27 C
Mumbai
Sunday, June 23, 2024
होमन्यूज़ अपडेटपंकजा मुंडे पूछती हैं, ''कौन कहेगा कि हमें उन्हें आरक्षण देना चाहिए'';...

पंकजा मुंडे पूछती हैं, ”कौन कहेगा कि हमें उन्हें आरक्षण देना चाहिए”; बोले, “मराठा समाज…!”

जरांगे ने सभी मराठों को कुनबी सर्टिफिकेट देने की मांग की है| दूसरी ओर, सरकार की ओर से केवल उन्हीं लोगों को प्रमाण पत्र जारी करने का अध्यादेश जारी किया गया, जिनकी वंशावली में कुनबी का उल्लेख है|  दूसरी ओर, भाजपा नेता पंकजा मुंडे ने धाराशिव में बोलते हुए मराठा आरक्षण पर अपना रुख दोहराया।

Google News Follow

Related

मराठा आरक्षण के मुद्दे पर पिछले 10 दिनों से मनोज जरांगे पाटिल भूख हड़ताल पर हैं| तब से मराठा समुदाय आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहा है| इस पृष्ठभूमि में यह मुद्दा पूरे राज्य में गरमाने लगा है| जरांगे ने सभी मराठों को कुनबी सर्टिफिकेट देने की मांग की है| दूसरी ओर, सरकार की ओर से केवल उन्हीं लोगों को प्रमाण पत्र जारी करने का अध्यादेश जारी किया गया, जिनकी वंशावली में कुनबी का उल्लेख है|  दूसरी ओर, भाजपा नेता पंकजा मुंडे ने धाराशिव में बोलते हुए मराठा आरक्षण पर अपना रुख दोहराया।

‘मराठा समाज को शब्द नहीं चाहिए, वे…’: पंकजा मुंडे ने कहा कि मराठा समाज गुमराह नहीं होना चाहता| वह धाराशिव में मीडिया से बात कर रही थीं| “मैंने बार-बार कहा है कि मराठा समुदाय को शब्द नहीं चाहिए। मराठा समाज गुमराह नहीं होना चाहता| उन्हें असली आरक्षण चाहिए| यह आरक्षण कितना फिट बैठेगा और कैसे फिट बैठेगा, इसकी योजना सरकार के पास है। मुझे लगता है कि उनके साथ चर्चा करके आत्मविश्वास और साहस के साथ ऐसा किया जाना चाहिए।

“उन्होंने कभी नहीं कहा कि हमें ओबीसी से आरक्षण दो। उन्होंने कहा कि हमें आरक्षण दीजिए|उन्हें अलग समूह में आरक्षण भी दिया गया, लेकिन यह अदालत में टिक नहीं सका। उनके आरक्षण को सुरक्षित करने का रास्ता केवल प्रशासन, सरकार और अदालतों के पास है। उन्हें यह करना चाहिए”, उन्होंने उल्लेख किया।

‘वंशावली से तय किया जा सकता है’: इस बीच, पंकजा मुंडे ने कहा कि लोगों को एक वर्ग से दूसरे वर्ग में डालने का फैसला वंशावली को देखकर ही किया जा सकता है। “मराठा आरक्षण का हमेशा ओबीसी नेताओं द्वारा समर्थन किया गया है। ऐसा नहीं कहा जा सकता कि ओबीसी में कुनबी वर्ग वांछित नहीं है| ये सिर्फ भ्रामक है. ऐसा लगता है कि इससे मराठों और ओबीसी के बीच बेचैनी पैदा हो गई है।

“वह वर्ग अपनी जगह पर है। उन्हें दूसरी श्रेणी में कैसे रखा जा सकता है? हमें उनकी वंशावली को देखना होगा| हमें यह देखना होगा कि तब कौन सी प्रजाति लगाई जा रही थी।’ अगर यह ओबीसी में नहीं होता तो इसे छोड़ना आसान नहीं होता| ओबीसी आरक्षण का समर्थन करते हैं,लेकिन कौन सा वर्ग कहेगा कि हमें हमारे वर्ग में आरक्षण दो। महाराष्ट्र उन्हें परेशान नहीं करना चाहता और दो वर्गों के बीच फिर से लड़ाई पैदा करना नहीं चाहता और तीसरे लोग बैठकर देखते रहेंगे। महाराष्ट्र शांति और स्थिरता चाहता है| इसलिए मराठा और ओबीसी समुदाय के बीच विवाद का कोई मुद्दा नहीं है|

“केंद्र सरकार की मुश्किलें अलग होंगी| क्योंकि कई राज्यों में उनकी यही समस्या है| इसलिए इस मामले में वे संविधान को देखेंगे और फैसला लेंगे| हमारे राज्य में मराठा समुदाय आरक्षण को लेकर चिंतित है| यदि आरक्षण 50 प्रतिशत नहीं जाना है तो उन्हें यह देखना होगा कि कितने प्रतिशत आरक्षण दिया जा सकता है। यदि आरक्षण 50 प्रतिशत करना है तो यह निर्णय देश स्तर पर लिया जाना चाहिए”, उन्होंने यह भी कहा।

‘आत्महत्या न करें’: इस बीच, पंकजा मुंडे ने एक बार फिर अपील की है कि मराठा समुदाय के युवाओं को आत्महत्या जैसा कदम नहीं उठाना चाहिए। “खुद को मत मारो। यदि आप ऐसा सोचते हैं, तो आप योद्धा नहीं हैं। आपकी ये लड़ाई आपकी अगली पीढ़ी के काम आ सकती है| यदि आप ऐसा करना शुरू कर देंगे तो दूसरे लोग किसकी ओर देखेंगे?
 
यह भी पढ़ें-

जो बाइडेन को रोककर मोदी ने दी ‘कोणार्क चक्र’ की जानकारी; क्या है महत्व?

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,539फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
162,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें