29 C
Mumbai
Sunday, June 23, 2024
होमदेश दुनियामहाराष्ट्र : सोलापुर में  बैल पोला एक किसानों का त्योहार !

महाराष्ट्र : सोलापुर में  बैल पोला एक किसानों का त्योहार !

बैल पोला एक किसानों का त्योहार है, जो किसान के बीच के बंधन को उजागर करता है, जो मानता है कि बैल के खुरों से खेती करने से घर में समृद्धि आती है और बैल जो अपने मालिक के साथ खेतों में काम करता है क्योंकि उसे लगता है कि सूखा कड़ाबा मीठा होता है।

Google News Follow

Related

बैल पोला एक किसानों का त्योहार है, जो किसान के बीच के बंधन को उजागर करता है, जो मानता है कि बैल के खुरों से खेती करने से घर में समृद्धि आती है और बैल जो अपने मालिक के साथ खेतों में काम करता है क्योंकि उसे लगता है कि सूखा कड़ाबा मीठा होता है। लेकिन इस वर्ष सूखा फैलने के कारण सोलापुर जिले में बुलीपोला उत्सव में कहीं भी कोई उत्साह देखने को नहीं मिला| ऐसे वैराग्य और देखभाल के माहौल में बैल उत्सव मनाया गया।

इस साल मॉनसून पूरी तरह से निराशाजनक रहा है और आशंका है कि ख़रीफ़ फ़सलों का उत्पादन घट जाएगा| उझानी बांध और अन्य छोटे बांधों में पानी का भंडारण कम होने के कारण नदियां और नाले सूखे हैं, जिससे जिले में सूखा फैल गया है। विशेषकर संगोला, मालशिरस करमाला, पंढरपुर, माधा आदि में बारिश ने निराश किया है।

बांध में बमुश्किल बचा हुआ पानी केवल पीने के लिए आरक्षित है। जहाँ एक ओर ख़रीफ़ फ़सलों के उत्पादन में भारी कमी देखी जा रही है, वहीं बेजुबान जानवरों के भरण-पोषण के लिए चारे की भी कमी हो गई है। बताया जाता है कि जिले में सिर्फ डेढ़ माह का ही चारा बचा है| इसमें गाय-बैलों पर फिर से लम्पी रोग महामारी का साया मंडरा रहा है। एक ओर जहां पशुओं के पालन-पोषण की लागत अप्रभावी होती जा रही है, वहीं दूसरी ओर कृषि कार्य के लिए मशीनीकरण पर जोर दिया जा रहा है।

इस पृष्ठभूमि में, किसानों ने खेत में अपने साथ काम करने वाले बैलों के साथ संबंध बनाए रखने के लिए अपने दुःख को एक तरफ रखते हुए बुल पोला मनाया। एर्वी में किसान अपने बैलों को नाले में रगड़कर नहलाते थे, लेकिन आज नाला सूखा होने के कारण खेत में या गांव में नहलाया और रंगों के साथ-साथ उनके सींगों पर हिंगुल, बेगड़, आकर्षक गोंदे भी लगाए। कुछ गांवों में किसानों ने मेवों से सजाकर बैलों का जुलूस निकाला।

लेकिन सूखे के कारण ख़रीफ़ का मौसम बर्बाद हो गया, ज़्यादातर जगहों पर बैलगाड़ी का त्यौहार सादगी से मनाया जाता था। उत्तरी सोलापुर तालुका के नन्नज गांव के एक किसान सतीश अर्जुन गवली ने ग्रामीण इलाकों के संकट को व्यक्त करते हुए अपनी सरजा-राजा बैल जोड़ी के पेट पर एक मांग पत्र लिखा था, ‘सूखा घोषित करें’।
यह भी पढ़ें-

भारत ​में​ पहला सूर्योदय​ ​होता है नागालैंड के ‘डोंग वैली​​​’ ​​में

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,542फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
162,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें