25 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमदेश दुनिया14 हजार रुपये में दक्षिण कोरियाई पहुंचना चाहती थी ये तीन लड़कियां,...

14 हजार रुपये में दक्षिण कोरियाई पहुंचना चाहती थी ये तीन लड़कियां, जाने वजह    

लड़कियों ने एक महीने पहले दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल पहुंचने की योजना बनाई थी| यात्रा के लिए 14 हजार रुपये जुटाए गए और फिर उन्होंने योजना के मुताबिक यात्रा शुरू की| लेकिन उससे पहले ही उनका सपना टूट गया और पुलिस ने उन्हें बचा लिया|

Google News Follow

Related

दक्षिण कोरियाई म्यूजिक बैंड बीटीएस पूरी दुनिया में काफी लोकप्रिय है। जो विशेष रूप से युवाओं के बीच बहुत लोकप्रियता है। दुनिया भर के प्रशंसक बीटीएस के गायकों से मिलने के लिए उत्सुक रहते हैं। तमिलनाडु के ग्रामीण इलाकों की तीन नाबालिग लड़कियां भी बीटीएस की प्रशंसक हैं। उन्होंने बैंड के युवाओं से मिलने के लिए एक महीने पहले दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल पहुंचने की योजना बनाई थी। यात्रा के लिए 14 हजार रुपये जुटाए और फिर उन्होंने योजना के मुताबिक यात्रा शुरू की, लेकिन उससे पहले ही उनका सपना टूट गया और पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।  

हजारों किलोमीटर की यात्रा करने की असंभव योजना: तीनों लड़कियां तमिलनाडु के करूर जिले की 13 साल की हैं। तीनों लड़कियां अपने गांव से चेन्नई और फिर ट्रेन द्वारा विशाखापत्तनम पहुंची। वहां से लड़कियों ने समुद्र के रास्ते दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल तक जाने का प्लान बनाया था। लड़कियाँ हजारों किलोमीटर दूर अपनी संगीत प्रेरणाओं से मिलने के लिए यात्रा पर निकली थीं ।

लेकिन इन लड़कियों का ये सपना पूरा नहीं हो सका। चेन्नई पहुंचने के बाद पुलिस ने उन्हें वेल्लोर जिले के काटपाडी रेलवे स्टेशन से पकड़ लिया। बताया जा रहा है कि ये लड़कियां अब  अपने घर लौटने की सोच रही हैं। पुलिस ने लड़कियों को हिरासत में लेने के बाद उनकी काउंसलिंग की और उनके ट्रैवल प्लान के बारे में जानकारी ली। लड़कियों ने बताया कि वे विशाखापत्तनम से नाव से सियोल जा रही थीं। उन्होंने सियोल जाने की जानकारी इंटरनेट के जरिये जुटाई।

तीनों लड़कियों की आर्थिक हालत ख़राब: इन लड़कियों को फिलहाल वेल्लोर जिले के एक सरकारी अनाथालय में रखा गया है, जब तक उनके माता-पिता उन्हें लेने नहीं आते तब तक पुलिस उनकी काउंसलिंग कर रही है। “ये तीनों लड़कियाँ निम्न मध्यम वर्गीय परिवारों से हैं। इसमें से एक लड़की की मां ग्राम पंचायत के प्राथमिक विद्यालय में शिक्षिका हैं। दूसरी लड़की के पिता विकलांग हैं, जबकि तीसरी लड़की के माता-पिता मजदूर हैं और अलग रहते हैं। इन तीनों लड़कियों के पास स्मार्टफोन हैं।  

काउंसलिंग के दौरान लड़कियों ने बताया कि उन्हें पड़ोस में रहने वाली अपनी सहेलियों से बीटीएस बैंड के बारे में पता चला। लड़कियां उनके संगीत से इतनी प्रभावित हुईं कि उन्होंने गूगल ट्रांसलेट की मदद से कोरियाई गाने को समझने की कोशिश की। पूछताछ में लड़कियों ने बताया कि वे बैंड के सभी सात लड़कों के नाम जानती हैं। इतना ही नहीं, इन लड़कियों को उनकी पसंद-नापसंद, पसंदीदा खाना, पसंदीदा कपड़ों के बारे में भी जानकारी है।  

चेन्नई पहुंचते-पहुंचते आधे पैसे उड़ गए: लड़कियां 4 जनवरी को घर से निकली थीं। इरोड रेलवे स्टेशन से चेन्नई के लिए ट्रेन पकड़ी। चेन्नई पहुंचने के बाद उन्होंने रात रुकने का फैसला किया। इसके लिए होटल में कमरा तलाशा। ये लड़कियां एक होटल में प्रति रात 1200 रुपये देकर रुकी थीं। इस बीच, उनके पैतृक गांव में उनके परिवार वालों ने गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी। जिसके बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की ।

लड़कियां चेन्नई पहुंचीं और अगले दिन फिर से ट्रेन पकड़ीं। वह काटपाडी रेलवे स्टेशन पर दोपहर का खाना खाने के लिए प्लेटफॉर्म पर उतरी थीं, लेकिन खाना लेने के दौरान ही उनकी ट्रेन निकल गयी। इसके बाद इन लड़कियों की गतिविधियों को देखकर काटपाडी रेलवे पुलिस ने पूछताछ की तो मामला सामने आया। जिसके बाद करूर जिला पुलिस को सूचित किया और तीनों लड़कियों को वेल्लोर जिला बाल कल्याण समिति के पास भेज दिया। इन तीनों लड़कियों ने दक्षिण कोरिया जाने के लिए 14 हजार रुपये इकट्ठा किये थे। दो दिन की यात्रा के बाद उनके पास केवल आठ हजार रुपये बचे थे। इसलिए उन्हें अंदाजा था कि वे इतने पैसे लेकर दक्षिण कोरिया नहीं पहुंच पाएंगीं। 

यह भी पढ़ें-

Ship hijack rescue: मार्कोस कमांडो ने कैसे बचाई 15 भारतीयों की जान ?

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें