34 C
Mumbai
Tuesday, April 16, 2024
होमदेश दुनियाराम मंदिर के बाद अयोध्या में मस्जिद बनाने की तैयारी! जल्द शुरू...

राम मंदिर के बाद अयोध्या में मस्जिद बनाने की तैयारी! जल्द शुरू होगा निर्माण कार्य!

महाराष्ट्र अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष हाजी अराफात शेख को मस्जिद की निर्माण समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया है। मस्जिद का निर्माण कराने वाले 'इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ट्रस्ट' के मुख्य ट्रस्टी और उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन जफर फारूकी ने उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी| 

Google News Follow

Related

अयोध्या में राम मंदिर के बाद अब मस्जिद बनाने की तैयारी हो सकती है| यह काम मुंबई की टीम को दिया गया है| जानिए कब शुरू होगा काम, कैसा होगा डिजाइन और अन्य जानकारी| अयोध्या में एक ओर जहां राम मंदिर का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है, वहीं मस्जिद का निर्माण भी जल्द ही शुरू हो जाएगा|
राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर अयोध्या के धन्नीपुर में मुसलमानों को दी गई जमीन पर जल्द ही मस्जिद का निर्माण शुरू होने की संभावना है। अयोध्या में मस्जिद निर्माण की जिम्मेदारी मुंबई में टीम प्रभारी को दी गई है| महाराष्ट्र अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष हाजी अराफात शेख को मस्जिद की निर्माण समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया है। मस्जिद का निर्माण कराने वाले ‘इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ट्रस्ट’ के मुख्य ट्रस्टी और उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन जफर फारूकी ने उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी|
राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर, अयोध्या के धन्नीपुर में मुसलमानों को आवंटित भूमि पर मस्जिद का निर्माण अगले साल मई से शुरू होने की संभावना है। जफर फारूकी ने कहा है कि हाजी अराफात शेख को मस्जिद विकास समिति का अध्यक्ष नियुक्त करने का मुख्य उद्देश्य मस्जिद के निर्माण को गंभीरता से पूरा करना है| उन्हें ट्रस्ट के सलाहकार की जिम्मेदारी भी दी गई है| अयोध्या में बाबरी मस्जिद की जगह बनने वाली मस्जिद का नाम ‘मोहम्मद बिन अब्दुल्लाह अयोध्या मस्जिद’ रखा गया है| मस्जिद का निर्माण अगले साल मई में शुरू होने की उम्मीद है|
इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ट्रस्ट ने मस्जिद को दोबारा डिजाइन किया है और अब यह मस्जिद 15 हजार वर्ग फुट की जगह करीब 40 हजार वर्ग फुट में बनाई जाएगी| इस मस्जिद के साथ एक अस्पताल, पुस्तकालय, सामुदायिक रसोई और संग्रहालय बनाया जाएगा, जो सरकार द्वारा प्रदान की गई भूमि पर बनाया जाएगा।
यह भी पढ़ें-

मराठा आरक्षण: सरकार को ​मनोज जरांगे पाटिल ने 20 जनवरी को उग्र आंदोलन की ​दी चेतावनी​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,646फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें