28 C
Mumbai
Wednesday, February 28, 2024
होमन्यूज़ अपडेटमहाराष्ट्र में एनसीपी और शिवसेना पार्टियों के बीच फूट का मुद्दा गरमाया!

महाराष्ट्र में एनसीपी और शिवसेना पार्टियों के बीच फूट का मुद्दा गरमाया!

शिवसेना विधायकों की अयोग्यता की सुनवाई जहां विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष चल रही है, वहीं एनसीपी पार्टी की सुनवाई चुनाव आयोग के समक्ष चल रही है​|​ इसी पृष्ठभूमि में कर्जत में अजित पवार गुट के खेमे में मंत्री छगन भुजबल ने शरद पवार पर सीधा हमला बोला है​|​

Google News Follow

Related

एक तरफ जहां पांच राज्यों के चुनाव के नतीजे राष्ट्रीय स्तर पर क्या होंगे? इसे लेकर जहां हर कोई उत्सुक है वहीं महाराष्ट्र में एनसीपी और शिवसेना पार्टियों के बीच फूट का मुद्दा गरमाया हुआ है|शिवसेना विधायकों की अयोग्यता की सुनवाई जहां विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष चल रही है, वहीं एनसीपी पार्टी की सुनवाई चुनाव आयोग के समक्ष चल रही है|इसी पृष्ठभूमि में कर्जत में अजित पवार गुट के खेमे में मंत्री छगन भुजबल ने शरद पवार पर सीधा हमला बोला है|

छगन भुजबल ने क्या कहा?: इस मौके पर बोलते हुए छगन भुजबल ने बयान दिया कि 1999 में बनी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी उनकी है|हमारी पार्टी नई नहीं है, पुरानी है। ये वो पार्टी है जिसकी स्थापना 1999 में हुई थी|छगन भुजबल इस पार्टी के पहले प्रांतीय अध्यक्ष थे”, छगन भुजबल ने इस अवसर पर कहा।मैं नहीं जानता था कि मैं इतना क्रोधित क्यों था। अगर सब लोग यहाँ आ जायेंगे तो हम क्या करेंगे? आपके साथ भी ऐसा ही हुआ|2004 में आपके साथ भी ऐसा ही हुआ था|क्या यह तब से चल रहा है? इनमें से कुछ बातें प्रफुल्ल पटेल जानते हैं|मैं बहुत कम चीजें जानता हूं​, लेकिन जब मुझे जानकारी मिली तो मैंने सोचा कि तालाबों और खेतों में ऐसा करने की बजाय एक बार फैसला ले लूं”, भुजबल ने बिना नाम लिए शरद पवार पर हमला बोला|

“जयंत पाटिल ने पूछा और साहेब ने कहा…”: भाजपा के साथ सरकार बनाने को लेकर 54 विधायकों और सांसदों ने भी कागज पर हस्ताक्षर किए|सारी मंडली जा रही थी|विमान में जयंत पाटिल, अजित पवार और प्रफुल्ल पटेल तैयार बैठे थे​, लेकिन जयन्त पाटिल ने सोचा कि वापस जाकर पूछा जाए। लेकिन फिर सर ने कहा कि रुको, प्लेन में मत बैठो|इसके अलावा, ऐसा एक बार भी नहीं हुआ है|ऐसा कई बार हुआ है|यदि आप किसी पार्टी के लिए एक बार हाँ कहते हैं और फिर मुकर जाते हैं, तो यह ठीक है। लेकिन हर बार यही हो रहा है”, उन्होंने शरद पवार पर भी आरोप लगाया|

“आपकी समस्या क्या है?”: इस बीच, आपको भाजपा के साथ जाने में क्या समस्या है? भुजबल ने ये सवाल शरद पवार से पूछा है| “क्या हमने अपनी पार्टी छोड़ दी है? हमारी पार्टी एनसीपी है. समस्या क्या है रास्ता बदल गया है| नीतीश कुमार बीजेपी के साथ आ गये. क्या हुआ वो वहां थे। जयललिता, नवीन पटनायक, महबूबा मुफ्ती भी गए. तो क्या उनकी विचारधारा बदल गयी?
हम अजित पवार के नेतृत्व में भाजपा सरकार में भी गए|उससे पहले हम उद्धव ठाकरे की शिवसेना के साथ सरकार में गए थे|क्या हम शिव सेना बन गये? नहीं। कहा जा रहा है कि शिवसेना और भाजपा की विचारधारा एक ही है|तो फिर यह कैसे हुआ कि यदि आप वहां जाते हैं तो यह काम करता है और यदि आप यहां जाते हैं तो यह काम नहीं करता है?” यह सवाल भुजबल ने उठाया है|
​“हम सभी महाराष्ट्र के लोगों के लिए सरकार में शामिल हुए हैं। सत्ता क्या है, हम तो कई बार मंत्री बन चुके हैं|इसमें क्या है लेकिन जनता के मन में कई सवाल हैं| हम इसे सुलझाने गए थे|लोगों ने साफ कर दिया है कि ग्राम पंचायत चुनाव में वे हमारे साथ हैं| अदालती लड़ाई भी शुरू हो गई है| तारीख पर तारीख चला है| न्याय हमारे पक्ष में होगा”, उन्होंने कहा।
​यह भी पढ़ें-

“…नहीं तो 2019 में भाजपा और एनसीपी की सरकार बन जाती”, सुनील तटकरे का बड़ा बयान!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें