट रूप से कहा कि ‘यह भारत की सीमा है’। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है| यह वीडियो लद्दाख के पूर्वी हिस्से का बताया जा रहा है| उधर, घटना के बाद भारतीय सेना ने इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी है|

पिछले कुछ वर्षों में, पूर्वी लद्दाख में स्थानीय चरवाहों ने एलएसी के पास मवेशियों को चराने के लिए ले जाना बंद कर दिया है। पिछले दो वर्षों में पूर्वी लद्दाख में चरवाहों द्वारा वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास मवेशियों को चराने ले जाने की यह पहली घटना है। इसी बीच इस बार भारतीय चरवाहों ने इस जमीन पर अपना हक जताया| वहीं, चीनी सेना को पीछे हटने पर मजबूर होना पड़ा।

चरवाहों ने बहादुरी से किया चीनी सैनिकों का सामना: पूर्वी लद्दाख के चुशुल से पार्षद कोंचोक स्टैनजिन ने सोशल मीडिया पर चरवाहों और चीनी सैनिकों के बीच झड़प का एक वीडियो साझा किया है। साथ ही इन चरवाहों की सराहना भी की है| चरवाहों ने उनके साहस के लिए उनकी पीठ थपथपाई है। उन्होंने उन भारतीय सैनिकों को भी धन्यवाद दिया जो चरवाहों के पीछे खड़े थे।

स्टैनजिन ने माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट किया। पोस्ट में कहा गया है कि चरवाहों ने पूर्वी लद्दाख के सीमावर्ती क्षेत्र यानी पैंगोंग के उत्तरी तटीय क्षेत्र में चरागाहों पर दावा किया, अपने मवेशियों को चराने के लिए वहां ले गए, जबकि भारतीय सेना उनके पीछे खड़ी थी। ये सब देखकर ख़ुशी हुई| मैं सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले भारतीय नागरिकों को इतने अच्छे नागरिक-सैन्य संबंध बनाए रखने के लिए और भारतीय सेना को इन नागरिकों के हितों की रक्षा के लिए धन्यवाद देता हूं।

यह भी पढ़ें-

कोर्ट का निर्देश: ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में हिंदू कर सकते हैं पूजा !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें