34 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमक्राईमनामाजो बाइडेन को रोककर मोदी ने दी 'कोणार्क चक्र' की जानकारी; क्या...

जो बाइडेन को रोककर मोदी ने दी ‘कोणार्क चक्र’ की जानकारी; क्या है महत्व?

जी20 शिखर सम्मेलन के मौके पर सदस्य देश, आमंत्रित देशों के प्रमुख, इस समूह के प्रतिनिधि दिल्ली के प्रगति मैदान में 'भारत मंडपम' में जुटे हैं| भारत के पास वर्तमान में G20 शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता है। यह सम्मेलन आज और कल यानी 9 और 10 सितंबर को होगा और इसके लिए आज खुद मोदी ने भारत मंडपम में सभी राष्ट्राध्यक्षों का स्वागत किया|

Google News Follow

Related

G20 Summit Delhi 2023: दुनिया के प्रभावशाली देशों के राष्ट्राध्यक्ष आज राजधानी दिल्ली में जुटे हैं| जी20 शिखर सम्मेलन के मौके पर सदस्य देश, आमंत्रित देशों के प्रमुख, इस समूह के प्रतिनिधि दिल्ली के प्रगति मैदान में ‘भारत मंडपम’ में जुटे हैं| भारत के पास वर्तमान में G20 शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता है। यह सम्मेलन आज और कल यानी 9 और 10 सितंबर को होगा और इसके लिए आज खुद मोदी ने भारत मंडपम में सभी राष्ट्राध्यक्षों का स्वागत किया|
मोदी-बाइडेन का ‘सहज संवाद’!: भारत मंडपम में जिस स्थान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राष्ट्राध्यक्षों का स्वागत किया, उसके पीछे की ओर एक भव्य कोणार्क चक्र बनाया गया है|  जब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन जी20 शिखर सम्मेलन के लिए भारत मंडपम में दाखिल हुए तो मोदी ने मुस्कुराते हुए उनका स्वागत किया। इस समय मोदी बाइडेन का हाथ पकड़कर उन्हें पिछले कोणार्क चक्र के बारे में जानकारी दे रहे थे| दोनों ने एक-दूसरे का अभिवादन किया और फिर जो बिडेन सभागार के लिए रवाना हो गए।
क्या है कोणार्क चक्र का महत्व?: दिल्ली के भारत मंडपम में भारतीय संस्कृति और इतिहास की जानकारी देने वाली मूर्तियां और संरचनाएं हैं। इसके प्रवेश द्वार पर बना भव्य कोणार्क चक्र आगंतुकों के लिए विशेष आकर्षण का विषय बन गया है। मूल कोणार्क चक्र को ओडिशा के कोणार्क मंदिर में स्थापित किया गया था।

कोणार्क चक्र का निर्माण 13वीं शताब्दी में राजा नरसिम्हा देव प्रथम के शासनकाल के दौरान किया गया था। इस चक्र में 24 तीलियां हैं। यही वृत्त भारत के राष्ट्रीय ध्वज के मध्य में प्रमुखता से प्रदर्शित होता है। कोणार्क चक्र को लोकतंत्र के एक शक्तिशाली प्रतीक के रूप में देखा जाता है। कोणार्क चक्र को प्राचीन ज्ञान, आधुनिक संस्कृति और वास्तुकला का एक अद्भुत उदाहरण माना जाता है। इस चक्र को समय का प्रतीक भी कहा जाता है। इसके अलावा, यह दुनिया में निरंतर विकास और परिवर्तन का प्रतीक बन गया है।

विश्व धरोहर: ओडिशा के कोणार्क सूर्य मंदिर को 1984 में यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है। यह ओडिशा के पुरी से सिर्फ 35 किमी दूर है।

यह भी पढ़ें-

भूकंप से हिला मोरक्को, 296 लोगों की मौत; कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,601फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें