33 C
Mumbai
Wednesday, April 24, 2024
होमदेश दुनियागोवा में पांच सितारा होटल परियोजना के खिलाफ जोरदार अभियान; 17 हजार...

गोवा में पांच सितारा होटल परियोजना के खिलाफ जोरदार अभियान; 17 हजार शिकायतें!

इस फाइव स्टार होटल के प्रोजेक्ट को मंजूरी मिल गई है| माउंट मैरी चैपल के पास प्रस्तावित बफर जोन के पास एक पांच सितारा होटल परियोजना का निर्माण किया जा रहा है। स्थानीय लोगों के साथ-साथ सेव ओल्ड गोवा कमेटी ने भी इसका विरोध किया है।

Google News Follow

Related

गोवा में एक पांच सितारा होटल परियोजना के खिलाफ एक बड़ा अभियान शुरू किया गया है। सेव ओल्ड गोवा एक्शन कमेटी ने यह अभियान उठाया है। इस परियोजना के खिलाफ स्थानीय नागरिकों की 17 हजार शिकायतें आईपीबी को सौंपी गईं। उसके बाद भी इस फाइव स्टार होटल के प्रोजेक्ट को मंजूरी मिल गई है| माउंट मैरी चैपल के पास प्रस्तावित बफर जोन के पास एक पांच सितारा होटल परियोजना का निर्माण किया जा रहा है। स्थानीय लोगों के साथ-साथ सेव ओल्ड गोवा कमेटी ने भी इसका विरोध किया है।

आईपीबी बोर्ड की ओर से 22 अक्टूबर 2023 को एक नोटिस भेजा गया था|इस समय बोर्ड ने प्रोजेक्ट को लेकर आपत्तियां और सुझाव 30 दिन के भीतर भेजने को कहा था| तदनुसार, स्थानीय नागरिकों ने अपनी आपत्तियां और सुझाव दिए। कुल 17 हजार शिकायतें दी गईं। फिर 22 दिसंबर 2023 को बोर्ड की बैठक हुई और होटल प्रोजेक्ट को अंतिम रूप दिया गया। साथ ही इस प्रोजेक्ट को रद्द करने को लेकर कोई आश्वासन या कारण भी नहीं बताया गया है|

आरटीआई दाखिल करने के बाद भी नहीं मिली जानकारी: इससे पहले यानी 13 अक्टूबर 2023 को सेव ओल्ड गोवा एक्शन कमेटी ने आरटीआई के जरिए जानकारी मांगी थी|कमेटी ने इस प्रोजेक्ट के बारे में पूरी जानकारी मांगी थी| हालांकि, सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगने के बावजूद अभी तक इसका जवाब नहीं दिया गया है|समिति के समन्वयक पीटर वीगास ने सूचना के अधिकार से जानकारी नहीं मिलने पर नाराजगी जताई है।आवर लेडी ऑफ द माउंट चैपल एक ऐतिहासिक स्थल है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि इस जगह को मरम्मत के कारण नहीं बल्कि इसलिए बंद किया गया है क्योंकि इस ऐतिहासिक संरचना के क्षेत्र में एक परियोजना का निर्माण होने वाला था|

अगर कोई काम नहीं हो रहा है तो चर्च को एक साल तक जनता से क्यों काटा जा रहा है? पुरातत्व विभाग के अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक इस चर्च का पहले चरण का काम पूरा हो चुका है| इस चर्च के पहले चरण पर 1.17 करोड़ रुपये खर्च हुए थे। छत की मरम्मत के लिए सागौन की लकड़ी का उपयोग किया गया है। लेकिन विकास ने आरोप लगाया है कि असल में इसे केवल प्लास्टर किया गया था और सफेद रंग से रंगा गया था।

तैयार करें मास्टर प्लान: अधिकारियों ने बताया कि चर्च के सौंदर्यीकरण का दूसरा चरण आगामी वित्तीय वर्ष पर आधारित है| इसलिए, सेव ओल्ड गोवा एक्शन कमेटी के सचिव फ्रेडी डायस ने मांग की है कि सरकार को इस परियोजना को रद्द करना चाहिए और ओल्ड गोवा के लिए एक व्यापक मास्टर प्लान तैयार करना चाहिए।फ्रेडी डायस ने बोर्ड के सदस्यों के अध्ययन पर सवाल उठाते हुए दावा किया है कि परियोजना के 10,000 वर्ग मीटर क्षेत्र में पेड़ हैं और डाउनहिल और हेरिटेज क्षेत्रों में एक बफर जोन है। यह क्षेत्र आवासीय क्षेत्र नहीं है| उन्होंने यह भी कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया है|

यह भी पढ़ें-

मराठा आरक्षण: राज्य में 54 लाख कुनबी अभिलेख प्राप्त, शीघ्र प्रमाण पत्र जारी करने का आदेश​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,634फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
148,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें