25 C
Mumbai
Tuesday, July 23, 2024
होमदेश दुनिया49 Years Of Emergency: पीएम मोदी ने आपातकाल का जिक्र करते हुए...

49 Years Of Emergency: पीएम मोदी ने आपातकाल का जिक्र करते हुए विपक्ष पर साधा निशाना!

आज इस घटना को लगभग 49 साल बीत चुके हैं| इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'एक्स' के जरिए पोस्ट किया है| साथ ही 18वीं लोकसभा के पहले संसदीय सत्र में उन्होंने इस आपातकाल का जिक्र किया और विपक्ष पर निशाना साधा|

Google News Follow

Related

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 25 जून 1975 की सुबह देशवासियों को संबोधित किया और देश में आपातकाल लगाने की घोषणा की। उन्होंने कहा था, राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद ने देश में आपातकाल लगा दिया है, लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है। आज इस घटना को लगभग 49 साल बीत चुके हैं| इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘एक्स’ के जरिए पोस्ट किया है|साथ ही 18वीं लोकसभा के पहले संसदीय सत्र में उन्होंने इस आपातकाल का जिक्र किया और विपक्ष पर निशाना साधा|

आज उन सभी महान पुरुषों और महिलाओं को श्रद्धांजलि देने का दिन है जिन्होंने आपातकाल का विरोध किया था। #DarkDaysOfEmergency हमें याद दिलाती है कि कांग्रेस पार्टी ने मौलिक स्वतंत्रता और भारत के संविधान को कुचल दिया। सिर्फ सत्ता से चिपके रहने के लिए, तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने हर लोकतांत्रिक सिद्धांत की अवहेलना की और देश को कैद कर लिया। उन्होंने कहा, “कांग्रेस से असहमत हर किसी को सताया गया। कमजोर वर्गों को निशाना बनाने के लिए सामाजिक रूप से प्रतिगामी नीतियां लागू की गईं। 

पीएम मोदी ने कांग्रेस की आलोचना करते हुए कहा कि आपातकाल लगाने वालों को हमारे संविधान से प्यार करने का कोई अधिकार नहीं है।’ ये वही लोग हैं जिन्होंने अनगिनत बार अनुच्छेद 356 लगाया है, एक विधेयक पेश किया जिसने प्रेस की स्वतंत्रता को नष्ट कर दिया, संघीय सरकार को नष्ट कर दिया और संविधान के हर पहलू का उल्लंघन किया। उस पार्टी में आपातकाल लगाने की मानसिकता आज भी जिंदा है|उन्होंने संविधान पर अपनी धोखाधड़ी को हर संभव तरीके से छिपाने की कोशिश की है और यही कारण है कि उन्होंने इसे बार-बार खारिज कर दिया है।

सत्र के पहले दिन क्या बोले मोदी?: संसद का मानसून सत्र 24 जून से शुरू हुआ था। यह 18वीं लोकसभा का पहला संसदीय सत्र है। इसके पहले ही दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस की आलोचना की| उन्होंने कहा, 25 जून को मंगलवार है| संविधान की गरिमा को बनाए रखने के लिए संघर्ष करने वाले और लोकतांत्रिक परंपराओं में विश्वास करने वाले लोग इस दिन को नहीं भूल सकते। भारत के लोकतंत्र के एक काले अध्याय के मंगलवार को 50 साल पूरे हो गए।

देशवासियों को संकल्प लेना चाहिए कि संविधान के साथ ऐसी धोखाधड़ी दोबारा नहीं होने दी जाएगी। हम एक जीवंत लोकतंत्र सुनिश्चित करने और संविधान में निहित आम आदमी के सपनों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हालांकि नई लोकसभा में विपक्ष की ताकत बढ़ी है, लेकिन इससे साफ संकेत मिल गया है कि भाजपा और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (रालोआ) का आक्रामक रुख जारी रहेगा|

यह भी पढ़ें-

राइफल शूटिंग चैंपियनशिप में गोल्डन बॉय ​बने​ अवनीश पाटिल ​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,495फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें