24 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमदेश दुनियाभारत जोड़ो से पहले गुलाम हुए "आजाद",अब न्याय यात्रा से पहले देवड़ा

भारत जोड़ो से पहले गुलाम हुए “आजाद”,अब न्याय यात्रा से पहले देवड़ा

दिग्गज नेताओं के पार्टी छोड़ने से राहुल गांधी के सियासी यात्रा का गणित गड़बड़ाया

Google News Follow

Related

राहुल गांधी की आज यानी रविवार को मणिपुर की राजधानी इम्फाल से भारत जोड़ो न्याय यात्रा शुरू हो रही है। जिसका समापन 20 मार्च को मुंबई में होगा। इससे पहले मुंबई के कांग्रेसी नेता मिलिंद देवड़ा ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। इसी तरह से 2022 में भी जब राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा निकालने वाले थे, तभी 11 दिन पहले कश्मीर के कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। दोनों नेताओं ने कांग्रेस का ऐसे समय साथ छोड़ा जब कांग्रेस अपना जनाधार बढ़ाने के लिए जद्दोजहद कर रही थी।

भारत जोड़ो न्याय यात्रा और मिलिंद देवरा

कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा रविवार को मणिपुर की राजधानी इम्फाल से शुरू हो रही है।जिसका नेतृत्व राहुल गांधी करेंगे, इस यात्रा की शुरुआत करने के लिए वे दिल्ली से रवाना भी हो चुके है। यात्रा 15 राज्यों से होकर गुजरेगी। इस यात्रा में 67 दिन लगेंगे और 110 जिलों से गुजरते हुए 6200 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। यह यात्रा 20-21 मार्च को मुंबई में समाप्त होगी। इस यात्रा से पहले मिलिंद देवड़ा ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देकर कांग्रेस के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी। मिलिंद देवड़ा कांग्रेस की केंद्र सरकार में मंत्री रहे हैं। वे 2012 से लेकर 2014 तक संचार और सूचना प्रौद्योगिकी और नौवहन राज्य मंत्री की कुर्सी संभाली थी। इसके अलावा वे मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भी रह चुके हैं। मिलिंद देवड़ा का जन्म मुंबई में ही हुआ है और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मुरली देवड़ा के बेटे हैं।

मिलिंद देवरा का कांग्रेस से क्यों मोहभंग?

मिलिंद देवड़ा को लग रहा कि वे जिस लोकसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं, वह सीट उन्हें इंडिया गठबन्धन से नहीं मिलने वाली है। दरअसल, मिलिंद देवड़ा मुंबई की साउथ लोकसभा सीट से चुनाव लड़ते रहे हैं,जो उनकी पारंपरिक सीट है, उनके पिता मुरली देवड़ा भी इसी सीट से चुनाव लड़ते रहे हैं। उनके बाद, मिलिंद देवड़ा यहां चुनाव लड़ते रहे हैं,लेकिन, मिलिंद देवड़ा को 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। उन्हें अविभाजित शिवसेना के अरविंद सावंत ने दोनों बार हराया। शिवसेना के विभाजन के बाद कांग्रेस, उद्धव गुट और शरद पवार गुट महायुति में है जो इंडिया गठबंधन का हिस्सा है और अरविंद सावंत उद्धव गुट से है, ऐसे में माना जा रहा है कि इस सीट पर अरविंद सावंत की दावेदारी मजबूत होगी। खबर यह भी है कि मिलिंद देवड़ा शिंदे गुट की शिवसेना में शामिल होंगे। इस सीट से उन्हें चुनाव लड़ाया जा सकता है। कहा जा सकता है कि मुंबई दक्षिण सीट पर आगामी लोकसभा चुनाव में शिंदे गुट और उद्धव गुट की शिवसेना में जबरदस्त मुकाबला देखने को मिल सकता है।

भारत जोड़ो यात्रा और गुलाब नबी आजाद

गुलाब नबी आजाद ने कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा शुरू होने से 11 दिन पहले ही उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। यह यात्रा राहुल गांधी के नेतृत्व में 7 सितंबर 2022 को कन्या कुमारी से शुरू हुई थी। जबकि गुलाब नबी आजाद ने 22 अगस्त 2022 को पार्टी से इस्तीफा दिया था। उन्होंने पार्टी छोड़ने पर राहुल गांधी पर जोरदार हमला बोला था। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि राहुल गांधी, राजीव गांधी और इंदिरा गांधी का 50 वां हिस्सा भी नहीं हैं। उन्होंने राहुल गांधी को अपरिपक्व नेता बताया था, उन्होंने कांग्रेस पर यह भी आरोप लगाया था कि वर्तमान में पार्टी का निर्णय सोनिया गांधी नहीं, बल्कि राहुल गांधी के चाटुकार लेते हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर पार्टी में बने रहना है तो रीढ़विहीन बन कर रहना होगा।

देवड़ा और आजाद में समानता!

सबसे बड़ी बात यह कि दोनों नेताओं ने पार्टी तब छोड़ी, जब कांग्रेस राहुल गांधी के नेतृत्व में जनाधार बढ़ाने के लिए संपर्क यात्रा निकालने वाली थी। भारत जोड़ो यात्रा की शुरुआत कन्याकुमारी से हुई थी, लेकिन समापन कश्मीर में 30 जनवरी 2023 को हुआ था। गुलाम नबी आजाद कश्मीर के ही नेता थे, वे कांग्रेस के सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं, वे कश्मीर में कांग्रेस के मुख्यमंत्री रहे हैं। कहा जा सकता है कि आजाद की जड़े कश्मीर से जुडी हुई है। फिलहाल वे अपनी नई पार्टी का गठन किया है। अब मिलिंद देवड़ा की बात करें तो वे मुंबई में पले बढ़े है। यहीं से राजनीति का ककहरा भी सीखा है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का समापन 20 मार्च को मुंबई में होना है। दोनों नेताओं की पार्टी छोड़ना और राहुल गांधी की यात्रा का समापन उसी राज्य में होना यह बड़ा आश्चर्यजनक लगता है ,

ये भी पढ़ें

लाल सागर संघर्ष: क्या बदल जाएगा ऊर्जा आयात का रास्ता?

मिलिंद देवर ने कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दिया; गायकवाड़ ने कहा, ‘पार्टी आपके साथ…’​!

अयोध्या राम मंदिर: विदेशों में राम मंदिर का उत्साह; इस देश ने 22 जनवरी को छुट्टी​ घोषित​! ​

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें